कविता

सहजीवन

पत्नी नहीं है वह पर स्वेछा से करती है अपना सर्वस्व न्यौछावर     एक अपार्टमेन्ट की बीसवीं मंजिल पर...

1084 queries in 0.952