मजदूर

1
208

मंजुल भटनागर

मजदूर कहाँ
ढूंढ़ता हैं छत अपने लिए
वो तो बनाता है मकान
धूप में तप्त हो कर
उसकी शिराओ में
बहता है हिन्दुस्तान —-

मजदूर न होता
तो क्या कभी बनता
मुमताज़ के लिए
ताज महल सी शान
और चीन की दिवार
आश्चर्य, कहाती सीना तान ——

मजदूर ने खडे किये गुम्बद मह्ल
रेगिस्तानो में ,जो है शहरों की आन
अजंता एल्लोरा कला शिलिप
देती है उसके हाथो को
कीर्ति की सोपान

हर देश का मजदूर
गढ़ता है ,अपने दो हाथो से
सुन्दर बुर्ज दरवाज़े
चाहता कुछ नहीं ,होकर नादान
रहता है उसका देश उसके कारण
दुनिया की नजरो में आसमान !
(मजदूर दिवस पर—-)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here