लेखक परिचय

गौतम चौधरी

गौतम चौधरी

लेखक युवा पत्रकार हैं एवं एक समाचार एजेंसी से जुडे हुए हैं।

Posted On by &filed under राजनीति.


दुनिया में भले पाकिस्तान की स्थिति कूटनीतिक मामलों में कमजोर दिख रही हो लेकिन दक्षिण एशिया में पाकिस्तान की स्थिति कमजोर नहीं हुई है, बल्की मजबूत हुई है। पाकिसतान के कूटनीतिज्ञ इस बात को अच्छी तरह जानते है कि संयुक्त राज्य अमेरिका को अगर एशिया में सामरिक आधार बनए रखना है तो उसे पाकिस्तान को अपने साथ रखना ही होगा। चीनी की गतिविधियों से साफ जाहिर होता है कि वह भारत को आज भी अपना दुश्मन मानता है। चीन इस बात से बेखबर नहीं है कि भारत आजकल संयुक्त राज्य की गोद में बैठकर राजनीति कर रहा है। इस मामले को भांफ चीन, पाकिस्तान को ज्यादा महत्व देने लगा है और उसके साथ लगातार सामरिक समझौते किये जा रहा है। अब पाकिस्तान को दुनिया के दो ताकतवर देशों का समर्थन प्राप्त हो रहा है। यह भारत के लिए कितना अहितकर होगा, अंदाज लगाना कठिन नहीं है। आने वाले समय में चीन, पाकिस्तान की युगलबंदी भारत के खिलाफ एक बडी चुनौती खडा करने वाला है। पाकिस्तान और चीन के कूटनीनिक और सामरिक संबंध को तेजहीन बनाने के लिए भारतीय कूटनीति किसी प्रयास के बजाय अमेरिका के भरोसे हाथ पर हाथ रखे बैठा है। भारत के राजनेता यह मान कर चल रहे हैं कि यह काम भी अमेरिका ही कर देगा। भारत लगातार अमेरिकी सामरिक रणनीति का पिछलगुआ बनता जा रहा है। भारत के इस रणनीति से विश्व मंच पर न केवल भारत की साख कमजोर हो रही है अपितु आने वाले समय में भारत को भयानक परेशानी झेलनी होगी। विश्व परिस्थिति, उसमें पाकिस्तान का महत्व और फिर उन तमाम के बीच भारत की छिछली कूटनीति का परिणाम अब भारत के आंतरिक मामलों में भी दिखने लगा है। वाजपेयी सरकार के समय क्षणिक समाधान वाले कश्मीर में परिस्थिति बदलने लगी है। कश्मीर देश का सबसे खतरनाक मसला बन गया है। देश के विभिन्न भागों में सकि्रय साम्यवादी चरमपंथियों को मजबूत किया जा रहा है। भारत सरकार को माओवादियों के बारे में जानकारी शायद नहीं हो लेकिन वह इतना मजबूत हो चुके हैं कि अगर आज चाहें तो भारतीय गणतंत्र को तोड एक नये राष्ट्र की घोषणा कर सकता हैं। चीन और पाकिस्तान उन साम्यचरमपंथी को भी सहयोग कर रहा है।
भारत की छिछली कूटनीति के कारण आंतरिक स्थिति ही नहीं बाहरी स्थिति भी खतरनाक हो गयी है। भारत के पडोसी देश घीरे घीरे भारत के खिलाफ चीन को सहयोग करने लगे हैं। हालांकि चीन श्रीलंका में पहले से ही सकि्रय था लेकिन लिट्टे की समाप्ति के बाद चीन श्रीलंका में ज्यादा सकि्रय हो गया है। श्रीलंका में चीन ने न केवल सरकार के साथ मिलकर काम करने की योजना बनायी है अपितु तमिल विद्रोहियों में भी चीन की अच्छी पैठ है। इसका खमियाजा आने वाले समय में भारत को भुगतना पडेगा। इधर भारत का दूसरा बडा पडोसी बांग्लादेश की वर्तमान सरकार तो भारत के साथ है लेकिन यह संबंध ज्यादा दिनों तक चलने वाला नहीं है। क्योंकि बांग्लादेश की आंतरिक कूटनीति पर चीन का दबदबा दिन व दिन बता जा रहा है। चीन बांग्लादेश में पैसा लगा रहा है। वहां के बंदरगाहों को सामरिक उपयोग का बनाया जा रहा है जिसमें चीन का अपना सामरिक हित छुपा हुआ है। म्यामार आदि पूर्वी एशिया के देशों में पहले से ही चीन की पकड मजबूत है। यही नहीं जिस नेपाल को भारत का सबसे निकट मित्र कहा जाता रहा है वह नेपाल भी भारत के खिलाफ विष बमन करने लगा है। अफगानिस्तान में तो अब अमेरिका भी नहीं चाहता है कि भारत वहां सकि्रय रहे। अफगानिस्तान के लिए अमेरिका की एक मात्र योजना अफगानिस्तान को फिर से पाकिस्तान के हवाले करना है। अफगानिस्तान में अमेरिकी कूटनीति से पाकिस्तान किस प्रकार भारत को हानि पहुंचाएगा और चीन वहां क्या करेगा, इसका अंदाजा सहज लगाया जा सकता है।
चीन, पाकिस्तान, श्रीलंका, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, म्यामार आदि देशों के सामरिक समूह के अंदर भारत की क्या स्थिति होगी इसपर भारतीय कूटनीति को प्रभावी रणनीति बनानी चाहिए लेकिन क्या भारत के पास इन चुनौतियों से निवटने के लिए कोई योजना है? फिलहाल तो दूर दूर तक ऐसा कुछ भी नहीं दिखता है। हां भारत धीरे धीरे अमेरिका का रणनीतिक सहयोगी जरूर बनता जा रहा है। यह सत्य है कि जब भारत भयानक संकट में फसेगा तो भारत को बचाने के लिए कोई नहीं आएगा। क्योंकि जब भारत संकट में फसेगा तो जिस अमेरिका पर भारतीय कूटनीति को जबरदस्त भरोसा है वह कन्नी काट लेगा। यह अमेरिका की पुरानी राजनीति रही है। यही नहीं अमेरिका की आंतरिक राजनीति भी अल्पसंख्यबाद पर केन्द्रित होता जा रहा है। चाहे कारण जो भी हो लकिन वर्तमान अमेरिकी राजनीति को देखकर ऐसा लगता है कि अमेरिका के प्रभावशाली लोग मुस्लमानों को अमेरिका के हितचिंतक समझने लगे हैं। अमेरिका ने कोसोबो मुद्दे पर मेलेदान मिलोसेबिच को पछाड कर यह साबित कर दिया कि अमेरिका केवल कहने के लिए ईसाई देशा है। वहां की सत्ता में ऐसे लोग भरे पडे हैं जो धर्म से ज्यादा अपने व्यवसाय को महत्व देते हैं। फिर अमेरिका उन राष्ट्रों को परेशान करता रहा है जो कभी या तो रूसी खेमें में रहा है या फिर गुटनिर्पेक्ष आन्दोलन में सकि्रया भूमिका निभाया है। निर्गुट आन्दोलन में इंडोनेशिया के नासिर, युगोस्लबिया के मार्सल टीटो और भारत के जवाहरलाल नेहरू ने प्रभावशाली भूमिका निभाई थी। अमेरिका युगोस्लाबिया को समाप्त कर दिया। इंडोनेशिया में भयानक अराजकता अमेरिकी देन है। लेकिन अमेरिका, भारत का अभी तक कुछ भी बिगार नहीं पाया है। यह अमेरिकी कूटनीति को तो खटकता जरूर होगा। अमेरिका भारत को कमजोर देखना चाहता है सो उसने भारत के खिलाफ मीठे जहर का उपयोग किया है। देर सबेर भारत उस जहर से मरेगा, अमेरिकी कूटनीति को इसका पक्का भरोसा है।
अगर अमेरिका को भारत की इतनी ही चिंता होती तो वह पाकिस्तान को दिलखोल कर सामरिक सहयोग क्यों करता। कुछ लोग पाकिस्तान का सहयोग अमेरिकी मजबूरी मानकर चल रहे हैं, लेकिन यह अमेरिका की मजबूरी नहीं है। इसे अमेरिकी चाल समझा जाना चाहिए। अमेरिका अच्छी तरह से जानता है कि जिस इस्लामी आतंकवाद के कारण दुनिया अशांत है उस आतंकवाद की प्रयोगशाल पाकिस्तान में है। बावजूद इसके अमेरिका पाकिस्तान को सहयोग पर सहयोग किये जा रहा है। अमेरिका यह भी जानता है कि उसके द्वारा दिये गये धन और हथियारों का उपयोग पाकिस्तान और कही नहीं केवल भारत के खिलाफ ही करेगा तो फिर अमेरिका उसका सहयोग क्यों कर रहा है? संकेत स्पष्ट है, अमेरिका आज भी भारत की तुलना में पाकिस्तान को ज्यादा महत्व दे रहा है। अमेरिका न केवल भारत को कमजोर देखना चाहता है अपितु वह भारत को विभाजित भी करना चाहता है। अमेरिका कश्मीर में अपना सामरिक ठिकाना बनाना चाहता है। जहां से वह वृहतर ऐिशया पर नियंत्रण रख सके। यही कारण है कि अमेरिका कश्मीर में भारत का सीमित हस्तक्षेप चाहता है। कश्मीर में अमेरिका सकि्रय है इसलिए वहां दुनिया की अन्य शक्तियां भी सकि्रय हो गयी है। याद रहे भारत के खिलाफ गोलबंदी का केन्द्र बिजिग है। जबतक बिजिक के खिलाफ भारत स्वतंत्र रणनीति नहीं बनाएगा तबतक भारत में शांति की कल्पना संभव नहीं है। माना की चीन पुरानी सभ्यता वाला देश है। यह भी मान लिया कि वहां के लोग भारत को गुरूओं का देश मानते हैं लेकिन आज का चीन चीन नहीं पिपुल रिपब्लिक ऑफ चाइना है। जहां ईसाइयत के चौथे स्तंभ चरम साम्यपंथियों का कब्जा है। आज का चीन किसी कीमत पर भारत के सहअस्तित्ववाद को नहीं मानने वाला है। इसलिए भारत को चीन के खिलाफ तो मोर्चा खोलना ही होगा। इस मोर्चेबंदी में पिश्चम या अमेरिका साथ दे तो अच्छा न दे तो भी कोई बुरा नहीं है। याद रहे अपनी लडाई खुद लडनी होती है। बाबा के भरोसे फौजदारी संभव नहीं है। इसलिए भारत को अगर जिन्दा रहना है तो पाकिस्तान को निवटने से पहले चीन के खिलाफ प्रभावी सामरिक कूटनीति बनानी होगी।

6 Responses to “चीन के खिलाफ स्वतंत्र रणनीति बनाए भारत – गौतम चाधरी”

  1. himwant

    अमेरिका,युरोप तथा अष्ट्रेलिया वस्तुतः एक राष्ट्र है इस लिए वर्तमान विश्व की वर्तमान महा-सत्ता के नायक वह है.

    भारत-चीन का राष्ट्रबद्ध होना ही हमे विश्व महा-सत्ता के नायकत्व तक पहुंचा सकता है. सम्पुर्ण दक्षिण एसिया तथा चीन को राष्ट्रबद्ध करने के लिए हमे मार्ग प्रशस्त करना चाहिए.

    Reply
  2. Dr. Purushottam Meena 'Nirankush'

    “चीन के खिलाफ कारगर रणनीति की सख्त जरुरत है और अमेरिका उस में बड़ा सहयोगी साबित हो सकता है भारत को चाहिए की जापान , ताईवान , दक्षिण कोरिया ,अमेरिका और अगर हो सके तो रूस को लामबंद कर लेना चाहिए और (हर तरह से चीन को नष्ट कर देना चाहिए) .आक्रमण की सर्वश्रेष्ठ बचाव है!”

    मेरी ओर से कोष्ठक में लिखे गये वाक्य को छोडकर श्री अभिषेक जी के विचारों से असहमत होने का कोई कारण नहीं हो सकता! इस बात में भी कोई दो राय नहीं है कि आक्रमकता ही बचाव का सर्वश्रेष्ठ तरीका है, फिर भी किसी राष्ट्र को नष्ट कर देने वाली बात सोचना, मेरे जैसे व्यक्ति के व्यक्तित्व से मेल नहीं खाता है।

    Reply
  3. रामदास सोनी

    रामदास सोनी

    स्वामी विवेकानंदजी ने एक बार कहा था कि यह ड्रेगन सोया हुआ है इसे सोया ही रहने दो अगर यह जाग गया तो सारे विश्व के लिए मुसीबत खड़ी हो जायेगी। स्वामीजी का कहा एक-एक वाक्य सत्य साबित हो रहा है। अगर भारत के शासकों को आजादी के 64 सालों में भी हिन्दु-चीनी भाई भाई का नारा न भूला हो तो याद करें कि यह वही चीन है जिसने हमारा कैलाश मानसरोवर कब्जाया है, जिसने समूचे तिब्बत से बौद्ध संस्कृति को समाप्त करने का अभियान चला रखा है, जिसने हमारा नेफा क्षेत्र हड़प लिया है, जो हमारे पूर्वी राज्य अरूणाचल पर भी अपना दावा पेश कर रहा है, जो जम्मू-कश्मीर व पूर्वोत्तर के नागरिकों को स्टेपल वीजा नत्थी करता है या फिर उन्हे चीनी नागरिक करार देते हुए ‘वीजा की कोई आवश्यकता नहीं’ ऐसा बयान देता है। दूसरी ओर पाकिस्तान जैसा भयानक पड़ोसी जिसका निर्माण ही भारत विरोध के आधार पर हुआ है। पाकिस्तान को तो भारत के साथ हुए दो-दो प्रत्यक्ष युद्धों के परिणाम सपने में आज तक दिखाई देते है ऐसे विकट हालात में भी केवल भारत सरकार ही नहीं वरन् समूचा विपक्ष भी चुप्पी साधे बैठा है यह भारत का दुर्भाग्य है। भारत को चीन-पाक गठजोड़ के विरूद्ध अमेरिका या किसी अन्य देश पर निर्भर ना रह कर अपनी सैन्य क्षमता का विस्तार करने के साथ-साथ अपने आप को अन्तर्राष्ट्रीय मंच पर स्थापित करना चाहिए। पाक-चीन सीमा पर सैन्य सुविधाओं का भी भारत को विस्तार करना होगा। अगर हम स्वयं मजबूत होगें तो किसी का साहस नहीं कि वो हमारी सीमाओं की ओर आंख उठाकर देख सके।
    ध्यान रहे कि बलि हमेशा बकरें या मुगें की दी जाती है सिंह की नहीं

    Reply
  4. Himwant

    दक्षिण एसिया मे देशो के बीच द्वन्द फैलाने वाली सबसे बडी शक्ति यु.एस.ए. है। क्योकी दक्षिण एसिया मे शांति का मतलब है बेजोड प्रगति। बेजोड प्रगति का मतलब है विश्व मे एक और शक्ति केन्द्र का निर्माण। अमेरिका कभी पाकिस्तान, कभी भारत का और कभी चीन का साथ दे कर अपना महत्व बढाए रखना चाहता है तथा द्वन्दो को बढाने के काम को भी अंजाम देता है।

    हमें यह समझना होगा की हमारा दीर्घकालिन हित पाकिस्तान और चीन के साथ मैत्री मे निहित है। हिन्दुवादी धार के लेखक जिस प्रकार पाकिस्तान एवम चीन के खिलाफ कलम चलाते है उससे देश के दीर्घकालिन शांति प्रयासो को हानि होती है तथा अमेरिकी योजना को सहायत मिलती है। हम कब इस दृष्टिकोण को समझेगे ???

    Reply
  5. abhishek1502

    चीन के खिलाफ कारगर रणनीति की सख्त जरुरत है और अमेरिका उस में बड़ा सहयोगी साबित हो सकता है
    भारत को चाहिए की जापान , ताईवान , दक्षिण कोरिया ,अमेरिका और अगर हो सके तो रूस को लामबंद कर लेना चाहिए और हर तरह से चीन को नष्ट कर देना चाहिए .आक्रमण की सर्वश्रेष्ठ बचाव है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *