लेखक परिचय

मुकेश चन्‍द्र मिश्र

मुकेश चन्‍द्र मिश्र

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में जन्‍म। बचपन से ही राष्ट्रहित से जुड़े क्रियाकलापों में सक्रिय भागेदारी। सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और देश के वर्तमान राजनीतिक तथा सामाजिक हालात पर लेखन। वर्तमान में पैनासोनिक ग्रुप में कार्यरत। सम्पर्क: mukesh.cmishra@rediffmail.com http://www.facebook.com/mukesh.cm

Posted On by &filed under कविता.


सारे सेकुलर चुप बैठे हैंदेश जल रहा जलने दो।
बंग्लादेशी वोटर अपनेअसम मे इनको रहने दो॥
अरबों  की  आबादी अपनी,   उसपर भी  सीमित संसाधन।
फिर भी हम खुश होकर करते, बंग्लादेशी का अभिनंदन॥
हिंदुस्तान  है  चारागाह,   इनको भी  कुछ   चरने दो।
सारे सेकुलर चुप…………………………………………

जगह जगह ये बम फोड़ेंहर देशद्रोह का काम करें।
कट्टरपंथी इनकी खातिर, हर चौराहा जाम करें॥
हिंसक होकर  आग लगाएँशहीदों का अपमान करें।
राष्ट्रभक्त मुस्लिम को भी, इन कर्मो से बदनाम करें॥
वोटों की इस राजनीति मे, जनता पिसती है पिसने दो।
सारे सेकुलर चुप…………………………………………

पैसठ  वर्षो  पहले हमने,    ऐसा  ही  कुछ  भोगा था।
भारत माँ के टुकड़े करके, इसका एक हल खोजा था॥ 
बँटवारे  का  दंश   झेलकर,   लाखों   कत्लेआम देखकर।
क्या पाया है हमने आखिर, कुछ को सरहद पार भेजकर?
जो  भी ऐसी  बात उठाए,    उसको कम्यूनल  कहने दो।
सारे सेकुलर चुप…………………………………………

दुनियाभर मे  भारत जैसा  सॉफ्ट टार्गेट देश नहीं।
गुंडे, चोर, लुटेरे भी,   संसद  मे   मिल  जाएँ  यहीं॥
खरबों  मे  घोटाले  होते,    भ्रष्टाचार   चरम  पे है।
मंत्री, पीएम, राष्ट्रपति सब, किसी के रहमो करम पे हैं॥
लोकतन्त्र  यदि ऐसा हैतो  इसकी अर्थी  सजने दो।
सारे सेकुलर चुप…………………………………………..

2 Responses to “घुसपैठिए और भारतीय सेकुलर”

  1. Abhinav Mishra

    सुपर हिट कविता के लिए कवि को धन्यवाद….. सचमुच अब लोकतन्त्र झेला नहीं जाता इसकी अर्थी सजनी ही चाहिए……

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *