दिल और दिमाग

जिंदगी के मसलों के लिए
सिर्फ दिल से लिए गए फैसले अच्छे नहीं होते ।

सिर्फ दिमाग से लिए गए
फैसले भी अच्छे नहीं होते ।

दिल और दिमाग की कसौटी पर कसे गए फैसले
अच्छे होते हैं ।

फिर भी जिंदगी के अनेक फैसले
दिल से ही लिए जाते हैं ,
इनके परिणाम भी सुखद होते हैं ।

सिर्फ दिमाग से लिए गए
अनेक निर्णय भी बहुत अच्छे
साबित होते हैं ।

जिंदगी तराजू नहीं है,
जितना लिया जाए,
उतना दिया भी जाए।

कई बार हम पाते बहुत कुछ हैं
देते कुछ भी नहीं ।
कई बार हम देते बहुत कुछ हैं, हमारे हिस्से आता कुछ भी नहीं।

कई बार बहुत कुछ पाने पर भी, खुशी नहीं मिलती,
कई बार सब कुछ गंवाने पर भी, अपार खुशी मिलती है।

अच्छा निर्णय कौन-सा है ,
बुरा कौन-सा ,
यह तो आने वाला समय,
ही बताता है।

हम तो नियति के हाथ की
कठपुतली हैं,
वह जैसा चाहती है,
हम नाचते हैं ,
वह नचाती है।

इस नाचने, नचाने में
हम बहुत कुछ पाते हैं,
बहुत कुछ गंवाते हैं।

पाने ,गंवाने में
जिंदगी अपनी खर्च कर देते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: