लेखक परिचय

डॉ. राजेश कपूर

डॉ. राजेश कपूर

लेखक पारम्‍परिक चिकित्‍सक हैं और समसामयिक मुद्दों पर टिप्‍पणी करते रहते हैं। अनेक असाध्य रोगों के सरल स्वदेशी समाधान, अनेक जड़ी-बूटियों पर शोध और प्रयोग, प्रान्त व राष्ट्रिय स्तर पर पत्र पठन-प्रकाशन व वार्ताएं (आयुर्वेद और जैविक खेती), आपात काल में नौ मास की जेल यात्रा, 'गवाक्ष भारती' मासिक का सम्पादन-प्रकाशन, आजकल स्वाध्याय व लेखनएवं चिकित्सालय का संचालन. रूचि के विशेष विषय: पारंपरिक चिकित्सा, जैविक खेती, हमारा सही गौरवशाली अतीत, भारत विरोधी छद्म आक्रमण.

Posted On by &filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग.


स्वाईन फ्लू की तरह हैपेटाईटिस-बी का भी भारी आतंक अनेक वर्षों तक फैलाकर अरबों रुपया दवा कम्पनियों ने कमाया। जबकि सच यह है कि रोग से अधिक मृत्यु की घटनाएं दवा के प्रभाव से हुई। अमेरिका सहित संसार के अनेक देशों के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं तथा चिकित्सकों ने हैपेटाईटिस-बी के इंजैक्शन अपने परिवार के लोगों को नहीं लगने दिये। दो वर्ष पहले पैन्सुलवैनिया की एक दर्शन की प्रोफेसर सोलन आई तो उसने प्रैस कॉन्फ्रैस में बतलाया कि उसके परिचित डाक्टर ने अपनी बेटी की हैपेटाईटिस का टीका नहीं लगाने दिया, और इसे अत्यन्त घातक बतलाया। हजारों जानकारी में आई घटनाएं हैं जिनमें इस इंजैक्शन से बच्चों की मृत्यु हो गई या वे जीवन भर के लिए विकलांग हो गए, कई बच्चे गम्भीर रूप से बीमार हो गए।

हैपेटाईटिस वास्तव में लीवर की संक्रमण से पैदा हुई खराबी है जिसे हम पीलिया के नाम से जानते हैं। अलग-अलग प्रकार के वायरस या रोगाणुओं से पैदा पीलिया को आधुनिक चिकित्सकों ने पहचान करके अलग-अलग नाम देने का काम किया है, पर विश्वास रखें की इलाज किसी भी प्रकार के पीलिया या हैपेटाईटिस का उनके (एलोपैथी) के लिये सम्भव नहीं। अभी तक इसका कोई प्रभाव दवा आधाुनिक विज्ञान नहीं बना पाया है। इसके विपरीत भारतीय पारम्पारिक चिकित्सा में इसके अनेक सरल पर पक्के इलाज हैं। हैपेटाइटिस-ए, बी, सी, आदि जो भी हो वे सब निश्चित रूप से ठीक हो सकते हैं।

रोगी में पीलिया के लक्षण नजर आने पर परहेज करवाते हुए निम्न में से कोई एक इलाज करें, प्रभु कृपा से वह ठीक हो जाएगा।

गुम्मा नामक (द्रोण पुष्पी) पौधे को पहचानते हों तो उसका एक चम्मच चूर्ण मिट्टी के बर्तन में 100 मि.ली. पानी डालकर भिगो दें। प्रात: मसल व छानकर रोगी को पिलाएं तथा प्रात: भिगोकर रात को पिला दें। 5-7 दिन में रोगी ठीक हो जाएगा। थोड़ा शहद और चने के दाने जितना कपूर मिलाकर देने से प्रभाव अधिक होगा। चूने का पानी 2-2 चम्मच दिन में 3 बार रोगी को पिलाएं यही पानी 10-15 दिन तक देते रहें। अन्य दवाओं के साथ भी इस प्रयोग को कर सकते हैं। पीली हरड़ का चूर्ण एक चम्मच तथा शहद या पुराना गुड़ (रसायनों से रहित) दिन में 2-3 बार दें। असाध्य पीलिया पर भी काम करेगा। 6 मास में एक बार 7 दिन तक इसका प्रयोग करते रहें, उल्टा-सीधा न खाएं (चाय, कॉफी, जंक फूड़) तो अम्ल पित्ता (हाईपर ऐसिडिटी, खट्टा पानी आना, बदहजमी) पूरी तरह सदा के लिए ठीक हो जाएगी।

श्योनाक (टाटबडंगा, अरलू, तलवार फली) की छाल 150-200 ग्राम चूर्ण 200-250 मि.ली. पानी में मिट्टी के पात्र में भिगोकर रोज प्रात: दोपहर, सांय 3 बार में पिला दें। रोज नया चूर्ण भिगोएं। 3-4 दिन में रोगी ठीक हो जाता है। थोड़ा मीठा (खाण्ड-मिश्री) मिलाकर देना अधिक लाभदायक होगा।

योग सन्देश में छपे लेख के अनुसार सिक्किम के एडीशनल कमीश्नर-एक्साईज ‘एम के प्रधान’ के अनुसार श्योनाक का एक अन्य प्रमाणिक प्रयोग इस प्रकार है :-

उपरोक्त प्रकार से 150ग्रा0 श्योनाक की छाल 150-200 मि.ली. पानी में रात को भिगो दें। प्रात: 200 मि.ग्रा. (2 काले चने के बराबर) शुध्द कपूर पानी से निगलकर 30 मिनट बाद श्योनाक का पानी छानकर पीने से 1 या अधिक से अधिक 3 या 4 दिन में असाध्य पीलिया या ‘हैपेटाईटिस-बी’ तक ठीक हो जाता है। सन्देह या कोई शंका सुझाव हो तो ई-मेल : gbharti791@gmail.com पर सम्पर्क करें।

140 Responses to “हैपेटाईटिस का इलाज आसान है – डा. राजेश कपूर, पारम्परिक चिकित्सक”

  1. vicky kumar

    Good morning sir mujhe apna address or number send kr dijiyega meri sister hbsg se sankramit h

    Reply
  2. Jayprakash

    सर मुझे 3महीने से लीवर मे सुजन सी रहती है
    Hbsag +है
    कोई इलाज बतायें
    Apka phone no kya hai

    Reply
  3. Amit

    Sir muze abhi abhi malum hua hai ke may hbsag positive hu or mari lever function test normal hai muze plz kuch batana

    Reply
  4. 9956515415

    Sir meri wife hbsag positive h sir pls. Iska ilag bataiye sir aap ka aashirwad hamare liye amrit ke saman hoga pls.sir Mai bahut paresan chal raha hun mansik tanav ho raha h my whatsapp no.9956088790 sir pls.reply me

    Reply
  5. Vipin baghel

    सर ,
    मैं पिछले छः साल हेपेटाइटिस बी + पीड़ित हूँ,पर ज्यादा प्रभावी नहीं हैं।इसके लिए इलाज व् दवा बताने की कृपा करे । जिससे ये नकारात्मक को सके। मैं आपका जीवन भार आभारी रहूँगा।।
    संपर्क सूत्र 08738020784 ,,7007294352

    Reply
  6. Radha

    Namste sir m palwal s hu . mere husband ko hapitaitas b h or unki tbiyt but khrab h Abhi unki age 39year h sir please mere husband ko bcha lijiye koi to medicine hogi jisse WO teek ho jaye alopethic ilaj k bad Abhi unko piliya 20 h but but weakness h please kuch kijiye

    Reply
  7. Yuvraj

    Sir Meri mata ji ko Pichle 8 years se liver ki problem h doctor bolte h hepatitis C HCV hua h bhut baar admit ho Chuke aur unko age b 71 years h kitni baar to 5-6 din tak behosh hi rahe h abhi b wo bhut bimar h Muje jaldi se jaldi iska ilaz bataye please….wo bhut takleef me h unke backbone me fracture ho rakha h…Muje bus iska ilaz chahiye… allopathic me kch ilaj nhi h..
    My no- 7014115323
    7820983509

    Reply
  8. Ekta

    Sir mere Papa ko hepititus B positive h or logo ne bola k eska elaj bhut costly h or hm middle class family se h or etna paisa nhi h k elaj kra sake hme koi solution digia taki mere Papa thik ho ske plz btaiyega zrur

    Reply
  9. Avinash Chowdhury

    Mujhe hepatitis b hai mera liver me dukan hua hai.. mereko ek injection lag Chuka hai mujhe Janna hai ki main aur kitna Dino me puri tarah thik ho jaunga….Please Bata dijiye call 9804159532

    Reply
  10. md shakil ahamad

    Sir mera naam shakil ahamad hai blad test krane par pta chala hme hbsag b paojetiv hai par uska koi lakshan najar nahi aata hai uska ilaj kya hai please urjent btaiye please please contact 8789617852

    Reply
  11. mantu

    sir mere name mantu h hepetitice b positive 3 year . please contacts me mob no 8009718019
    9198824811

    Reply
  12. mantu

    sir mere name mantu h hepetitice b positive 3 year . please contacts me mob no 8009718019
    9198824811

    Reply
  13. 7618946954

    सर प्लीज फिर इसका सफल इलाज बताये कैसे मुमकिन है और मेडिसिन कैसे मिलेगी खा मिलेगी आप संपर्क करले भेज सकते है और और मरीज है मेरे घर में 5 है ऐसे जो सभी को हुआ सो प्लीज् सर जरूर इसका इलाज हम लोगो को प्रदान करे आपका बहोत बहोत मेहेरबानी होगी सर

    Reply
  14. 7618946954

    Sir mera name mo aadil h mujhe bhi hepatitis h positive kya ye thik ho sakta h plzzz contacts me mera mo no 7618946954

    Reply
  15. rajeev kumar

    Sir mai rajeev kumar mai bhi 8 month se hepatitis b se grast hu nagetive chahta hu sir plese me contact no 7739042663 and 8294044540

    Reply
  16. sunil

    Namskar sir mera name sunil he me 4 sal se hepatic b se peedit hu meri umar 30 vars he, me bahut dukhi rahata hu agar aap ke pas eska saphal our saral ilaj he to plz hame bataye my m.n 9893747963

    Reply
  17. 9950133310

    Mere jija ko hepatitis tha fir unki
    7 sal ki bethi h usko hua lekin uski
    Khasi nhi Ja rhi h

    Reply
    • आर. सिंह

      R.Singh

      लालचंद जी,आपको किसने बताया है कि आपको हैपेटाइटिस बी है?

      Reply
  18. Data salunke

    Sir,
    Mera nam data salumke he me an sal se hepatitis b positive hu kya me thik ho Santa hu
    Please sir contract me
    9881719044

    Reply
  19. nazim

    Sir main bhi ten year se hepetitis b bimari se grast hoon kya iska ilaj hai to please Mujhe bataye mera contact no. 9934047621

    Reply
    • Md Razauddin

      Sar Mra Jija bahut garib hai 2 yers SE hepatatitis b hai bhut ilaj karate magar ghatta nhi hai kuchh IPA btaya mai Bihar ka rane wala hu samastipur

      Reply
  20. डॉ. राजेश कपूर

    डा.राजेश कपूर

    सभी प्रश्नकर्ताओं से निवेदन है कि व्यक्तिगत समस्याओं पर चर्चा व समाधान के लिये व्हाट्स ऐप के निम्न नम्बर पर सीधे सम्पर्क करें।
    94188-26912
    78318-40226

    Reply
  21. bijender kumar

    सर मुझे 10साल से हैपे टा ई टिस बी है अभी तक नार्मल हूँ 2 बार नेगेटीव् भी हो चूका है अब फिर पॉजि टिव है क्या इलाज करे नेगटिव् हो जाये

    Reply
  22. विकास दिया

    नमस्कार सर जी
    मैं मारुती कम्पनी में नौकरी करता हूँ कम्पनी में
    रक्तदान शिविर लगा था तो उस रिपोर्ट में हैपेटाइट्स बी पोसिटिव आया तो पता लगा की ये बीमारी है क्या और सरकारी डॉक्टर से रिपोर्ट दिखाई तो डॉक्टर जी ने बताया 15 से 20 साल तक कोई भी घबराने की जरूरत नही है क्योंकि तुम्हें तो अभी शुरुवात हुई है तब तक कोई इलाज बन ही जाएगा पर मेरी किस्मत से इलाहबाद यूनिवर्सिटी का लेख अखबार में आया बीमारी के बारे में जोकि आयुर्वेद दवाओं के बारे में था तो सर मैने वो प्रक्रिया की लेकिन टेस्ट नहीं करवाया और अब दूसरी जगह से देशी दवाई ली और टेस्ट करवाया तो उसमें पोसिटिव ही पाया अब 3 जगहों से बारी-बारी से और देशी दवाई लेनी हैं ।1 महिला कलां बरनाला पंजाब 2 चांदनी चौक दिल्ली 3 झज्जर हरियाणा में।
    और सर मैं सोनीपत हरियाणा का रहने वाला हूँ।
    सर ये जो गुम्मा नामक जो फूल है क्या वो पंसारी के पास मिल सकता या फिर श्योनाक की छाल। हरियाणा में मिल जायेगी या फिर हिमाचल में दोनों में से एक ।
    धन्यवाद राजेश सर
    कृपया करके जवाब जरूर देना।

    Reply
  23. Mohammad Ahmed

    DR. SIR NAMSTE
    Sir mujhe 2 saal pahle piliya tha main kuch angreji aur ayurvedic dawa pi thi jisse piliya tik ho gya tha aur main abhi tak normal hu. Mera Offer Letter Forien Country se aya tha aur mera medical hua to Hepetytis B tha. Main Dr. ke paas gya, mera Hepetytis test hua to Positive tha. Dr. ne kha tum normal ho tumhe dawa ki Zarurat nahi hai, Sir main bahut pareshan hu, Sir NEGATIVE kaisi hoga Sir, Aap ke Aayurved ki Dawa ho To Sir bataye.

    Reply
    • mayank

      Bhai call me and what’s app on my number 09455747335
      Aur. Hepatitis B batana meri bhi same problems h.

      Reply
    • umesh kumar

      jo log hepatitis b
      हेपेटाइटिस बी
      se paresan hai bo log ek bar con. kare mob- 9084332665

      Reply
      • nazim

        Umesh ji main 10 saal se hepetitis b. se pareshan hoon bahut angreji dawa khai ilaj karwaya lekin koi fayda nahi ho raha ab main Kahan dikhaoon kya karoon Kuchh samajh main nahi aa raha ab aap hi bataoo please ke main kya karoon

        Reply
    • 7618946954

      Iska ilaaj allahabad hospital me 90% ke sath hota h jo kiao mai bhi allahabad ka rahne wala hun jo bhi iska ilaaj karana chahe
      Meera shagloo homiyopaithik name search krke jankari le sakte h

      Reply
  24. Kundan kumar

    Sir mujhe 1saal se heptiestist h kai jgah dhikhaye thik nhi ho paya pz sir iska koi uchar bataye

    Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      dr.rajesh kapoor

      हैपेटाईटिस के सभी रोगियों से अनुरोध है कि वे सब उपचार से पहले परहेज सुनिश्चित करें। एल्मुनियम/ हिण्डोलियम व पीवीसी/ प्लास्टिक/ मैलामाईन/नान ब्रेकेबल बर्तनों का प्रयोग बन्द करें।
      टुथपेस्ट चाहे किसी भी देशी-विदेशी कम्पनी का हो, उसे बन्द करके मंजन-दातुन का प्रयोग करें।

      हर प्रकार के डिब्बाबन्द फ्रूट जूस, शीतल पेय, आईसक्रीम, मैदा के बने आहार ब्रैड-बिस्कुट, नेक्रो इन सबका प्रयोग बन्द किये बिना स्वस्थ रहना सम्भव नहीं।

      रिफाईंड तेल भी निश्चित रूप से जहरीला है। अतः उसे भी बन्द करना जरूरी है। डाक्टर रिफाईंड तेल खाने व खिलाने की नासमझी क्यों करते हैं, यह उन्हीं से पूछना चाहिये। क्या इसका अर्थ यह नहीं कि वे जो कुछ भी कहते हैं वह सब सही नहीं होता, काफी कुछ गलत भी होता है। उनकी हर बात सोचे-समझे बिना मान लेना समझदारी की बात नहीं।

      बाजार के दूध के बने सभी पदार्थ छोडना अब जरूरी हो गया है। दूध नकली हो तो वह विषाक्त होगा ही, पर असली दूध भी विषैला है।
      विदेशी नस्ल की अधिकाँश गऊएं बीटाकैसीन ए१ नामक प्रोटीन वाली हैं जिनसे डायबिटीज़ टाईप१, हार्ट फ़ेलियर, अधरंग, एलर्जी,अपच, गैस, आर्टीरियो स्कलेरोसिस आदि असाध्य रोग होते हैं। Davil in the Milk नामक पुस्तक के लेखक डा.कीथवुड के अनुसार इन गऊओं के दूध से कैसर भी हो सकता है।
      सरकारी व गैर सरकारी डेयरी के दूध में अमेरीका आदि देशों से आए मिल्क पाउडर का प्रयोग होता है। वह सारा मिल्क पाउडर ए१ प्रोटीन वाले विषैले दूध से बना होता है।
      वैसे भी सिद्ध हो चुका है कि पाश्चराईज्ड मिल्क कैसर पैदा करता है।
      अतः स्वदेशी गाय के ताजे दूध को प्राप्त करने का प्रयास करें और उसी के बने दुग्ध उत्पाद प्रयोग करें। शुरू में यह सब कठिन लगेगा पर धीरे धीरे सब होने लगेगा। मेरे अनेक मित्र ऐसा कर रहे हैं।

      माइक्रो ओवन भी कम खतरनाक नहीं। उससे कैंसर होने के खतरे पर अनेक शोधपत्र आ चुके हैं।

      बाजार में आने वाली सब्जियों का भी ध्यन रखें। विषैले स्परे वाली हों तो कुछ घण्टे तक सिरके वाले जल में डुबा कर रखें। जीऐम क्राप हो तो भुलकर भी उन सब्जियों का प्रयोग न करें।
      ये सब्जियाँ बेस्वाद, सुगंध रहित होती हैं। इन्हें खाने के बाद कुछ कष्ट, परेशानी होती है। बाजार में अनेकों जीऐम बीजों वाली सब्जियाँ आ चुकी हैं, उनसे बचने के रास्ते ढूंढने होंगे। अन्यथा १०-१५ साल में हर व्यक्ति को हैपेटाईटिस तथा कैंसर हो चुका होगा। आश्चर्य तो यह है कि वर्तमान सरकार भी इस भयावह स्थिति को पहचानने-रोकने के स्थान पर बढ़ावा देती नजर आ रही है। अतः देशवासियों को स्वयं स्थति को समझना व समाधान की दिशा में प्रयास करने होंगे। सरकारें सही निर्णय लें और सही दिशा में कार्य करें, इसके लिये जनमत जगाने व सरकार पर दबाव बनाने का प्रयास करना होगा।

      विशेष:
      अपने घर पर गमलों में गुम्मा, भूई आँवला, कुल्पुफ़ा, पुनर्नवा, तुलसी, कासनी, बथुआ, चाँगेरी, चौलाई, घीक्वार/ऐलोवेरा उगाएं और अल्प मात्रा में इनका कच्चा/पकाकर प्रयोग करें। अनेक विषाक्त रसायन शरीर से बाहर निकलते रहेंगे व रोगों से रक्षा होगी।
      इनके बीजों के अादान-प्रदान के लिये “प्रवक्ता.काम” पर एक समूह बनाने पर सम्पादक महोदय विचार करें तो दूरगामी परिणाम हों, ऐसी योजना को साकार किया जा सकता है।

      सबके सुझाव सादर आमंत्रत हैं।

      स्मरणीय है कि संसार का कोई ताला ऐसा नहीं बना जिसकी चाबी न हो, संसार की कोई समस्या ऐसी नहीं जिसका समाधान न हो। बस समाधान की चाह होनी चाहिये। फिर किस समस्या का साहस है जो ऐसी सकारात्मक सोच के आगे टिक सके।

      Reply
      • आर. सिंह

        आर. सिंह

        क्या हैपेटाइटिस बी इतना समय देता है कि रोगी इस तरह के प्रयोग कर सके?ये सब विचार अपनी जगह ठीक हो सकते हैं,पर क्या हैपेटाइटिस बी का इलाज इससे हो जाएगा?

        Reply
        • दीपक खुराना

          श्रीमान जी
          किर्पया आपका संपर्क no.
          दीजिये।

          Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      dr.rajesh kapoor

      डा.राजेश कपूर, सुधाम, सपाटू रोड, सपरून, सोलन – 173211 (हि.प्र.)

      Reply
  25. आदेश कुमार

    डा; नमस्ते मै हेपेटाईटस सी से ग्रस्त हूँ।जो जीनोटाइप-3है। सबसे उचित आयुर्वेदिक उपचार बताये।

    Reply
  26. sadique akhter

    do saal se hepatatis b hai hamesha normal rahta hoi lekin negative nahi ho raha hai jiske karan desh ke bahar noukri nahi kar pa raha ho kirpya sahi ilaaj bataye negative karne ke liya kitna time lagega sir

    Reply
  27. sadique akhter

    do saal se hepatatis b hai hamesha normal rahta hai lekin negative nahi ho raha hai jiske karan out of country nahi ja pa raha ho kirpya sahi ilaaj bataye.

    Reply
  28. ena mittal

    sir mera name ena hai.2month pehle meri saadi hui hai. mujhe ek weak pehle pata chala ki mujhe hapatites b hai.or main 1 month se pregnant hu .sir muhje bada dar lag raha hai kya kru.

    Reply
  29. kishor

    muze 4 sal se hepatitis b hai koi bhi dr kahate hai ki negative nahi hota to aap ka dawa hai ki negative hota hai to muze aap dawa bataiye
    mera hbsag 12503 iu ml hai sgpt beloroblin normal hai pls help me sir

    Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      Rajesh Kapoor

      आप या तो लेख में लिखे अनुसार चिकित्सा करें और या फिर मुझे १३ से १८ के बीच 94188 26912 पर फोन करें. २० से ३० के बीच फोन करना हो तो 96900 65785 पर करें.

      Reply
      • ena mittal

        sir mera name ena hai.2month pehle meri saadi hui hai. mujhe ek weak pehle pata chala ki mujhe hapatites b hai.or main 1 month se pregnant hu .sir muhje bada dar lag raha hai kya kru.

        Reply
  30. waseem haider

    डॉ कपूर जी नमसकार
    सर जी मुझे पिछले ७ साल से हेपेटाइटिक बी है पर मुझे अभी तक कोई परेशानी नही हूई है लेकिन जब भी मे अपना बलड चैक कराता हूं तो हेपेटाइटिक बी पोजेटिव आता है जिस कारण से मे विदेश नही जा पा रहा हूं कया हेपेटाइटिक बी पूरी तरह से नेगेटिव हो सकता है मैने बहुत दवाईयॉ भी खायीं पर कोई फायदा नही हूआ और यह गुममा नामक फूल कहॉ मिलेगा

    Reply
  31. waseem haider

    Sir ji muje 7 year se heppetite b hai bahut dawa khai lekin possetive hi rehta h

    Reply
  32. sanjay tiwari

    इतने महत्वपूर्ण जानकारी के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

    Reply
  33. sanjay tiwari

    डॉक्टर कपूर साहब सादर नमस्कार।
    मुझे आज से लगभग 13 वर्ष पहले रक्तदान करने पंहुचा तो पता चला hepetitis b है मैंने डाक्टरी परामर्श ली कुछ दिन दवा चला कुछ ब्लड टेस्ट हुवा और सोनोग्राफी भी फिर मुझे सलाह दी गयी आप ठीक है कुछ करने की जरुरत नही है।
    फिर मुझ पर घरवालों के द्वारा शादी के लिए दबाव बनाया गया तो डॉक्टर साहब से परामर्श लिया तो बोले कर लीजिये कोई दिक्कत की बात नही है अभी 8 वर्ष हो गये है वैवाहिक जीवन को दो प्यारे प्यारे बच्चे भी है।
    मैंने अब तक अपना दुबारा टेस्ट नही कराया है pragnancy में श्रीमती जी का बल्ड टेस्ट हुवा था तो सब नार्मल था तो मै संतुष्ट हो गया कुछ रहता तो जरुर पॉजिटिव आता करके।
    पर कुछ दिनों से मेरा हाजमा ठीक नही रहता है और पैर के तलुआ में हल्का झुनझुना पन तथा हथेलियों में कुछ करो तो कुछ देर के लिए निशान रहता है मैंने hbटेस्ट कराया तो 14% है पीलिया टेस्ट नार्मल 0.88है तथा सोनोग्राफी भी नार्मल आया है पर मन में चिंता बना रहता है कही धीरे धीरे असर तो नही हो रहा है या बीबी बच्चों पे प्रभाव तो नही पड़ा होगा करके मनोवैग्यानिकी दबाव महशुश कर रहा हु ।
    कृपया उचित मार्गदर्शन दें तो बहुत कृपा होगी अभी मेरी उम्र39 वर्ष की है।

    Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      Rajesh Kapoor

      श्रीमान गोपीचन्द जी,
      आपसे एक अनुरोध है कि आप चिकित्सा का अपना अनुभव प्रवक्ता पर सूचित करें.
      अनेकों का उससे भला हो सकता है.
      आयुर्वेद पर अविश्वास दूर करना जरूरी है.

      Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      Rajesh Kapoor

      संजय तिवारी जी ,
      आप ध्यान दें कि जो चिन्तन निरंतर होता है, वह जीवन में हो जाता है. अतः आप चिन्ता छोड़ कर मस्ती से जीएं.
      यदि ऐसा नहीं कर सकते तो एक बार ‘आर्ट अॉफ लीविंग’ का कोर्स कर लें.
      वह भी पता न चले तो चित्र सहित ई-मेल करें.
      dr.rk.solan@gmail.com

      Reply
  34. राजू देवल

    Sir im suffering from hbsag. . Last 8 years.. Mene Baba ramdev ka bhi ilaj liya par negetive nhi hua. Ab aap hi help kre negetive karne ki.. PlsPls

    Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      Rajesh Kapoor

      चित्र सहित पूरा विवरण और डाक का पूरा पता भेजें.

      Reply
  35. Gopichand Chavan

    डॅा. साहब बच्चे की दवाईयाँ रह गई है. कृपया वह भेजे. धन्यवाद

    Reply
  36. Gopichand Chavan

    कपूर साबह आप का संदेश मिल गया धन्यवाद. कपूर साहब आप मेरा हेपॅटीटीस बी निगेटिव्ह करवा दिजीए. फिर देखिए मै क्या करता हू.

    Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      Rajesh Kapoor

      कृपया अपना फोन न. और डाक का पता भेजें.

      Reply
      • nazim

        Sir Mujhe bhi dawa dijiye Sir main bhi ten year se pareshan hoon Sir Isliye please Mujhe bhi hepetitis b.theek hone ka dawa dijiye sir

        Reply
  37. Gopichand Chavan

    सिंह साब आप 1991 से पिडित हे ऐसे बता रहे है तो आप लोगोंसे कहे कि आपने कोन कोनसी चिकिस्ता पध्दती का अवलंब किया हे. अगर कपूर साहेब दावे के साथ कह रहे तो कम से कम उपचार या दवा लेकर ते देखना चाहिये ताकी सच और झूठ सामने आ जायेगा.

    Reply
    • आर. सिंह

      आर. सिंह

      मैंने यह कहीं या कभी नहीं लिखा है कि मैं १९९१ से हैपेटाइटिस बी से पीड़ित हूँ.मैंने केवल यह लिखा है कि १९९१ में गॉलब्लेडर का आप्र्शन होने के दो महीने बाद मैं हैपेटाटिस बी का शिकार हो गया था,जिसके चलते मुझे हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया थंऐन वहां से करबारह या तरह दिनों में अच्छा हो कर निकला था,पर मुझे बताया गया था कि हैपेटाटिस बी के कीटाणु खून में हमेशा मौजूद रहते हैं,अतः एक बार इस रोग से पीड़ित होने बाद व्यक्ति रक्तदान नहीं कर सकता। ऐसे तो आज से पांच या छह वर्ष पहले जब मैंने दिल्ली के अपोलो अस्पताल में पूरे शरीर का जांच कराया था ,तो मेरे खून में उसका कोई अंश नहीं पाया गया थ.वहां के डाक्टरों को शक हो गया था कि मुझे वास्तव में हैपेटाइटिस बी हुआ था या नहीं.तब मैंने उन्हें सर गंगा राम अस्पताल से १९९१ करेकर्ड मंगाने की सलाह दी थी. मेरी अपनी आदत है कि अगर कोई विशेष रोग मुझे हो जाए तो मैं उसके बारे में अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त करने का प्रयत्न करता हूँ.अतःमैंने जो भी लिखा है,वह मेरे व्यक्तिगत अनुभव के साथ मेरे अध्ययन का परिणाम है.

      Reply
  38. manoj

    hep b cure ( negative ) ho sakta hai kya gumma k phul kaha milenge phul k photo hai to mail kijiye

    Reply
  39. अनिरूद्ध

    आप सब का लेख पढ कर आनंद आया डा०कपूर जी का नुक्सा लिख लिया हु किसी और के कल्लयाण हेतु आज एक सज्जन थायराईड का राम बाण ईलीज पुछे तो मै राजीव दिक्षीत जी का बताया हुआ नुक्सा बताया धनिया के पत्तो की चटनी एक चम्मच एक गिलास गर्म पानी मे डाल कर पिये व सर्वागआसन करने को बताया क्यायह ठीक हा यदि आपसबके पास कोई और है तो मार्ग दर्सन करे ०८१०८८५३०७५

    Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      Dr. Rajesh kapoor

      अनिरुद्ध जी, कैलाश श्रिास्तव जी, अनिता काले जी, मोहन यादव जी, योगेश जी, हरिशंकर जी आदि आप सब से निवेदन है की मेरे मोबाईल पर रात को ८ बजे के बाद संपर्क करें तथा इ मेल करें. ०९६९०० ६५७८५ 096900 65785

      Reply
  40. kailash Shrivastava

    डॉक्टर कपूर जी,
    सादर अभिवादन ,
    पारम्परिक दवाओ की जानकारी आपने दी धन्यवाद,गुम्मा नामक (द्रोण पुष्पी) ,श्योनाक (टाटबडंगा, अरलू, )की पहचान किस प्रकार होगी साधारण आदमी कैसे पहचानेगा।

    Reply
  41. MOHAN YADAV

    Sir mera nam mohan yadav h mere wife hepetietice-B h aur wah pregnent h 25 nov 2014 ka date h, mai aur meri beti dono log hepetietice B negative sir mujhe kya karana chahiye please help me

    Reply
  42. Yogesh kumar

    Sir g mujhe hepatitis b hai jo ki mujhe 16/09/14 ko pata laga hai. So pls adress & mob no. Send

    Reply
      • BHUPENDRA SINGH

        डॉक्टर साहब,
        आठ साल पहले हेपेटाइटिस बी मेरे खून में पता चला है. मैं एहतियात लेना शुरू कर दिया है और यह भी दो साल के लिए आयुर्वेद और यूनानी डॉक्टरों से सलाह ली थी. पिछले चार साल से मैं कारण सावधानियों के साथ सभी चिकित्सा और बंद कर दिया है.
        आज मैं जांच कर ली थी. मेरा ब्लड रिपोर्ट एसजीपीटी सामान्य है कि कहते हैं.
        Pl. आगे मुझे सलाह द.

        Reply
  43. गणेश जुनघरे

    डॉ.कपुर सर मेरे भाई को पिलीया और जलोदर ओर
    हेपेटायटीस है क्या ऊसका ईलाज संभव है?

    Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      Dr.Rajesh Kapoor

      Lekh padhane ke bad bhi sandeh ho to ratri 8 baje se 9 baje ke beech call karen.

      Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      Dr Rajesh Kapoor

      hepatitis, piliya aur jalodar ki chikitsa ek sath ki ja sakati hai. yadi is lekh se santushti n ho to mail karen.

      Reply
  44. Avdesh Srivastav

    Dear Dr. Rajesh Kapoor,

    मैंने आप का पेज लखीसराय पढ़ा है। जो मुझे बहुत पसंद आया है. मैंने आप का एक लेख हैपेटाईटिस-बी के बारे में पढ़ा जिसमे आप ने गुम्मा नामक (द्रोण पुष्पी) पौधे के बारे मैं लिखा है। वो लेख मुझे बहुत अच्छा लगा , क्या आप मुझे उस पौधे के बारे मैं बता सकते हैं की वो कहाँ मिलेगा क्युकि मुझे बार बार हल्का पीलिया हो जाता है।मुझे हैपेटाईटिस-बी तो नहीं है पर ५ साल से मुझे हल्का पीलिया रहता है। मैं आप के बताये उस इलाज़ को करना चाहता हूँ क्युकि मुझे किसी ने बताया है की पीलिया का इलाज़ सिर्फ और्वेद मैं है। अगर आप मुझे वो पौधा कही से दिला दे या उसके बारे में बता दे की वो कहाँ मिलता है तो मैं आप का बहुत आभारी रहूँगा।
    email: avdhesh.shrivastav@gmail.com

    Reply
  45. anil singh tomar

    कपूर साहब नमस्कार मै bhi हिपाटायटीस बी का शिकार हु कुपया सुजाव दे
    anil tomar delhi

    Reply
  46. pankaj kumar

    सर में हेपेटाइटिस सी हैं। मेरा फौज में 1साल से इलाज भी चल रहा हैं। लेकिन 48 injuction के बाद भी 8000 वाई रस अभी भी बाकी रह गया ह। प्लीज मुझे इसका इलाज बताये।मेरा मोबाइल 9906287759 और pundeer 23@gmail.com

    Reply
  47. pankaj kumar

    सर में हेपेटाइटिस सी हैं। मेरा फौज में 1साल से इलाज भी चल रहा हैं। लेकिन 48 injuction के बाद भी 8000 वाई रस अभी भी बाकी रह गया ह। प्लीज मुझे इसका इलाज बताये।

    Reply
  48. Pradeep Mishra

    kapur sir namaskar I am suffring form hepatitisb for one manth my mobile no is 9161348972 kindly give me your address&mobileno

    Reply
    • आर. सिंह

      आर. सिंह

      प्रदीप मिश्र जी,अगर आप सचमुच में हेपेटाइटिस बी से एक महीने या उससे ज्यादा दिनों तकक पीड़ित थे और आपने विशेषज्ञ द्वारा दिए गए सलाह के अनुसार काम नहीं किया होता तो आप यह लिखने के लिए इस दुनिया में नहीं रहते,अतः मैं दावे के साथ कह सकता हूँ कि आप हेपेटाइटिस बी के शिकार नहीं हैं.आपका केस भी श्री अंकित मिश्र की तरह है,जिनके बारे में मेरी दी हुई टिप्पणी यहां मौजूद है.

      Reply
  49. Pradeep Mishra

    Sir
    Mere Ko Hepatitis B ki problem hai, Pls send your address or mob. no.
    i want to meet you.

    Reply
    • आर. सिंह

      आर. सिंह

      अगर किसी को सचमुच हैपेटाइटिस बी है,तो अगर उसने जल्द ही पूर्ण विश्राम नहीं कियाऔर जल्द ही किसी विशेषज्ञ से सलाह लेकर अपना उचित इलाज नहीं किया,तो उसका बचना मुश्किल है.हैपेटाइटिस बी इतना अवसर नहीं देता कि आप विभिन्न प्रयोग कर सकें.इस पर मैं इतनी बार टिप्पणी दे चुका हूँ कि अब लगता है कि या तो लोग हैपेटाइटिस बी के बारे में जो कुछ यहां लिख रहे हैं,वह टिपण्णियों को आगे बढ़ाने के लिए किया जा रहा हैया हैपेटाइटिस ए को भी हैपेटाइटिस बी समझ रहे हैं.इस सिलसिले मैंने एक सज्जन के बारे में अपनी तरफ से कुछ खोज भी किया था,उसका विवरण भी यहां मौजूद है.अगर किसी को हैपेटाटिस बी होता है,तो उसके कारण भी वही हैं,जिससे एड्स होता है.अतः आप इस बात को आगे बढ़ाने से पहले सोचिये कि क्या आप उन कारणों से गुजरे हैं?

      Reply
      • Chandrapal singh

        Sir Mughe hepatitis b hai mughe 2011 me pata chala sir me B.S.F me hoo koi dabai h jis se hapatitis nagetive. Ho ho jaye ap ki ati krapa hogi sir

        Reply
  50. Dr. Harikesh Singh

    सर क्या आप अपना मोबाइल नंबर दे सकते है जिससे मेरी आपसे बात हो जाये.

    Reply
      • NARENDRA LAVTI

        सर मुझे छह महीने से हेपेटाइटिस बी का इन्फेक्शन हे
        मेने आपका इलाज के बारे में पढ़ा लेकिन में आपके
        सानिध्य में इलाज करवाना चाहता हूँ । कृपया समय एवं पता बताए
        धन्यवाद
        नरेंद्र लावटी – उदयपुर ( राजस्थान )
        09414168173

        Reply
        • आर. सिंह

          आर. सिंह

          आपने जून में लिखा था कि आप पिछले छह महीने से हेपेटाइटिस बी रोग से पीड़ित हैं. मेरा अनुभव है कि अगर आपको उतने दिनों पहले से हेपेटाइटिस बी होता,तो आप कबके स्वर्ग सिधार गए होते. आज तीन महीने बाद मेरी इस टिप्पणी पर नजर पडी.अगर आप बिना ख़ास इलाज या विशेज्ञा के सलाह के अब तक जीवित हैं,तो मैं शर्तिया कह सकता हूँ कि आपको हेपेटाइटिस बी नहीं है.

          Reply
  51. Sushil rawat

    डॉ कपूर जी नमस्कार
    आपका लेख पढ़ा मुझे कभी कुछ दिन पूर्व खुद को हेपेटाइटिस बी प्वाजिटिव होने का पता चला अभी एक सप्ताह पूर्व से मुझे हल्का बुखार मितली तथा हल्का पेट दर्द है मैंने आपका लेख पढ़कर आपकी बताई छल का प्रयोग ३दिन तक किया है कुछ आराम तो महसूस हो रहा है पर क्या मई हेपेटाइटिस के वाइरस के मुक्त हो पाउँगा ……….

    Reply
    • आर. सिंह

      आर.सिंह

      ऐसे तो आजकल मेरी टिप्पणियों को नजर अंदाज किया जा रहा है.यहाँ तक की मेरी पर्यावरण के बारे में टिपण्णी भी सामने नहीं आयी,फिर भी अगर यह टिपण्णी प्रकाश में आ गयी ,तो मेरी सलाह मानिये कि अगर आपने टेस्ट कराया है और यह निश्चित रूप से पता चला है कि आपको हैपेटाइटिस बी है तो आप अपनी जिंदगी से खिलवाड़ मत कीजिये और तुरत विशेषज्ञ से सलाह लीजिये. इसके बारे में मेरी पहले की टिप्पणियों को भी देखिये.

      Reply
      • शिवेंद्र मोहन सिंह

        आपकी ही नहीं सिंह साहब मेरी भी बहुत सारी टिप्पणियों का कोई अता पता नहीं है. निराश मत होइए.

        Reply
          • शिवेंद्र मोहन सिंह

            बहुत खूब, त्वरित उत्तर. आपसे यही उम्मीद थी, और पिछले ३-४ दिनों से टिप्पणियां तुरंत ही ब्लॉग पर आ जा रही हैं. अच्छा बदलाव किया है सिस्टम में. लेकिन ये “आपने कहा” विंडो में कब प्रसारित होता है.

          • Ajij ahmad

            Ajij ahmad .Dr.sahab namaskar abhi abhi 4din pehle pata chala jub mai beades k liea medical karwane gaya .hospitals gaya tab pata chala .ki mujko hepatitis b.hai dr .sahub ne bola .ki patni ka jach karao sir kiya meri patni aur baccho ko ho sakta hai lekin liber narmal hai dockter ne bataya aur baccho ko tika lagwane k liea kaha kapur sahab iska jawab jald se dijiea please

    • डॉ. राजेश कपूर

      dr.rajesh kapoor

      सुशिल जी कृपया अपना पता और पूरा विवरण बतलायें. छाल कहाँ से ली और कैसे खाई और आपको कौनसे प्रकार का हेपेटाईटिस है. यदि आप पहाड़ी क्षेत्र में रहते हैं तो समाधान आसान होगा.

      Reply
  52. डॉ. राजेश कपूर

    dr.rajesh kapoor

    आदरणीय बंधू सिंह साहेब,
    मैं एक पारंपरिक चिकित्सक हूँ और तकनीकी जानकारी एलोपैथिक चिकित्सकों से कम है. पर इससे गत ३०-३५ वर्ष में चिकित्सा में कोई बाधा नहीं आती. जो भी जानकारी चाहिए, इन्तर्नैट पर उपलब्ध है. कई बार अपने एलोपैथिक मित्रों से परामर्श ले लेता हूँ, पर उनकी दवा लेनी की भूल नहीं करता. आयुर्वेद में उनसे कहीं अधिक प्रमाणिक और निरापद इलाज उपलब्ध है.
    * जहां तक बात है हैपेटाईटिस की तो यह रोग ”हेपेटाईटिस-बी” नामक वायरस से होता है जो की ‘एच आई वी’ से ५० से १०० गुणा तक अधिक संक्रामक बतलाया जाता है. इसके बिगड जाने से लीवर सिरोसिस और लीवर कैंसर होने की आशंका होती है.
    – इसके वायरस को ‘हेपाडीएनएवायरस’ भी कहा जाता है, क्यूंकि यह हैपा अर्थात लीवर के ‘डीएन’ पर प्रभाव करता है. यह वायरस लीवर के इलावा रक्त, सीरम, ठुक मूत्र आदि रसों में भी पहुँच जाता है और रोगी के संपर्क ( रक्त, थूक, मूत्र आदि से ) से अन्य लोगों में फ़ैल सकता है.
    – ज्ञातव्य है कि ‘हैपे’ यानी यकृत या लीवर तथा आईटिस यानी सूजन.
    # स्मरणीय यह है कि जो समाधान ( श्योनाक की छाल का प्रयोग ) ऊपर के लेख में दिया गया है, उसे एक बार आजम कर तो देखें. कहते हैं न कि ”प्रत्यक्षं किम प्रमाणं” , प्रत्यक्ष को प्रमाण क्या. परिणाम न हो तो कहें कि गलत है. वैसे भी एक से तीन दिन का तो प्रयोग है, आजमाने में जाता क्या है.
    अभीतक एक भी ऐसी टिप्पणी नहीं आयी है कि किसी ने इसे आजमाया हो. कभी अवसर आये ( ईश्वर करे कि किसी को ऐसी समस्या कभी न हो ) तो ज़रूर आजमायें और टिप्पणी करें.
    पुनः धन्यवाद सहित सादर,

    Reply
    • आर. सिंह

      आर.सिंह

      डाक्टर कपूर धन्यवाद. प्रथम तो मैं यह बतलाना चाहूंगा कि आपलोग इंटरनेट पर लिखी हुई सब बातों पर पूर्ण भरोशा मत कीजिये. दूसरी बात जो मैं सामने रखना चाहता हूँ,वह यह है कि जब तक पता चलता है कि यह पीलिया हैपेटाईटिस-बी है,तब तक इतना देर हो चूका होता है कि किसी तरह के प्रयोग की गुंजायस नहीं रहती,अतः मेरी विनम्र सलाह यही है कि हैपेटाईटिस-बी पर ऐसे प्रयोग न किये जाएँ तो ज्यादा अच्छा हो.

      Reply
  53. आर. सिंह

    आर.सिंह

    साधारण पीलिया पानी के संक्रमण से उत्पन्न बिमारी है,जब कि मेरी जानकारी के अनुसार हैपेटाईटिस-बी के वही कारण हैं,जो एड्स के हैं.

    Reply
  54. आर. सिंह

    आर.सिंह

    मैं १९९१ में हैपेटाईटिस-बी का शिकार हो चूका हूँ. अप्रैल या मई १९९१ में मेरा गॉल ब्लैडर के स्टोन के लिए आपरेशन हुआ था.उसके तीन या चार महीने के बाद मुझे पीलिया हो गया. मैं चूंकि उस समय नौकरी में था और दिल्ली में नियुक्त था,अतः हमारे कंपनी के डाक्टर ने देख कर कुछ जांच कराने को कहा.फिर जांच की रिपोर्ट के साथ मुझे दूसरे दिन परामर्श के लिए बुलाया.दूसरे दिन रिपोर्ट देख कर मुझे विश्राम की सलाह दी.इसी बीच मैंने अपने एक डाक्टर मित्र को फोन किया .उन्होंने तुरत हैपेटाईटिस-बी के लिए जांच कराने को कहा,क्योंकिउन्हें मेरे आपरेशन के बारे में पता था. जांच से कन्फर्म हो गया की मुझे हैपेटाईटिस-बी है.इस की खबर मिलते ही मेरी बेटी ,जो उस समय आंध्र प्रदेश में इन्टरनशिप कर रही थी,दिल्ली आ गयी .मैं तो घर में रेस्ट कर ही रहा था,पर उसने तुरत मुझे अस्पताल में भर्ती होने को कहा,क्योंकि उसको इसका खतरा मालूम था. अस्पताल में मैंने देखा कि पूर्ण विश्राम होने पर भी मेरा विल रोबिन बढ़ता जा रहा है और वह खतरे कि सीमा तक पहुच गया,पर बाद में घटना शुरू हुआ.और करीब पंद्रह दिनोंके बाद मैं अस्पताल से बाहर आया
    इसी बीच जो अनुभव मुझे हुआ,वह मैं आपलोगों से शेअर करना चाहता हूँ.
    १ . हैपेटाईटिस-बी साधारणइस पीलिया रोग( हैपेटाईटिस-ए) सेअलग है और इसमें तनिक भी असावधानी जान लेवा सिद्ध हो सकती है
    २.जो साधार१ण वैदिये टोटके हैं,वे इसमे न इस्तेमाल किये जाएँ.
    ३.बाद में मैंने पढ़ा कि हैपेटाईटिस-बी के शिकार रोगियों में से ८०% लोग १५ या २० वर्षों केअन्दर लीवर कैंषर के शिकार हो जाते हैं,पर इसमे मुझे संदेह है.
    ४..मैंने यह भी पढ़ा कि हैपेटाईटिस-बी का रोगी रक्त दान नहीं कर सकता,क्योंकि इसके कीटाणु हमेशा के लिए खून में रहते है.
    बहुत सी अन्य बातों का भी पता चला..इस रोग के होने के कारणों का भी पता चला.
    एक बात में मैं डाक्टर कपूर से सहमत हूँ कि असल जानकार लोग इसके टीके कि सलाह नहीं देते.

    Reply
  55. डॉ. राजेश कपूर

    Dr.Rajesh kapoor

    सुन्दर जी,
    आप मेरे आलेख को पढ़ कर इतने विचलित क्यों होगये की सभ्य भाषा को भुला बैठे ?. अस्तु यदि…..
    – मेरे प्रयोग से हर प्रकार का पीलिया या किसी भी प्रकार का हेपेटाईटिस ठीक न हो तो मुझे ज़रूर दोष दें. फिर भी यदि आप मुझ से सहमत न हों तो तर्क सहित मेरी बात का खंडन करें,आप कुछ जानते हैं तो मुझे सीखने-समझने में प्रसन्नता होगी. असभ्य भाषा के प्रयोग से तो कोई समाधान सम्भव नहीं.
    सप्रेम आपका शुभचिंतक,

    Reply
    • ankit mishra

      डॉक्टर साहब आप हमे सुझाव दे की हमारी पत्नी को हेप्तितिएस बी हो गया है कैसे ठीक होगा और वो प्रेग्नेंट व् है मो नो=8982947829

      Reply
      • डॉ. राजेश कपूर

        dr.rajesh kapoor

        मिश्रा जी चिंता न करें और उपरोक्त लेख को पढ-समझकर चिकित्सा करें, फिर देखे कमाल.

        Reply
      • आर. सिंह

        आर.सिंह

        अंकित जी,आपको मेरी विनम्र सलाह यही है,कि पत्नी की इस नाजुक अवस्था में किसी तरह का प्रयोग न करें और उनको अविलम्ब किसी अच्छे अस्पताल में भर्ती कराएं. उनको पूर्ण विश्राम के साथ किसी विशेषग्य से उपचार की तुरत् आवश्यकता है.

        Reply
        • आर. सिंह

          आर.सिंह

          मुझे यह टिपण्णी लिख कर ही संतोष नहीं हुआ. मैंने उनके नंबर पर फोन किया ,तो पता चला कि अंकित मिश्र को तो यह भी याद नहीं है कि उन्होंने कहाँ यह टिपण्णी की थी. मैंने उन्हें यह सन्दर्भ दिया.वे बिहार के रहने वाले हैं और इस समय छत्तीस गढ़ में कार्य रत हैं. उनकी पत्नी को बाहरी रूप से पीलिया का कोई लक्षण नहीं है. उन्होंने किसी कीट से टेस्ट किया था,वह भी एक महीने पहले. जहां तक मेरा अनुभव या ज्ञान है,अगर उनकी पत्नी हैपेटाईटिस-बी रोग की मरीज होती तो अब तक स्वर्ग सिधार गयी होती.

          Reply
    • preeti sharma

      hello sir,
      mere papa koi hepatitis c or liver cancer h. jiska pta ham koi 3 month phele pta chala or Dr. nai only 2 month ka time diya h plz kuch karo

      Reply
    • preeti sharma

      hello sir,
      mere papa koi hepatitis c or liver cancer h. jiska pta ham koi 3 month phele pta chala or Dr. nai only 2 month ka time diya H

      Reply
  56. sunder

    इतनी ज्यादा गलत व् झूठी सूचनाये देने के लिए तुझे जेल हो सकती हे. हेपेटाइटिस बी की अब्च्द भी पता हे तुझे अज्ञानी झोलाछाप

    Reply
    • डॉ. मधुसूदन

      डॉ.मधुसूदन

      सुंदर जी से आदर सहित अनुरोध।

      आप यदि आलेख लिखें तो अच्छा होगा।
      न आप की बात मैं काट रहा हूँ, न प्रमाणित मान रहा हूँ।
      आगे बढिए, और आलेख बनाइए।
      शुभस्य शीघ्रम्‌।

      Reply
  57. डॉ. राजेश कपूर

    dr.rajesh kapoor

    aajakal gurde kharaab hone ke rogi atyadhik badh rahe hain. meraa sujhaaw hai ki is lekh ko padh kar har pariwaar mein is kaa upayog binaa rogi bane bhi kabhi-kabhi karate rahen. yadi shyonaak n mile to swaami raamdew ji kaa sarwkalp kwaath hi kabhi-kabhi pite rahen to gurde, liver aadi wishaile fal-sabjiyon ke dush prabhaawon se bache rahenge.

    Reply
  58. दिवस दिनेश गौड़

    Er. Diwas Dinesh Gaur

    आदरणीय कपूर साहब आपके द्वारा दी गयी जानकारी बहुत अच्छी लगी| मुझे तो कभी भी एलोपैथी पर विश्वास नहीं रहा, किन्तु आयुर्वेद का असर तो मैंने भी देखा है| मेरे एक मित्र को भी हैपेटाईटिस की शिकायत है, उसे यह लेख जरूर पढ़ाऊंगा|

    धन्यवाद|

    Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      dr.rajesh kapoor

      परम आत्मीय इंजी.गौड जी,
      क्षमा करें कि आपकी टिप्पणि आज ही दृष्टि में आई और अब देरी से उत्तर दे रहा हूँ. अपने मित्र के बारे में कोई सूचना हो तो बतलाने की कृपा करें.
      आयुर्वेद की दवाओं का असर न होने या कम होने का प्रमुख कारण है उनका बहुत पुराना होना और उनपर कीट नाशकों का छिडकाव. अधिकाँश काष्ठ औषधियों की आयु ६ मॉस से एक वर्ष तक होती है. पर व्यापारी व औषध निर्माता उद्योगपति परवाह कहाँ करते हैं. कई बार वर्षों पुराणी जडी-बूटियों का प्रयोग दवा बनाने में किया जाता है. उन्हें फंगस व कीटों से बचाने के लिए उनपर विषैले कीटनाशकों ( डी डी टी, डायथेन आदि) का छिडकाव किया जाता है. बनाने के बाद चूर्ण, वटियों की आयु समाप्त होने के बाद भी वे बाज़ार में बिकती रहती हैं, फिर असर कैसे होगा ? इतना होने पर भी आयुर्वेद का सामान व प्रचार निरंतर बढ रहा है तो उसकी उपादेयता निरापद है तभी तो .
      सही आयुर्वेदिक चिकित्सा तो वही है जिसमें वैद लोग स्वयं अपने हाथ से घोंट-पीस कर दवाएं देते थे. अतः विशाल आयुर-फार्मेसियों के स्थान पर वैद्य परम्परा को प्रोत्साहन मिलना चाहिए.

      Reply
      • vijulal sabale

        कपूर साहब नमस्कार मै २ महिने से हिपाटायटीस बी का शिकार हु फिसर के ऑपरेश न के बाद रिपोर्ट के मालूम पडा मैने स्पेसालीस्ट डॉ से बहुत सारी जाचं कि रिपोर्ट किया बिलुबिरीन sgpt २०० तक बढा था डॉ ने २ पर्याय दिया एक इंजेक्शन का जो एक साल तक हर ८ दिन मे लेने हो जिसका खर्च ३००००० तक था और दुसरा गोलिया लेना जीवन भर जिसका मासिक खर्च १२०० तक था और निगेटिव होणे का कोई चान्स नही फिर मैने रामदेव बाबा के पतंजली मे जाकर सलाह ली फिर उनकी trit सुरु कि और वह बोले कि आप सर्वकल्प कवाथ ,गीलोय घनवती,पुनर्नवा ,उदारामुत वती आरोग्यवर्धिनी वती और कूच चूर्ण ले रहा फिलहाल १ महिने के बाद और रिपोर्ट बनाय तो sgpt वैगारा पुरा नॉर्मल हो गया अभितो बहुत अच्छा लग रहा है लेकीन आप ने जो सलाह दि है वह भी प्रयोग किया तो फायदा होगा क्या आयुर्वेद से इसका रिपोर्ट निगेटिव हो सकता है? कुपया सुजाव दे v s patil महाराष्ट्र

        Reply
    • आर. सिंह

      आर.सिंह

      साधारण पीलिया को भी असावधानी की वजह से कम्प्लीट लीवर फेलियर में पतिवर्तित होते हुए मैंने देखा है.उसके बाद केवल ५ या ७ प्रतिशत रोगी बच पाते हैं. अतः पीलिया को आपलोग साधारण रोग न समझें. पीलिया की विभिन्न श्रेणियां उसके भयानकता के आधार पर बनाई गयी है.अतः सब प्रकार की पीलिया को एक न समझें.

      Reply
    • राजकुमार सिंह

      सर मै हैपेटाइटिस बी से 2 साल से पीड़ित हु मैंने एलोपैथी में दवाई करवाया लेकिन कोई आराम नहीं मिला कृपया मुझे कोई सुझाव दीजिए मई बहुत परेशान हू

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *