करो न गम की बाते

करो न गम की बाते,आंखो को यू नम न करो |
रखो दिल मे तसल्ली ,यू दिल मे गम न करो ||

पास बैठा हूँ मै तुम्हारे,जरा मुड़ कर तो देखो |
प्यार करती हो मुझको बस उसे कम न करो ||

अभी दम है मेरे प्यार मे,उसे मरा न समझो |
दम मे दम रखो तुम,उसे जरा कम न करो ||

मिट जायेगे गम सारे,जब मिलन होगा तुमसे |
मिलन की करो तैयारी,आशा को कम न करो ||

गम की कोई दवा नही ये,बाजार मे न मिलती |
दिल ही दिल की दवा है,इसे जरा कम न करो ||

आर के रस्तोगी

Leave a Reply

%d bloggers like this: