उम्मीदों के मार्ग पर बढ़ता भारत

modi 1
सुरेश हिन्दुस्थानी
विश्व की महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के दूसरी बार भारत आगमन के चलते जहां सम्पूर्ण विश्व की निगााहें भारत के राजनीतिक कदमों पर टिक गईं हैं, वहीं स्वयं अमेरिका द्वारा भारत के साथ एक मित्र की भांति व्यवहार करने पर भारत की उम्मीदों के मार्ग खुलते हुए दिखाई देने लगे हैं। हालांकि अमेरिका इस बात को भली भांति जानता है कि भारत के पास विश्व को दिशा देने की क्षमता है, लेकिन इस क्षमता का उपयोग अब तक हमारे देश की सरकारें नहीं कर पाईं। वर्तमान में अमेरिका में जिस प्रकार के भारतवंशियों को महत्व के स्थान मिले हुए हैं, इस बात को अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबाता भी जानते हैं। इसलिए भारत की शक्ति का प्रदर्शन को जगजाहिर है। कहते हैं कि भारत की बौद्धिक प्रतिभाएं जिस दिन अमेरिका से भारत चली आएं उस दिन अमेरिका के समक्ष गंभीर संकट की स्थिति निर्मित हो जाएगी।
वर्तमान केन्द्र सरकार ने देश की जनता के समक्ष जो आशाएं जगाईं हैं, वे कपोल कल्पित नहीं कही जा सकती। क्योंकि पूर्व में भारत के लिए जिस राह की तलाश थी, उस राह को न तो ढूढने का प्रयास किया गया और न ही विश्व को इस बात का अहसास कराया गया कि हम भारत हैं। वही भारत जिसने विश्व को ज्ञान दिया, वही भारत जो कभी विश्व गुरू बनकर विश्व का नेतृत्व कर रहा था। इस स्वर्णिम अतीत को भुलाकर भारत को केवल उसी राह पर ले जाया गया, जो अंग्रेजों ने बनाई थी। यानि भारत को इंडिया मानकर ही सरकारों की भूमिकाएं निर्धारित की जाती थीं। वास्तव में इंडिया में स्वत्व का बोध नहीं है। विश्व के देश जो देश जिस भारत से ज्ञान प्राप्त करते थे, वह भारत कहीं खो गया था। आज भारत में एक बार फिर से स्वत्व का जागरण होता दिख रहा है। विश्व के अनेक देश आज के भारत को देखकर अभिभूत हैं, इतना ही नहीं विश्व के अनेक देश आज भारत से दोस्ती करने को व्याकुल दिखाई दे रहे हैं। बराक ओबामा के भारत आगमन से कई प्रकार के निहितार्थ निकाले जा रहे हैं। खुद ओबामा ने कहा है कि भारत के गणतंत्र दिवस पर अतिथि बनकर मैं स्वयं को सम्मानित महसूस कर रहा हूं। भारत के पड़ौसी देश पाकिस्तान आतंक फैलाने की योजना बनाकर कई ऐसे प्रयास किए कि ओबामा का दौरा रद्द हो जाए, या फिर भारत के साथ पाकिस्तान का भी दौरा करें। लेकिन भारत दौरे से पूर्व बराक ओबामा ने पाकिस्तान को यह साफ संकेत कर दिया था कि पाकिस्तान, भारत में आतंक फैलाना बन्द करे, या फिर अंजाम भोगने को तैयार रहे। ओबामा की इस धमकी का पाकिस्तान पर कितना असर हुआ होगा यह तो भविष्य में देखने को मिलेगा, लेकिन भारत की सीमा पर ओबामा की भारत यात्रा के दिनों में भी गोलाबारी की गई। जिससे यह तो स्पष्ट हो ही जाता है कि पाकिस्तान आतंक फैलाने के मुद्दे पर अपनी नीतियों में कोई परिवर्तन लाने वाला नहीं है। इसके विपरीत महाशक्ति अमेरिका के राष्ट्रपति अपनी भारत यात्रा के दौरान कई जगह भारतीयता के रंग में दिखाई दिए, राजघाट पर जब महात्मा गांधी की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद बराक ओबामा ने पीपल के पेड़ के प्रति जो सम्मान प्रदर्शित किया, वह भारतीयता का प्रभाव ही है, इसके पश्चात ओबामा ने भारतीय परंपरानुसार हाथ जोड़कर अभिवादन किया। इन दोनों भावों को देखकर यह कहा जा सकता है कि ओबामा के जीवन पर भारत के दर्शन की गहरी छाप है। इससे पूर्व जब पालम विमान तल ओबाम की स्वागत परंपरा चल रही थी, ओबामा ने भारत के प्रधानमंत्री को खींचकर गले लगा लिया। यह प्रसंग भी एक मायने में हाय हैलो से बढ़कर ही है। ओबामा के भारत आगमन और दोस्ताना व्यवहार से निश्चित ही भारत की धाक बढ़ी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तो वह कई बार तारीफ कर चुके हैं। इस सबसे यह बात तो तय है कि भारत के लिए फिर से उम्मीदों के मार्ग खुले हैं और भारत एक बार फिर महाशक्ति बनने की दिशा में अपने कदम बढ़ा रहा है।
ओबामा का आगमन जहां भारत और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की धाक में कूटनीतिक सफलता वाला कदम है, वहीं भारत के दुश्मन देश चीन और पाकिस्तान की चिन्ता बढ़ाने वाला कदम भी है। इन दोनों देशों ने यह कभी नहीं सोचा होगा कि अमेरिका भारत के साथ दोस्ताना व्यवहार करेगा। इससे विश्व जगत में यह भी संदेश प्रसारित हुआ है कि भारत आज एक ऐसी उभरती हुई शक्ति के रूप में अवतरित हो रहा है, जिसका मुकाबला करना आसान नहीं है। यह सत्य है कि अभी तक भारत की शक्ति बिखरी हुई दिखाई देती है, जिसमें सामूहिकता का अभाव साफ दिखता था, लेकिन मोदी ने इस बिखरी हुई शक्ति को सांघिकता प्रदान की है। अप्रवासी भारतीयों का दिल शत प्रतिशत भारत के लिए धड़कने लगा है। विश्व में स्थापित पदों पर कार्यरत भारतीयों के मन में यह भाव जाग्रत हुआ है कि वे भारत के भी हैं। इसे सीधे तौर पर कहा जाए तो यही कहना होगा कि विश्व का हर कोना आज भारत को उभारने में सहयोग करने के लिए खड़ा हो गया है। ऐसे में यह भी स्पष्ट है कि जब इस प्रकार का भाव पैदा हुआ तो तब भारत की प्रगति को कौन रोक सकता है। इस बात को भले ही किसी ने नहीं समझा हो, लेकिन अमेरिका इस सत्य को पूरी तरह जान चुका है कि भारत को अपने स्वत्व का ज्ञान हो चुका है और आने वाला समय भारत का है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

* Copy This Password *

* Type Or Paste Password Here *

13,042 Spam Comments Blocked so far by Spam Free Wordpress