मोबाईल में है अब जिंदगी


सारे रिश्ते सिमट गए हैं आज मोबाइल मे,
सारे सम्बन्ध चिपट गए हैं आज मोबाईल मे,
कितना बदल गया है इंसान इस ज़माने में
सारा दिन चिपटा रहता हैं वह इस मोबाईल मे।।

शोक संदेश भी आने जाने लगे हैं मोबाईल से,
निमंत्रण भी मिलने लगे है आज मोबाईल से,
आता जाता नहीं इंसान किसी के दुख सुख में,
सुख दुख भी बटने लगे हैं आज मोबाईल से।।

आर के रस्तोगी

Leave a Reply

%d bloggers like this: