भैया तो शाला जाता है,

मुझे नहीं जाने देती माँ|

भैया दूध मलाई खाता,

मुझे नहीं खाने देती माँ||

 

मैं लड़की हूं शायद इससे,

भेद भाव मुझसे होता है|

सदा ध्यान मम्मी पापा का,

हरदम भैया पर होता है|

भैया कुछ भी गाता रहता,

मुझे नहीं गाने देती मां||

 

भैया को तो हर महीने में ,

नये वस्त्र सिलवाये जाते|

खेल खिलोने उसके मन के,

जब चाहे दिलवाये जाते|

वह‌ जो चाहे ले आता है,

मुझे नहीं लाने देती मां||

 

गाँव और शहरों में अब भी,

भ्रूण हत्यायें ,जारी हैं|

कुचल्,कुचल दी जाती हर दिन

कितनी कन्यायें क्वांरी हैं|

लड़की को क्यों मार पेट में

गज़ब आज ढाने देती मां||

 

बर्षों बरस आज से पहले,

तुम भी तो माँ लड़की ही थीं|

लड़कों के हर पक्षपात पर ,

तुम नानी माँ पर भड़की थीं|

इतनी समझ आपमें है फिर,

क्यों सब हो जाने देती माँ|

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: