लेखक परिचय

विपिन किशोर सिन्हा

विपिन किशोर सिन्हा

जन्मस्थान - ग्राम-बाल बंगरा, पो.-महाराज गंज, जिला-सिवान,बिहार. वर्तमान पता - लेन नं. ८सी, प्लाट नं. ७८, महामनापुरी, वाराणसी. शिक्षा - बी.टेक इन मेकेनिकल इंजीनियरिंग, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय. व्यवसाय - अधिशासी अभियन्ता, उ.प्र.पावर कारपोरेशन लि., वाराणसी. साहित्यिक कृतियां - कहो कौन्तेय, शेष कथित रामकथा, स्मृति, क्या खोया क्या पाया (सभी उपन्यास), फ़ैसला (कहानी संग्रह), राम ने सीता परित्याग कभी किया ही नहीं (शोध पत्र), संदर्भ, अमराई एवं अभिव्यक्ति (कविता संग्रह)

Posted On by &filed under कविता.


politics

आओ धरना-धरना खेलें

सत्ता पाये भ्रष्टों के बल,

मुंह तो अब छुपाना है,

मूर्ख बनाओ जी भर-भर के,

धरना एक बहाना है।

जी भर नूरा कुश्ती खेलें,

आओ धरना-धरना खेलें। (१)

झुंझलाकर के सड़क पर बैठें,

मुझे छोड़कर सभी चोर हैं,

एक उठे पराये पर जब,

तीन ऊंगलियां अपनी ओर हैं।

भ्रष्टातंकी पाले चेले

आओ धरना-धरना खेलें। (२)

कहां गई सस्ती बिजली,

कहां गया मुफ़्ती पानी,

कहां गया वह लोकपाल,

कहां गया झूठा दानी?

देखें दिल्ली कब तक झेले

आओ धरना-धरना खेलें। (३)

नगर देहली रोटी सेके,

गाज़ियाबाद में चूल्हा,

बाराती हैं रजधानी में,

गायब रहता दूल्हा।

सड़क जाम लगाये ठेले

आओ धरना-धरना खेलें। (४)

पेट नहीं भरता भाषण से,

दशकों से सुनते आये हैं,

झूठे वादे, झूठे सपने,

अब तक हम इतना पाये हैं।

कड़वा थू-थू, मीठा ले लें

आओ धरना-धरना खेलें। (५)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *