-प्रभुदयाल श्रीवास्तव-
poem

लगा रहे अविरल परिकम्मा,
हलुवा मुझे खिला दे अम्मा|
राम शरण बोले ज्वर उन पर,
पता नहीं क्यों चढ़ा निकम्मा|
बोले रात एक सौ दो था,
सुबह सुबह तक सौ आ पाया|
इससे नीचे नहीं गया है,
क्योंकि हलुवा नहीं खिलाया|
हलुवा ज्वर‌ नाशक होता है,
कहते हैं सब जेठे स्याने|
समय काल के घाव भर दिये,
मीठे शुद्ध गरम हलुवा ने|
हलुवा की ताकत तो देखो,
जला गया तम के घर शम्मा|
एक प्लेट फिर से मिल जाता,
ज्वर सौ से नीचे आ जाता|
बिना वैद्य या बिना चिकित्सक,
मैं फिट फाट ठीक हो जाता|
बचपन में जब आँखें आतीं,
अम्मा हलुवा गरम खिलातीं|
हलुवा गया कंठ के नीचे,
आंखें तुरत ठीक हो जातीं|
फूल फूल खुशियों के मारे,
हो जाता मैं दुम्मा दुम्मा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: