कोरोना महामारी के निहितार्थ मानसिक स्वास्थ्य चिंताएं

कोरोनोवायरस का प्रकोप मानवीय त्रासदी के इतिहास में बड़ी त्रासदी बनती जा रही है, जिसने अब तक 17 लाख लोगों को प्रभावित कर दिया है लगभग 1 लाख लोग मारे जा चुके है, जबकि हमारे पास अभी इसके रोकथाम का कोई पुख्ता उपाय नहीं है । वैश्विक अर्थव्यवस्था, पर भी इसका प्रभाव बढ़ रहा है। बड़े नुक्सान से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग ही वैश्विक स्तर का प्राथमिक उपाय है जिसके अपने अन्य निहितार्थ भी है। सामाजिक दूरी, मानवीय जीवन में यह शब्द भारी लगता है। लोगों से दूर रहो ! हम अन्य लोगों के पास रहना पसंद करते हैं मनुष्य सामाजिक प्राणी है, हम एक-दूसरे से निकटता के लिए विकसित हुए हैं। तो, यह प्रोटोकॉल स्वैच्छिक रूप से जितना संभव हो किया जाना चाहिए जो आवश्यक हैं, लेकिन मानव स्वभाव हेतु स्वाभाविक नहीं है जिसके आधार पर विभिन्न मानसिक विषमताओं का जन्म होता है । जब आप पूरी तरह से स्वस्थ होते हैं, तो सामाजिक संपर्क न होने से आपकी शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की हानि हो सकती है। यदि आप पहले से ही अवसाद, चिंता और अकेलेपन से ग्रस्त हैं, तो और भी कठिन हैं। कोरोना संक्रमण की विविध चुनौतियाँ हमारे सामने आनी शुरू हो गई है कोरोनोवायरस दुनिया भर में ऐसे फैल चुका है कि लगभग सभी देशों में आपातकाल जैसी स्थिति है, कोविद -19 महामारी से होने वाले पतन और इसके खिलाफ हमारे पास सुरक्षा उपायों ने हमें चिंतित किया हैं, जिस तरह हम अपने शारीरिक स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए तेजी से आगे बढ़ रहे हैं, हमें अपने मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए समान रूप से कार्य करना चाहिए और मनोचिकित्सा देखभाल को सुलभ बनाना चाहिए। इसमें सकारात्मक सीख और सहयोग से हमें आगे बढ़ना ही होगा क्योंकि समय के साथ इसका मनोवैज्ञानिक प्रभाव भी परिलक्षित होंगे जिनसे उबरना हमारे लिए एक चुनौती होने वाली है। यह एक भयावह समय है। दुनिया भर में यह महामारी चिंता का सबब बन चुकी है , शहर गांव सब थम चुके हैं। हम सब कयास लगाए देख रहे हैं और सोच रहे हैं, “आगे क्या होने जा रहा है?” कई लोगों के लिए कोरोनोवायरस से आसपास की अनिश्चितता को संभालना सबसे मुश्किल काम है। हमें नहीं पता है कि हम वास्तव में कैसे प्रभावित होंगे या आगे इसका कितना गंभीर परिणाम हो सकता है , इससे भारी अनिश्चितता और दहशत फैलने का डर बहुत आसान हो जाता है। क्वारेंटाइन में जीवन आपके मानसिक स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है, जिससे अभिघातजन्य तनाव, भ्रम और यहां तक कि क्रोध हो सकता है, किंग्स कॉलेज लंदन के एक नए अध्ययन से पता चलता है कि अप-टू-डेट जानकारी , प्रियजनों के संपर्क में रहना और सोशल मीडिया पर सक्रिय रह कर शोधकर्ताओं का मानना है कि इन नकारात्मक प्रभावों को रोका जा सकता है। लेकिन ऐसी कई चीजें हैं जो आप कर सकते हैं – यहां तक कि इस अनोखे संकट के सामने भी- अपने चिंता और भय को प्रबंधित कर औरों को सहयोग कर सकते है । अचानक से कुछ महीनों में ही यह अकल्पनीय परिस्थिति हमारे लिए , वैश्विक स्तर पर होम क्वारेंटीन और सामाजिक भेद के रूप में हमारे सामने है क्योंकि सरकारें कोरोनोवायरस प्रकोप से लड़ने के लिए ठोस प्रयास कर रही हैं। दुनिया के तमाम देशों में नागरिकों को अपने घरों में रहने के लिए प्रोत्साहित करने या लागू करने के उपायों को वायरस के प्रसार को कम करने के लिए आवश्यक माना गया है, किन्तु इस दौरान लोगों की मानसिक भलाई के लिए निहितार्थ मुद्दों को न हम नजरअंदाज कर सकते है न ही ऐसे मुद्दों पर गंभीरता में कमी की जानी चाहिए। संक्रामक रोग का प्रकोप, चिंताजनक हो सकता है और आपके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। इस समय जागरूक रहना , सूचित रहना महत्वपूर्ण है, ऐसे कई काम हैं जिनका हम ऐसे समय में समर्थन और प्रबंधन कर सकते हैं।यहां कुछ ऐसे टिप्स दिए जा रहे हैं जिनसे हमें आशा है कि आप, आपके दोस्तों और आपके परिवार को मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल करने में मदद मिलेगी जब हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के लिए संभावित खतरों की काफी चर्चा हो रही है। सरकार हमें अनावश्यक सामाजिक संपर्क से बचने की सलाह दे रही है। इसका मतलब यह है कि हम में से अधिक लोग घर पर बहुत समय बिताएंगे और हमारी कई नियमित सामाजिक गतिविधियां अब हमारे लिए उपलब्ध नहीं होंगी। यह आपके जीवन में समय की एक अलग अवधि के रूप में प्रयास करने और देखने में मदद करेगा, और जरूरी नहीं कि यह बुरा हो, भले ही आपने इसे नहीं चुना हो। आप इनमे से कुछ भी महसूस कर सकते है जैसे चिंता बढ़ गई हो , परेशानी लग रही है, अपने आप को लक्षणों के लिए जांच की अत्यधिक चिंता करना, अपने आप में, चिड़चिड़ा हो जाना, असुरक्षित या अशांत महसूस करना , डर कि सामान्य स्वास्थ्य परेशानी भी वायरस हो सकता है, सोने में परेशानी होना, असहाय या नियंत्रण की कमी महसूस करना, तर्कहीन विचार रखना आदि कुछ विचार सामान्य तौर पर आपके दिमाग में आ सकते है इस दौरान अपने मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान कैसे रखें ? यह जानना बेहद जरुरी है , तथ्यों पर आधारित स्थिति का यथार्थवादी परिप्रेक्ष्य रखना महत्वपूर्ण है। यहाँ कुछ तरीके हैं जिनसे आप स्वयं एवं अन्य को समर्थित कर सकते हैं। इस संक्रमण के दौरान सूचित रहें लेकिन समाचार और सोशल मीडिया के लिए सीमा निर्धारित करें, कोरोनो वायरस के बारे में सोशल मीडिया अपडेट और समाचार रिपोर्टों की निरंतर धारा आपको चिंतित महसूस कर सकती है। कभी-कभी तथ्यों को अफवाहों से अलग करना मुश्किल हो सकता है। अपनी खबर पाने के लिए भरोसेमंद और विश्वसनीय स्रोतों का उपयोग करें। सोशल मीडिया पर, लोग अपनी चिंताओं या विश्वासों के बारे में बात कर सकते हैं। आपको उन्हें अपना बनाने की आवश्यकता नहीं है। सोशल मीडिया पर बहुत अधिक समय आपकी चिंता और चिंता के स्तर को बढ़ा सकता है। सोशल मीडिया पर आप कितना समय बिताते हैं, इसे सीमित करने पर विचार करें। यदि आपको लगता है कि कोरोनावायरस पर कवरेज आपके लिए बहुत तीव्र है, तो किसी करीबी के माध्यम से बात करें या समर्थन प्राप्त करें। याद रखें कि किसी के माध्यम से बातें करना चिंता या चिंता को कम करने में मदद कर सकता है। इस स्थिति को प्रबंधित करने के लिए अपने बच्चों को अपनी योजनाओं में शामिल करना महत्वपूर्ण है। विचार करने की कोशिश करें कि वे कैसा महसूस कर रहे हैं। बच्चों और युवाओं को प्रकोप के बारे में बात करने के लिए समय और स्थान दें। उनके साथ तथ्यों को इस तरह साझा करें जो उनकी उम्र और स्वभाव के अनुरूप हो, बिना अलार्म पैदा किए। अपने बच्चों से कोरोनोवायरस के बारे में बात करें लेकिन समाचार और सोशल मीडिया पर उनके संपर्क को सीमित करने का प्रयास करें। यह बड़े बच्चों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है जो अब ऑनलाइन अधिक समय बिता रहे हैं। यह चिंता पैदा कर सकता है। अपने बच्चों से बात करें अच्छे स्वास्थ्य के लिए हमारी योजनाओं में हमारे परिवार और बच्चों को शामिल करना आवश्यक है। हमें उन बच्चों से सावधान रहने और उनसे पूछने की जरूरत है जो उन्होंने प्रकोप के बारे में सुना है और उनका समर्थन करते हैं, बिना अलार्म के।हमें अपने बच्चों पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभाव को कम करना होगा और उन्हें तथ्यों को समझाना होगा। उनके साथ समाचार पर चर्चा करें, लेकिन कोशिश करें और वायरस के कवरेज पर अधिक जोखिम से बचें। जितना संभव हो उतना सच हो। संकट का अनुमान लगाने के लिए जब हम प्रकोप के बारे में खबरें पढ़ते हैं, तो आपको असुरक्षित और अभिभूत महसूस हो सकता है , खासकर अगर आपको अतीत में आघात या मानसिक स्वास्थ्य समस्या का अनुभव हुआ हो , या यदि आपको लंबे समय तक शारीरिक स्वास्थ्य सम्बन्धी स्थिति रही हो जो आपको प्रभावों के प्रति अधिक संवेदनशील बनाती है । ऐसी स्थितियों में इन भावनाओं को स्वीकार करना और हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल करने के लिए एक-दूसरे को याद दिलाना महत्वपूर्ण है। हमें ऐसी आदतों के बारे में भी पता होना चाहिए जो हमें सहज सहायक हो सकती हैं।उन लोगों के संपर्क में रहें और आश्वस्त करें जिन्हें आप जानते हैं कि वे चिंतित हो सकते हैं और उन लोगों के साथ संपर्क में रहें जिन्हें आप जानते हैं कि वे अकेले रह रहे हैं। कोशिश करें कि धारणा न बनाएं लोगों को जज न करें और बीमारी के प्रसार के लिए कौन जिम्मेदार है, इसके बारे में निष्कर्ष पर जाने से बचें। कोरोना वायरस लिंग, जातीयता या सेक्स की परवाह किए बिना किसी को भी प्रभावित कर सकता है।

अजित यादव

Leave a Reply

%d bloggers like this: