लॉक डाउन है,घर से निकलते क्यों हो |

लॉक डाउन है,घर से निकलते क्यों हो |
फिर बेबजह पुलिस से इलझते क्यों हो ||

मालूम है तुमको कोरोना कहर ढा रहा |
फिर मौत को गले लगाते क्यों हो ||

घर में है जब सुंदर सी पत्नि तुम्हारी |
फिर बाहर जाकर इश्क लडाते क्यों हो ||

बूढ़े हो गये जवानी ढल गयी है तुम्हारी |
फिर आईने के सामने संवरते क्यों हो ||

चैट करके इश्क करते हो मोबाइल पर |
फिर इश्कियो से मुलाकात करते क्यों हो |

मिलेगे जरूरी सामन तुम्हे अपने घर पर |
फिर भी घर से तुम निकलते क्यों हो ||

आर के रस्तोगी

Leave a Reply

%d bloggers like this: