लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़.


अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के तीन दिवसीय ५७ वें राष्ट्रीय अधिवेशन का उद्घाटन कार्यक्रम आज तालकटोरा स्टेडियम, नई दिल्ली में संपन्न हुआ.

विस्तृत समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें:

pd f Hindi Press Note

3 Responses to “गीता और गाँधी के पुनः स्मरण से विश्वगुरु बनेगा भारत : न्यायमूर्ति लाहोटी”

  1. आर. सिंह

    R.Singh

    शीर्षक ने आकृष्ट किया तो स्वाभाविक था कि मैं विस्तृत विवरण की खोज करता.वह तो मिला नहीं.पर शीर्षक पढ़ कर मैं इतना ही कह सकता हूँ कि भारत को आज अवश्य आवश्यकता है गाँधी और विवेकानंद को न केवल स्मरण करने की,बल्कि उनके द्वारा बताये हुए मार्ग पर चलने की,पर क्या बाकई हम उसके लिए तैयार हैं?
    Reply · Like · Unfollow Post · 8 hours ago

    Reply
  2. आर. सिंह

    R.Singh

    शीर्षक ने आकृष्ट किया तो स्वाभाविक था कि मैं विस्तृत विवरण की खोज करता.वह तो मिला नहीं.पर शीर्षक पढ़ कर मैं इतना ही कह सकता हूँ कि भारत को आज अवश्य आवश्यकता है गाँधी और विवेकानंद को न केवल स्मरण करने की,बल्कि उनके द्वारा बताये हुए मार्ग पर चलने की,पर क्या बाकई हम उसके लिए तैयार हैं?

    Reply
  3. आर. सिंह

    R.Singh

    शीर्षक ने आकृष्ट किया तो स्वाभाविक था कि मैं विस्तृत विवरण की खोज करता.वह तो मिला नहीं.पर शीर्षक पढ़ कर मैं इतना ही कह सकता हूँ कि भारत को आज अवश्य आवश्यकता है गाँधी और विवेकानंद को न केवल स्मरण करने की,बल्कि उनके द्वारा बताये हुए मार्ग पर चलने की,पर क्या बाकई हम उसके लिए तैयार हैं?

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *