एक विरहणी के अंगो का हाल

0
230

आर के रस्तोगी   


मस्तिष्क अब घूम रहा है, हर तरफ तुझ को ढूंढ रहा है
क्यों ये चक्कर  काट रहा है ,तेरे से क्या ये मांग रहा है

आँखे भी अब बरस रही है,तेरे दर्शन को तरस रही है
पलके भी अब भीग रही है,तेरे रूमाल को तरस रही है

गेसू भी ये बिखरे हुए है,पागलो जैसा रूप लिए हुए है
तेरे गम में सफेद हुए है,बूढियो जैसे रूप लिए हुए है

दोनों कान भी खड़े हुए है,दरवाजे पर कबसे लगे हुए है
जब भी कोई  आहट होती, सुनने को बड़े बेताब हुए है

नाक भी ऐसे सूंघ रही है,जैसे कोई चीटी चीनी ढूंढ रही है
ऐसा कुछ आभास हुआ है,जैसे तेरे बदन की गंध आ रही है

दांत भी सर्दी से बज रहे है,तेरी गर्मी को वे ढूंढ रहे है
मुझको कम्बल ओढा रहे है,सर्दी से मुझको बचा रहे है

गोरे गाल लाल हुए है,तेरे चुम्बन के लिए बेहाल हुए है
गालो पर जो चिन्ह बने हुए है,वो तेरी पहचान बने हुए है

दिल की धडकन धडक रही है,तेरा नाम हर पल ले रही है 
विश्राम भी नहीं ले रही है,थकने का नाम  नहीं ले रही है

सिन्दूर भरी मांग कुछ कह रही है,अपना हक ये मांग रही है
सखिया सोलह श्रृंगार कर रही है,वे तेरा इंतजार कर रही है

माथे की बिंदिया ऐसे दमक रही है,जैसे कोई बिजली चमक रही है
आगे का रास्ता तुम्हे दिखा रही है,मेरे करीब तुमको यहाँ ला रही है

ये सब अंग अब निराश हो रहे है,अपनी गाथा तुमको सुना रहे है
इनको करो न अब और निराश,”रस्तोगी”तुमसे विनती कर रहे है

 

Previous article  कश्मीर की पंचामृत सरकार का विसर्जन
Next articleबुज़ुर्गों की दयनीय स्थिति चिंताजनक
आर के रस्तोगी
जन्म हिंडन नदी के किनारे बसे ग्राम सुराना जो कि गाज़ियाबाद जिले में है एक वैश्य परिवार में हुआ | इनकी शुरू की शिक्षा तीसरी कक्षा तक गोंव में हुई | बाद में डैकेती पड़ने के कारण इनका सारा परिवार मेरठ में आ गया वही पर इनकी शिक्षा पूरी हुई |प्रारम्भ से ही श्री रस्तोगी जी पढने लिखने में काफी होशियार ओर होनहार छात्र रहे और काव्य रचना करते रहे |आप डबल पोस्ट ग्रेजुएट (अर्थशास्त्र व कामर्स) में है तथा सी ए आई आई बी भी है जो बैंकिंग क्षेत्र में सबसे उच्चतम डिग्री है | हिंदी में विशेष रूचि रखते है ओर पिछले तीस वर्षो से लिख रहे है | ये व्यंगात्मक शैली में देश की परीस्थितियो पर कभी भी लिखने से नहीं चूकते | ये लन्दन भी रहे और वहाँ पर भी बैंको से सम्बंधित लेख लिखते रहे थे| आप भारतीय स्टेट बैंक से मुख्य प्रबन्धक पद से रिटायर हुए है | बैंक में भी हाउस मैगजीन के सम्पादक रहे और बैंक की बुक ऑफ़ इंस्ट्रक्शन का हिंदी में अनुवाद किया जो एक कठिन कार्य था| संपर्क : 9971006425

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here