कोरोना खूंखार !


लग जाये जाने कहाँ, कोरोना खूंखार !
रखिए कदम सँभालकर, और’ रहे हुशियार !!
दरवाजे दुश्मन खड़ा, करने को अब वार!
जल्दी में मत कीजिये, लक्ष्मण रेखा पार !!
कुदरत की इस चोट से, सहम गया सन्सार !
मंदिर-मस्जिद बंद है, देव सभी लाचार !!
रुका रहे आवागमन, घर में हो परिवार !
पूर्ण बंद को मानिये, सभी समयानुसार !!
इक दूजे से दूर हो, पर हो मन में प्यार !
यही दवाई जानिए, यही सही उपचार !!
बीतेगा ये दौर भी, सौरभ तू मत हार !
मुरझाये इस बाग़ में, होगी जल्द बहार !!

  • –प्रियंका सौरभ

Leave a Reply

%d bloggers like this: