मनोरंजन

Entertainment

मोदी जी अपनी सुरक्षा को लेकर सतर्क रहें – हो सकते है दुर्घटना का शिकार

कुछ लोग एक दूसरे से एक दम विपरीत विचारधारा रखते है, सोच, कार्यशैली और जीवन के सिद्धांत भी एक दूसरे के विपरीत होते है। उन्हें उत्तर दक्षिण की संज्ञा भी दी जा सकती है। विचारधाराएं अलग होने पर भी कई बार जन्म कुंडली में बनने वाले योग काफी हद तक समानताएं रखते है, इस स्थिति में यह प्रश्न विचारणीय हो जाता है, कि किस स्थिति में समान योग रखने वाले व्यक्तियों की जीवनशैली भिन्न हो सकती है। उनके रहने, सोचने, खाने-पीने, पारिवारिक जीवन, वैवाहिक जीवन और अन्य कार्य विपरीत हो सकते है। परन्तु क्या जीवन का अंत या आयु के वर्षों की संख्या भी भिन्न हो सकती है। या जीवन का अंत दोनों का एक समान ही होगा। आज इसी प्रश्न का समाधान तलाशने के लिए हम संजय गांधी और नरेंद्र मोदी जी की कुंडलियों का तुलनात्मक अध्ययन करेंगे।    सत्यता को समझने – जानने का और…

उपासना एवं पर्यावरण संरक्षण का महापर्व है छठ

मुरली मनोहर श्रीवास्तव                         दीपावली के ठीक छह दिन बाद मनाए जाने वाले छठ महापर्व…