कविता

बहराइच

देता है आज भी नया पैगाम बहराइचलगता है आज भी हसीं जवान बहराइच ।खंडहर में यहां के है अजब खूबसूरतीप्राचीनता...

हर वर्ष का एक दिन समर्पित हिन्दी के शुभनाम

---विनय कुमार विनायकहर वर्ष का एक दिन चौदह सितंबरराजभाषा हिन्दी को समर्पितहिन्दी दिवस हिन्दी के शुभनाम,फिर हिन्दी पखवाड़ा मनाना काम!...

बाबा कामिल वुल्के तुम्हें प्रणाम

-----विनय कुमार विनायकबाबा तुलसी के अधुनातन नाम,बाबा कामिल वुल्के तुम्हें प्रणाम! सन् उन्नीस सौ नौ के प्रथम सितंबरयूरोप में जन्मे...

मजहब के नाम पर

---विनय कुमार विनायकओ शिक्षित इस्लामी तालिबानी बुद्धिमानों!तुमने बामियानी बुद्ध की दो हजार वर्ष कीविशालतम प्रतिमाओं व पूर्वजों की विरासतीप्रस्तर मूर्तियों...

क्योंकि तुम मेरे गुरुवर हो…

ज्ञान की गंगा विचार प्रवाह जिज्ञासापूरक उत्साहवर्धक। अप्राप्य के प्राप्य जीवन प्रकाश स्तम्भ अज्ञान संहारक सत्य-असत्य शोधक। अद्भुत प्रकाशपुंज  अज्ञान...

23 queries in 0.365