लेखक परिचय

डॉ. सुभाष राय

डॉ. सुभाष राय

जन्म जनवरी 1957 में उत्तर प्रदेश में स्थित मऊ नाथ भंजन जनपद के गांव बड़ागांव में। शिक्षा काशी, प्रयाग और आगरा में। आगरा विश्वविद्यालय के ख्यातिप्राप्त संस्थान के. एम. आई. से हिंदी साहित्य और भाषा में स्रातकोत्तर की उपाधि। उत्तर भारत के प्रख्यात संत कवि दादू दयाल की कविताओं के मर्म पर शोध के लिए डाक्टरेट की उपाधि। कविता, कहानी, व्यंग्य और आलोचना में निरंतर सक्रियता। देश की प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिकाओं, वर्तमान साहित्य, अभिनव कदम,अभिनव प्रसंगवश, लोकगंगा, आजकल, मधुमती, समन्वय, वसुधा, शोध-दिशा में रचनाओं का प्रकाशन। ई-पत्रिका अनुभूति, रचनाकार, कृत्या और सृजनगाथा में कविताएं। अंजोरिया वेब पत्रिका पर भोजपुरी में रचनाएं। फिलहाल पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय।

Posted On by &filed under विज्ञान.


-डॉ.सुभाष राय

भगवान एक ऐसी कल्पना है, जो हमारे संस्कारों में इस तरह बसी हुई है, कि अनायास उसकी असम्भाव्यता के बारे में नास्तिक भी पूरी तरह आश्वस्त नहीं होता। नास्तिक जब कहता है कि भगवान नहीं है, तो वह प्रकारांतर से यह स्वीकार कर रहा होता है कि बहुलांश का विश्वास है कि वह है क्योंकि वह किसी भी तरह प्रमाणित नहीं कर सकता कि भगवान नहीं है। यही समस्या विज्ञान के साथ भी है। वह भगवान को नहीं मानना चाहता है, पर उसके पास अभी तक ऐसी कोई विधि या तकनीक नहीं है, जिससे वह इसे प्रमाणित कर सके कि भगवान वास्तव में नहीं है।

भगवान है या नहीं, यह बहस बहुत पुरानी है। शायद उतनी ही पुरानी, जितनी पुरानी आदमी के जन्म की कथा। पहला मनुष्य कब जन्मा होगा, इस बारे में दुनिया के अलग-अलग धर्मों में तमाम मिथकीय कथाए हैं, पर ऐतिहासिक या पुरातात्विक प्रमाण के बिना उन्हें विश्वास पर आधारित कल्पना के अतिरिक्त कुछ और कहना मुश्किल है। डार्विन के विकासवाद ने इस सवाल को ही निरर्थक बना दिया है। आदमी के पूर्वज बंदर या रीछ रहे होंगे और जरूरत एवं परिस्थितियों के अनुसार धीरे-धीरे आदमी के रूप में विकसित हुए होंगे। ऐसे में विकास की किस अवस्था में बंदर आदमी बन गया होगा, यह तय करना बहुत कठिन होगा। आदिम काल के बाद धीरे-धीरे मनुष्य ने अपने को व्यक्त करने के लिए माध्यम की तलाश की होगी और इस क्रम में उसने भाषा इजाद की होगी। अपने चारों ओर फैले रहस्यों को समझने के लिए जैसे-जैसे उसने प्रकृति की विभिन्न ताकतों से मुठभेड़ की होगी, या तो वह सफल हुआ होगा या असफल। ऐसी हर सफलता ने उसके जीवन को और आसान बनाया होगा और हर असफलता ने उसे किसी ज्यादा ताकतवर और रहस्यमय अस्तित्व की कल्पना के लिए विवश किया होगा। शायद यही बाद में भगवान की अवधारणा के रूप में सामने आया होगा। इस तरह भगवान केवल विश्वास का विषय है और इसीलिए इस पर विश्वास न करने की छूट भी हर किसी को मिली हुई है।

चूंकि दुनिया के लगभग सभी हिस्सों में आदमी के विकास की प्रक्रिया कमोबेश एक जैसी रही होगी, इसलिए सबने अपने-अपने भगवान गढ़ लिए। एशियाई महाद्वीप में कई अति प्राचीन सभ्यताएं होने के कारण यहां दर्शन और चिंतन विश्व के अन्य हिस्सों से पहले विकसित हुआ और अलग-अलग चिंतन स्कूलों ने अपने लिए अलग-अलग भगवान भी रच लिये। उनके महिमामंडन की हजारों साल लंबी प्रक्रिया के बाद भगवान ने हमारी सामाजिक संरचना में एक महत्वपूर्ण जगह बना ली। जिन कुछ लोगों ने कभी-कभी भगवान को तर्क पर कसने की कोशिश की या उसके होने पर सवाल उठाया, उन्हें इसकी छूट तो दी गयी लेकिन उन पर भरोसा नहीं किया गया। भगवान का होना इसलिए सुविधाजनक था क्योंकि जो भी अव्याख्येय था, रहस्यमय था, समझ में नहीं आने लायक था, उसे एक ऐसे भगवान की केंद्रीय सत्ता समझने में मदद करती, जो सर्वज्ञ, सर्वगुणसम्पन्न, सर्वातिशायी है, जो सब कुछ रचता है और फिर उन्हें विनष्ट कर अपने भीतर समेट लेता है।

विज्ञान न भगवान को स्वीकार करता है, न ही अस्वीकार। यह विज्ञान के लिये विचार का विषय ही नहीं है। विज्ञान उन सत्यों की तलाश करता है, जो पहले से ही हैं, अपना काम कर रहे हैं पर हम उनके बारे में नहीं जानते। गुरुत्व न्यूटन के आने से पहले भी था, पहले भी सेब के फल डाली से टूट कर जमीन पर ही गिरते थे, आसमान में नहीं जाते थे। लोगों को सेब खाने से मतलब था, किसी ने भी इस सहज गति पर सोचने की कभी जरूरत नहीं महसूस की कि सेब आखिर नीचे ही क्यों गिरता है, वह चन्द्रमा की ओर क्यों नहीं चला जाता। ऐसे सवाल पर सोचना तब मूर्खता ही कही जाती पर वैज्ञानिक ऐसी ही मूर्खताओं में नये सूत्र खोज लेते हैं। न्यूटन ने ही सबसे पहले हमें बताया कि पृथ्वी में गुरुत्वाकर्षण की शक्ति है, जिससे हर वस्तु सहज रूप से ऊपर से नीचे की ओर गिरती है। इसी तरह बादल करोड़ों साल से चमकते, तड़कते आ रहे हैं। कवियों ने इस प्राकृतिक घटना पर खूब लिखा, पर कभी किसी ने इस पर नहीं सोचा कि आखिर बादलों में बिजली क्यों पैदा हो जाती है। बिजली है तो है, भगवान ने रचा है, इस पर क्या सोचना? पर नहीं, विज्ञान ऐसे किसी चीज को नहीं मानता है। वैज्ञानिक हर घटना का पर्यवेक्षण करता है, परीक्षण करता है, कारण जानने के लिये प्रयोग करता है और सच का पता लगाता है। फ्रेंकलिन रूजवेल्ट नहीं आते तो कौन बताता कि बादल विद्युताविष्ट क्यों रहते हैं।

आस्थावादी, धार्मिक लोगों के लिये कारण नहीं कार्य का ही महत्व है। कारण तो एकमात्र भगवान है ही। सूर्य प्रकाश देता है, भगवान की कृपा से, ग्रह, नक्षत्र, तारे गतिमान हैं, फूल खिलते हैं, बीज से वृक्ष उगता है, सागर में ज्वार-भाटा आता है, ज्वालामुखी फटता है, सब भगवान की माया है। पर विज्ञान के काम करने का तरीका अलग है। वह अपने भीतर हमेशा एक बड़ा क्यों लेकर चलता है और उसका उत्तर चाहता है। यही क्यों उसे परिणाम के कारण तक ले जाता है। वह इस खोज में तब तक अनेक परिकल्पनायें करता है और फिर उनका परीक्षण करता है, जब तक कि उसे सही उत्तर न मिल जाये। धर्म की विज्ञान से कोई लड़ाई नहीं है, क्यों कि मूलतः धर्म और जीवन मूल्य विज्ञान के विषय हैं ही नहीं। वह इस पर कोई निर्णय नहीं दे सकता कि लोग सच क्यों नहीं बोलते या लोग नैतिक क्यों नहीं हैं या ज्यादातर लोग भ्रष्ट क्यों हैं। ये समाज विज्ञान, मनोविज्ञान और दर्शन शास्त्र के विषय हैं, विज्ञान के नहीं। इसी तरह भगवान भी विज्ञान के लिये विचारणीय नहीं है। एक धर्मज्ञ आसानी से कह देगा कि भगवान सर्वत्र है, सर्वज्ञानी है, सर्वातिशायी है, समूचे ब्रह्मांड में व्याप्त है। एक अभौतिक और अमूर्त सत्ता का परीक्षण कैसे हो? और अगर सम्पूर्ण ब्रह्मांड में व्याप्ति को उसकी भौतिक सत्ता के रूप में देखा जाय तो उसका परीक्षण वह कैसे कर पायेगा जो उस सत्ता के भीतर है। कुछ अति भावुक लोग भगवान के सगुण रूप की कल्पना करते हुए दिखायी पड़ते हैं और उसके दर्शन का दावा भी करते हैं पर वह नितांत व्यक्तिगत मामला है, इसलिये ऐसे दावों पर भरोसा करना मुश्किल है। कोई भी घटना जब तक मूर्त नहीं होती, भौतिक रूप से घटिल नहीं होती, तब तक वह कल्पना से ज्यादा कुछ नहीं है और कल्पनायें हमेशा सच हों या सबके अनुभव में समान रूप से आयें, ऐसा सम्भव नहीं है, इसलिये उनकी कोई वैज्ञानिकता नहीं है।

भगवान एक ऐसी ही कल्पना है, जो हमारे संस्कारों में इस तरह बसी हुई है, कि अनायास उसकी असम्भाव्यता के बारे में नास्तिक भी पूरी तरह आश्वस्त नहीं होता। एक नास्तिक जब कहता है कि भगवान नहीं है, तो वह प्रकारांतर से यह स्वीकार कर रहा होता है कि बहुलांश का विश्वास है कि वह है क्योंकि वह किसी भी तरह प्रमाणित नहीं कर सकता कि भगवान नहीं है। यही समस्या विज्ञान के साथ भी है। वह भगवान को नहीं मानना चाहता है, पर उसके पास अभी तक ऐसी कोई विधि या तकनीक नहीं है, जिससे वह इसे प्रमाणित कर सके कि भगवान वास्तव में नहीं है। वैज्ञानिकों ने ब्रह्मांडीय मेधा (कास्मिक इंटेलिजेंस) की जो कल्पना की वह भी भगवान की कल्पना से बहुत भिन्न नहीं है, क्योंकि वे यह नहीं बता सकते कि आखिर इस महामेधा के पीछे कौन है, अगर यह कार्य है, परिणाम है तो इसका कारण क्या है।

विश्वप्रसिद्ध वैज्ञानिक स्टीफन हाकिंग अपने समय के सबसे ख्यातनाम भौतिक विज्ञानी हैं। वे कुछ कहते हैं तो समझा जाना चाहिये कि उसका कुछ मतलब है। यद्यपि उन्होंने अपनी किताब अ ब्रीफ हिस्ट्री आफ टाइम में पहले भी यह कहा था कि बिग बैंग से ब्रह्मांड के निर्माण की प्रक्रिया में भगवान की कोई भूमिका नहीं हो सकती लेकिन अगर भगवान की कोई भूमिका होगी भी तो वह बिगबैंग के क्षणांश मात्र में इस तरह अनुस्यूत होगी कि उसके होने का कोई अर्थ नहीं होगा। चूंकि ब्रह्मांड की उत्पत्ति को भौतिक विज्ञान के सिद्धांतों से समझा जा सकता है, इसलिये यहां भगवान की मौजूदगी की कोई जरूरत नहीं लगती। अ ग्रैंड डिजाइन नामक अपनी नयी पुस्तक में उन्होंने अपनी उन्हीं स्थापनाओं को और तार्किक ढंग से रखने की कोशिश की है। उनका कहना है कि भौतिक विज्ञान के सिद्धांत यह साबित करते हैं कि प्रारंभ में जब कुछ नहीं था, तब भी गुरुत्व था और वही कारक हो सकता है ब्रह्मांड के निर्माण का। शून्य में से ब्रह्मांड के प्रस्फुटन के लिए लगता नहीं कि किसी भगवान को चाभी घुमाने की जरूरत रही होगी। पर वे ब्रह्मांड की उत्पत्ति शून्य से नथिंगनेस से नहीं मानते। कुछ था और उस कुछ में से बहुत कुछ या सब कुछ निकला। वे यह नहीं बताते कि आहिर गुरुत्व कहां से आया। किसी भी वैज्ञानिक ने पहली बार भगवान के वजूद को इस तरह चुनौती दी है। उनकी इस धारणा के बीज उनके प्रारंभिक जीवन में ही पड़ गये थे। उनकी मां इसाबेला 1930 में कम्युनिस्ट पार्टी की सदस्य रही थीं और साम्यवादी चिंतन को लगभग नास्तिक चिंतन माना जाता है पर अपने शुरुआती विचारों में हाकिंग न तो नास्तिक दिखते हैं, न आस्तिक। वे न तो भगवान की संभावना में विश्वास करते हैं, न ही उसकी असंभावना में।

विज्ञान को भगवान से कोई मतलब होना भी नहीं चाहिए क्योंकि यह बहस दर्शन के क्षेत्र की है। मूल्य, चरित्र, धर्म और नैतिकता तय करने का काम दर्शन करता है, विज्ञान नहीं। विज्ञान तो प्रायोगिक सत्यों का उद्घाटन करता है और उन्हें जीवन की उपयोगिता से जोड़ता है। विज्ञान के कदम जहां-जहां पड़ते जाते हैं, भगवान स्वयं ही वह इलाके छोड़कर हट जाता है। कल तक जो बहुत सी चीजें असंभव मानी जाती थीं, विज्ञान ने आज उन्हें संभव कर दिया है। अब वहां भगवान की कोई जरूरत नहीं रह गयी। पर जहां विज्ञान का उजाला अभी तक नहीं पहुंच सका है, उस अंधेरे में टिकने का कोई सहारा तो चाहिए। आदमी ने अपनी निरुपायता में भगवान को गढ़ा है, जब उसकी शक्ति, उसका संकल्प, उसकी मेधा पराजित हो जाती है तब वह भगवान को याद करता है। भगवान उसकी मदद के लिए आये या न आये पर उसकी अमूर्त और काल्पनिक उपस्थिति से मनुष्य को शक्ति मिलती रही है। वैज्ञानिक के जीवन में भी ऐसे क्षण आते हैं। वह कभी यह कह सकने की स्थिति में नहीं हुआ, न ही शायद होगा कि कुछ भी ऐसा नहीं, जो वह न कर पाये। सवाल है कि जो वे नहीं कर सकते या नहीं कर पा रहे हैं, वह कौन करता है? वैज्ञानिकों ने भगवान के होने, न होने पर ज्यादा बहस नहीं की। बल्कि कइयों ने तो यह स्वीकार किया कि कोई न कोई ब्रह्मांड मेधा तो है, जो अगणित ग्रह, तारा, नक्षत्र मंडलों को संतुलित रखती है, जो फूलों को खिलाती है, महकाती है, जो सृजन और ध्वंस का भी नियमन करती है। उसे बेशक भगवान न कहो, कोई भी नाम दे दो क्या फर्क पड़ता है।

अनेक वैज्ञानिकों को हाकिंग की घोषणा पर आपत्ति है। उनका कहना है कि विज्ञान को सांप्रदायिक नहीं होना चाहिए। उसे आने वाली नस्लों को यह मौका नहीं देना चाहिए कि वह विज्ञान का सहारा लेकर अपने नास्तिवाद को मजबूत कर सके। यह विज्ञान का न तो धर्म है, न ही उसके काम करने का तरीका। इससे विज्ञान की प्रामाणिकता पर भी लोग ऊंगलियां उठायेंगे क्योंकि विज्ञान कभी भी कोई ऐसी बात नहीं कहता, जिसे वह प्रमाणित न कर सके। यह सच है कि विज्ञान के पास कोई ऐसा साधन नहीं है, जिसके माध्यम से वह यह साबित कर सके कि भगवान है। इसी तरह वह यह भी सिद्ध नहीं कर सकता कि भगवान नहीं है। फिर तो किसी भी वैज्ञानिक का यह कहना नितांत अवैज्ञानिक होगा कि भगवान नहीं है या उसकी ब्रह्मांड की रचना में या उसके विस्तार में कोई भूमिका नहीं है। यह निश्चित है कि हाकिंग ने जो बहस छेड़ी है, उस पर आने वाले समय में धर्मविज्ञानियों और शुद्ध विज्ञानियों के बीच गम्भीर विमर्श होगा, पर इस बार भी शायद कोई निष्कर्ष न निकले। ऐसे समय में जब विज्ञान ब्रह्मांड की उत्पत्ति के समय निकले परमाणु से भी लघु, बल्कि लघुतम कणों की तलाश कर रहा है, यह बहस रोचक होगी। आप जानते हैं उन कणों को विज्ञान क्या कहता है? गाड पार्टिकिल्स, भगवत्कण। शायद इस खोज में अस्ति और नास्ति का मिलन बिन्दु हाथ लग जाये, धर्म और विज्ञान में कोई साम्यमूलक सूत्र हाथ लग जाये।

11 Responses to “अवैज्ञानिक क्यों हो गये हाकिंग?”

  1. Neeraj

    मेरा माना है की जो विज्ञानं कहते है और जो धर्मों कहते है ये दोना एक ही बात है क्योकि विज्ञानं कहती है की ब्रह्मांड भौतिक की नियम से बना है और धर्मों के कहते है की ब्रह्मांड भगवान ने बनाया है जैसे की धर्मों के लोग कहते है की भगवान तो शक्तिशाली है उनका कोई रूप नही उनका कोई आकार नही है ऐसे ही विज्ञानं कहती है की ब्रह्मांड भौतिक की नियम से बना है जैसे
    गुरुत्वाकर्षण बल बताते है तो बात यहाँ पर आती है की गुरुत्वाकर्षण बल भी तो शक्तिशाली है इसका भी तो कोई रूप आकार नही है/

    Reply
  2. गिरीश पंकज

    girish pankaj

    एक अरसे बाद ईश्वर की सत्ता को लेकर इतने गंभीर विमर्शो से भरा लेख पढ़ा. मान गया सुभाष जी को. ईश्वर का अस्तित्व है या नहीं यह तो कहा नहीं जा सकता , मगर मुझे लगता है कि कोई अदृश्य सत्ता ज़रूरर है जिसके कारन दिनया संचालित है. वह हूबहू ईश्वर जैसी अवधारणा वाला भले न हो, पर कुछ तो है जो हमें याद आता रहा हो. मेरा एक शेर है— ”जीने का सामान मिल गया/ पत्थर में भगवान मिल गया”. भगवान् पत्थर में भी मिल सकता है. विशवास की बात है. हाकिंग अवैज्ञानिक नहीं हुए है. वे अपनी जगह सही हैं. बिलकुल बहस रोचक होगी। आपने शुरुआत कर ही दी है.

    Reply
  3. shishir chandra

    राइ जी आपने काफी मेहनत करी है. मेरा मन्ना है वस्तुतः हर कोई ही नास्तिक है. तर्क के कसौटी की बात है तो नास्तिकता के सामने भगवन कहीं नहीं ठहरती. यह सही है की नास्तिकता, भगवन के सन्दर्भ में ही कही जाती है. लेकिन नास्तिकों की संख्याबल भी कम नहीं है. आस्तिकों में भी भरी मतभेद है. बल्कि मै तो कहूँगा का कुछ आस्तिक सिर्फ ज्ञान की रौशनी को नहीं देख पाते. जबकि नास्तिक को ज्यादा अच्छी समझ होती है. दुनिया में नास्तिकों की संख्या लगातार बढती रहेगी. सिर्फ कट्टरपंथी ही आस्तिक रह जायेंगे. और ये कट्टरपंथी दुनिया के लिए खतरा हैं. मैं तो चाहूँगा धर्मों को मानवता की शिक्षा सिर्फ नास्तिक ही दे सकता है या फिर एक हिन्दू. इस्लाम धर्म तो अभी अँधा युग में जी रहा है. ऐसे धर्म मानवता के दुश्मन हैं और लेखकों को ऐसे निरर्थक धर्म के आधुनिकीकरण या विनाश पर अपनी उन्र्जा खर्च करनी चाहिए, बनिस्बत नास्तिकता को गलत या सही ठहराने के.

    Reply
  4. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. प्रो. मधुसूदन उवाच

    मानवीय बुद्धि केवल ५ बाह्य इंद्रियोंपर आधारित है। इससे अतिरिक्त २ आंतर इंद्रियां मन और बुद्धि मानवको है। फिर भी यह सारी finite सीमित ही है। अब कुल ७ इंद्रियों की इकाइयों से जो ज्ञान प्राप्त होगा, व ज्ञान इंद्रियां सीमित (७) होनेसे वह ज्ञान भी सीमित ही होगा।
    विश्वका Potential ज्ञान असीमित है, infinite है, वह ज्ञान finite ५ या ७ इंद्रियों द्वारा प्राप्त कैसे हो?
    मान लीजिए के हमें ४ ही (आंखे नहीं होती) इंद्रिया होती, तो ४ इंद्रियोंपर आधारित ज्ञान और भी (कम) मर्यादित होता।
    और ६, ७ या ८ इंद्रियां होती, तो हमारा ज्ञान जो हमें ज्ञात- ज्ञान है, उससे भी कई ज्यादा ज्ञान होता। Infinite हमेशा finite से ज्यादा ही होगा।
    अर्थात ==>तर्क और विज्ञान के आधारसे , इश्वरके अस्तित्वका प्रश्न हमेशा अनुत्तरित ही रहेगा। यह श्रद्धा और स्वानुभव का विषय है। स्वानुभव न प्रयोगशालामें सत्यापित किया जा सकता है, न तर्कके आधारपर। यह मेरी मान्यता है।

    Reply
  5. अविनाश वाचस्‍पति

    अविनाश वाचस्‍पति

    अगर इंसान वापिस बंदर और रीछ बनने लगे तो विज्ञान की जरूरत जरूर पड़ेगी और वहां पर भगवान भी चाहिए ही होगा। सेब टूटकर वापिस उड़ने लगा अब तो कोई हैरानी नहीं होगी क्‍योंकि यह इंसान का कारनामा ही होगा। वो तो आजकल मोटर फिट कर देगा और मामला यह खुद ही हिट हो जाएगा। अब विज्ञान इतना समर्थ हो रहा है कि भगवान को भी हतप्रभ कर सकता है। अब करेगा या नहीं करेगा। कैसे बतलायें, चलो किसी भगवान से पूछ कर आयें या हम भी हाकिंग की क्‍लास में घूम आयें। कौन कौन चलना चाहेगा साथ मेरे।

    Reply
  6. Anil Sehgal

    “अवैज्ञानिक क्यों हो गये हाकिंग?” — डॉ.सुभाष राय

    (१) कानून में जिसको जो सिद्ध करना होता है उसका प्रमाण देना होता है. इसके अपवाद अब होने लगे हैं; परन्तु यह अपवाद ही हैं. विधि यह है कि प्रमाण प्रस्तुत करो जिसे मनवाना है.

    (२) विज्ञान को वही मान्य है जिसे प्रयोग द्वारा सिद्ध किया जा सकता है.

    (३) वैज्ञानिक को यह नहीं कहा जा सकता कि वह सभी स्वीकार करे जिसे वह प्रयोग द्वारा / प्रमाण द्वारा उसके अस्तित्व के न होने का प्रमाण प्रस्तुत नहीं कर सकता.

    (४) विज्ञानं के विद्यार्थी डाक्टरेट का थीसिस दाखिल करने से पूर्व मंदिर में माथा टेक कर जाते दिखते हैं; भगवान से थीसिस स्वीकार होने की कामना के साथ – यह वास्विकता है; आस्था का मामला है.

    (५) बाक़ी टाइम पास है.

    Reply
  7. आर. सिंह

    R.Singh

    डाक्टर राय आप पहले ही की तरह इस बार भी अपने आप में पूर्ण नजर आयेऔर भगवान् पर आपकी मीमांसा भी कमसे कम मेरी निगाह में सही ही है.न्यूटन कोतो पता नहीं भगवान् के मामले में दखल देने की आवश्यकता पड़ी थी या नहीं,पर आइन्स्टाइन को अवश्य इस प्रश्न का सामना करना पडा था और उनके विचारों से भी आपलोग अवगत हैं की भगवान् को मानने का कोई कारण तो नहीं दीखता,पर अगर वह है भी तो उसका वह रूप तो नहीं हो सकता की आप उसकी थोड़ी अर्चना पूजा कर दे तो वह खुश होकर आपको वरदान द्वारा कुछ से कुछ बनादे या पूजा न करने पर आप से नाराज होकर आपको तबाही की और ले जाये.किसी भी वैज्ञानिक के लिए भगवान् का अस्तित्व या अस्तित्व विहीनता सिद्ध करना कठिन भी है और उसके कार्य क्षेत्र से एक तरह से बाहर भी है,पर अगर कोई वैज्ञानिक इस पर विचार करता है तो आप उसे रोक भी नहीं सकते और न यह कह सकते हैं की उसे वैसा नहीं करना चाहिए.मेरे विचार से अब समय आगया है की इस बात पर व्यापक वहस होनी चाहिए की क्या सचमुच में भगवान है?अगर है तो उसका वास्तविक स्वरुप क्या है ?जिस तरह बहुत पहले अपने कवच के रूप में इस्तेमाल करने के लिए इंसान ने भगवान् का आविष्कार कर लिया था आज उसी तरह समय आगया है की या तो उसके अस्तित्व को एकदम भुला दियाजाये या उसके एक ऐसे स्वरुप को मान्यता दी जाये जो कण कण में विराजमान हो.मैं आस्तिको की भाषा में कह रहाहूं की भगवान् कण कण में विराजमान है.जैसा की तुलसीदास ने भी लिखा है की सियाराम मैं सब जग जानी,करों प्रणाम जोरी युग पानी.तब प्रश्न कहाँ उठता है की हम मंदिर मस्जिद विवाद में फंसे और अगर भगवान नहींहै,जैसा की नास्तिकों का कथन है तो यह विवाद अपने आप ख़त्म हो जाता है.

    Reply
  8. राहुल सिंह

    मामला भगवान का हो या भूत का, विज्ञान उसे न स्वीकार करता है, न ही अस्वीकार. दो कारणों से- क्‍योंकि इनका होना/न होना, प्रयोगसिद्ध होना चाहिए और क्‍योंकि ये निजी आस्‍था से जुड़ा है, इसलिए अपने तईं मानने और अभिव्‍यक्‍त करने की छूट सबको होनी ही चाहिए, लेकिन उसे अन्‍य पर लादा नहीं जा सकता. चन्‍द्रमा से आर्मस्‍ट्रांग का रिश्‍ता जानने/मानने वालों का ही प्रतिशत कितना होगा. वैसे आपका धीरज और संतुलन विषय के प्रति न्‍याय करता है, पूरे लेख को पठनीय और सार्थक बनाता है.

    Reply
  9. श्रीराम तिवारी

    shriram tiwari

    जब तलक मानव ,
    असुर देव दानव ,
    नहीं दे सकते -प्राणी मात्र को अभयदान .
    जब तलक हावी है -निर्बलों पर बलवान .
    जब तलक काबिज है श्रम पर -धनवान .
    जब तलक पूरे नहीं होते –
    श्रीराम -मोहम्मद -गौतम –
    गाँधी के अरमान .
    जब तलक मार्क्स -लेनिन -हो चीन मिंह –
    और शहीद भगतसिंह के विचार –
    नहीं चढ़ते परवान ..
    तब तक ,पेड़ों में ,पहाड़ों में
    गिरी कंदराओं में ,
    मंदिरों -मस्जिदों -गिरजाघरों में –
    लोगों के दिलो दिमाग में -ईश्वर को जिन्दा रहने दो .
    ,काली अन्धयारी रातों में ,
    भय के भूतों को डराने का –
    काल्पनिक विजूका ही सही -उसे जिन्दा रहने दो .
    हे स्टीफन हाव्किंस -ईश्वर तो तारणहार -नैया खेवन हार ,
    उसे मत मारो -अभी इसकी सख्त जरुरत है ,
    मत मारो -ईश्वर को मत मारो

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *