More
    Homeमीडियासवालों में पत्रकारिता और पत्रकारिता पर सवाल

    सवालों में पत्रकारिता और पत्रकारिता पर सवाल

    हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर विशेष लेख

    सवाल करती पत्रकारिता इन दिनों स्वयं सवालों के घेरे में है. पत्रकारिता का प्रथम पाठ यही पढ़ाया जाता है कि जिसके पास जितने अधिक सवाल होंगे, जितनी अधिक जिज्ञासा होगी, वह उतना कामयाब पत्रकार होगा. आज भी सवालों को उठाने वाली पत्रकारिता की धमक अलग से दिख जाती है लेकिन ऐसा क्या हुआ कि हम सवालों से किनारा कर गए. सवाल हमें दिये जाते हैं और जवाब भी पहले से तय होते हैं, इस पर कोई संशय नहीं होना चाहिए क्योंकि यह सच सब जानते हैं. जब 30 मई को हिन्दी पत्रकारिता दिवस की चर्चा करते हैं तो मन में सहज यह सवाल आता है कि पंडित जुगलकिशोर जी सवाल नहीं करते तो क्या उदंत मार्तंड आज भी हमारे स्मरण में होता? जिस अखबार ने अंग्रेजी शासकों के नाक में नकेल डाल रखी थी, वह सवालों से दूर होता तो क्या आज हम हिन्दी पत्रकारिता पर गौरव कर सकते थे? इसका जवाब शायद ना में होगा. उदंत मार्तंड ही क्यों, पराधीन भारत के हर उस पत्र ने अंग्रेजों से सवाल किये तो उनका दमन किया गया. इतिहास इस बात का साक्षी है. लेकिन आज स्वतंत्र भारत में ऐसा क्या होगा कि हम सवाल नहीं कर पा रहे हैं? सवाल और पत्रकारिता एक-दूसरे के पूरक हैं. सवाल होंगे तो पत्रकारिता होगी और बिना सवाल पत्रकारिता नहीं हो सकती है.
    वर्तमान समय में पत्रकारिता सवाल नहीं कर रही है बल्कि पत्रकारिता सवालों के घेरे में है. पत्रकारिता को लेकर जो सवाल दागे जा रहे हैं, वह कुछ अधकचरे हैं तो कुछ तार्किक भी. पत्रकारिता की विश्वसनीयता को लेकर सबसे पहला सवाल होता है. कदाचित कुछ अंश तक इसे सच भी मान लिया जाए तो गैर-वाजिब नहीं होगा लेकिन यह पूरा सच नहीं है. पहला तो यह कि पत्रकारिता अगर अविश्वसनीय हो गया होता तो समाज का ताना-बाना छिन्न-भिन्न हो गया होता. पत्रकारिता समाज का प्रहरी है और वह बखूबी अपनी जिम्मेदारी को निभा रहा है. पत्रकारिता एकमात्र ऐसा स्रोत है जिससे अमर्यादित व्यवहार करने वाले, समाज की शुचिता भंग करने वाले और निजी स्वार्थ के लिए पद और सत्ता का दुरुपयोग करने वाले भयभीत रहते हैं. यह एक पक्ष है तो समाज का बहुसंख्य वर्ग जो किसी तरह अन्याय का शिकार है, व्यवस्था से पीडि़त है और उसकी सुनवाई कहीं नहीं हो रही है तब पत्रकारिता उसकी सुनता है और उसके हक में खड़ा होता है. इन दो पक्षों की समीक्षा करने के बाद यह आरोप अपने आपमें खारिज हो जाता है कि पत्रकारिता अविश्वसनीय हो चला है. अपितु समय के साथ पत्रकारिता समाज के लिए अधिक उपयोगी और प्रभावकारी के माध्यम के रूप में अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहा है.
    इन सबके बावजूद इस बात को खारिज करने के बजाय चिंतन करना होगा कि पत्रकारिता की विश्वसनीयता पर सवाल क्यों उठ रहा है? इसका एक बड़ा कारण यह है कि अब पत्रकारिता में जो लोग आ रहे हैं, वह सामाजिक सरोकार से नहीं बल्कि व्यक्तिगत स्वार्थसिद्धि के लिए पत्रकार बनने को बेताब हैं. जीवन भर शासन और सत्ता का सुख भोगने के बाद पत्रकार बन जाने वाले लोग सेवानिवृत्ति के बाद मिलने वाले आर्थिक सुख को तिलांजलि देने के स्थान पर उस लाभ के साथ खड़े हैं. सालों शासन और सत्ता की चाकरी करने के बाद आज बता रहे हैं कि सिस्टम में जंग लग चुका है इसलिए उन्हें पत्रकारिता में आना पड़ा. ऐसे लोगों के कारण जमीनी पत्रकार दरकिनार कर दिये जाते हैं. सुविधाभोगी पत्रकारों की बड़ी फौज के कारण पत्रकारिता की विश्वसनीयता पर सवाल उठ रहा है. ये वो लोग हैं जिन्होंने कभी पराडक़र जी की पत्रकारिता की कक्षा में नहीं गए, ये वो लोग हैं जो नहीं जानते कि माखनलाल चतुर्वेदी जेल के सींखचों में बंद होने के बाद भी पत्रकारिता का धर्म निभाते रहे. शायद ये लोग गणेशशंकर विद्यार्थी की शहादत से भी अपरिचित हैं. तब इन्हें इस बात का इल्म कैसे हो सकता है कि आज भी हजारों पत्रकारों का परिवार वायदे पर जी-मर रहा है. ऐसे लोगों का पत्रकारिता के मंच पर स्वागत भी है लेकिन शर्त है कि वे सेवानिवृत्ति के बाद के आर्थिक लाभ को छोडक़र आएंगे जो शायद उन्हें मंजूर नहीं होगा.
    हिन्दी पत्रकारिता दिवस एक ऐसा अवसर है कि हम अपनी समीक्षा स्वयं करें कि आखिर कहां से चले थे और कहां पहुंच गए? पत्रकारिता मिशन थी तो यह प्रोफेशन में कैसे बदली या पत्रकारिता ने मीडिया का वेश कब धर लिया और सामाजिक सरोकार की पत्रकारिता कब मीडिया इंडस्ट्री में बदल गई. आज जब हम मीडिया इंडस्ट्री की बात करते हैं तो यह विशुद्ध व्यवसाय है और व्यवसाय सरोकार को नहीं, सहकार और लाभ की कामना करता है. शासन और सत्ता को भी सहकार लेना और लाभ देना सुहाता है इसलिए मीडिया जब इंडस्ट्री है तो सब जायज है लेकिन पत्रकारिता आज भी सौफीसदी खरी है क्योंकि पत्रकारिता समाज की ताकत है. पत्रकारिता आज भी मिशनरी है और कोविड जैसे महामारी के समय समाज ने इस बात को महसूस किया. सरोकारी पत्रकारिता का केनवास छोटा दिख सकता है लेकिन उसके प्रभाव और परिणाम ही पत्रकारिता की धडक़न है.

    मनोज कुमार
    मनोज कुमार
    सन् उन्नीस सौ पैंसठ के अक्टूबर माह की सात तारीख को छत्तीसगढ़ के रायपुर में जन्म। शिक्षा रायपुर में। वर्ष 1981 में पत्रकारिता का आरंभ देशबन्धु से जहां वर्ष 1994 तक बने रहे। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से प्रकाशित हिन्दी दैनिक समवेत शिखर मंे सहायक संपादक 1996 तक। इसके बाद स्वतंत्र पत्रकार के रूप में कार्य। वर्ष 2005-06 में मध्यप्रदेश शासन के वन्या प्रकाशन में बच्चों की मासिक पत्रिका समझ झरोखा में मानसेवी संपादक, यहीं देश के पहले जनजातीय समुदाय पर एकाग्र पाक्षिक आलेख सेवा वन्या संदर्भ का संयोजन। माखनलाल पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय, महात्मा गांधी अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी पत्रकारिता विवि वर्धा के साथ ही अनेक स्थानों पर लगातार अतिथि व्याख्यान। पत्रकारिता में साक्षात्कार विधा पर साक्षात्कार शीर्षक से पहली किताब मध्यप्रदेश हिन्दी ग्रंथ अकादमी द्वारा वर्ष 1995 में पहला संस्करण एवं 2006 में द्वितीय संस्करण। माखनलाल पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय से हिन्दी पत्रकारिता शोध परियोजना के अन्तर्गत फेलोशिप और बाद मे पुस्तकाकार में प्रकाशन। हॉल ही में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा संचालित आठ सामुदायिक रेडियो के राज्य समन्यक पद से मुक्त.

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    * Copy This Password *

    * Type Or Paste Password Here *

    12,314 Spam Comments Blocked so far by Spam Free Wordpress

    Captcha verification failed!
    CAPTCHA user score failed. Please contact us!

    Must Read