लेखक परिचय

एल. आर गान्धी

एल. आर गान्धी

अर्से से पत्रकारिता से स्वतंत्र पत्रकार के रूप में जुड़ा रहा हूँ … हिंदी व् पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है । सरकारी सेवा से अवकाश के बाद अनेक वेबसाईट्स के लिए विभिन्न विषयों पर ब्लॉग लेखन … मुख्यत व्यंग ,राजनीतिक ,समाजिक , धार्मिक व् पौराणिक . बेबाक ! … जो है सो है … सत्य -तथ्य से इतर कुछ भी नहीं .... अंतर्मन की आवाज़ को निर्भीक अभिव्यक्ति सत्य पर निजी विचारों और पारम्परिक सामाजिक कुंठाओं के लिए कोई स्थान नहीं .... उस सुदूर आकाश में उड़ रहे … बाज़ … की मानिंद जो एक निश्चित ऊंचाई पर बिना पंख हिलाए … उस बुलंदी पर है …स्थितप्रज्ञ … उतिष्ठकौन्तेय

Posted On by &filed under व्यंग्य.


एल आर गांधी

हे राम …. अच्छा हुआ यह दिन देखने को आज बापू नहीं हैं ….गांधी टोपी धारी माडरन गांधी वादियों की ऐसी धुनाई … हे राम

kejriआज राजधानी के ‘अमन’ विहार के आम टैम्पो चालक ‘लाली ‘ ने केज़रीवाल जी

का मुंह नीला कर दिया … आँख पर चोट आयी … टैम्पो चालक ने आरोप लगाया

कि केजरी ने वादे पूरे नहीं किये … और हमें मझधार में छोड़ भाग खड़ा

हुआ … इतने कम समय में इतने ‘चांटे’ खाने का किसी राजनेता का यह अपना

रोकार्ड रहेगा ….

केजरीवाल जी राखी बिड़ला का रोड शो बीच में छोड़ छाड़ कर ‘बापू के मज़ार ‘ पर

जा बैठे … घंटा भर बापू से मौन वार्ताप्रलाप किया … बापू आज तेरे नाम

पर ‘राजपाठ ‘ पर काबिज़ ये सफेद पॉश तेरी किसी ‘नसीहत को नहीं मानते …

यहाँ तक कि तेरी दी हुई टोपी भी उतार फेंकी … मैंने तेरी टोपी पहनी और

पहनाई भी … आप ने अपने हाथ में झाड़ू ले कर ‘मैला ‘ साफ़ किया और हमने

उसी झाड़ू को अपना चुनाव चिन्ह बना कर सिर पर धारण कर लिया …

तेरे बताए अहिंसा के मार्ग पर चले … बापू आपने एक बार कहा था ‘यदि कोई

एक चांटा मारे तो दूसरा गाल आगे कर दो … बापू आपने यह तो बताया ही नहीं

जब दुसरे के बाद … ३रा ,४था … और गाल पर आपकी ही बनाई पार्टी का ‘चुनाव

चिन्ह’ छप जाए … गाल सूज कर दुखने लगे … तो आम आदमी क्या करे …

मज़ार से एक ‘खामोश’ आवाज़ आयी . मूर्ख … मफलर मेरे से पूछ कर उतारा था…….

3 Responses to “केजरी का मुखरक्षक … मफलर”

  1. Dr Ranjeet Singh

    kyaa yeh vahee IAS officer Kejrivaal naheen jinhon ne apnee naukaree to is liye chhod dee ki ve imaandaar vyakti the aur imaandaar bane rahnaa unke jeevan kaa paramoddeshya thaa; ki ve naukaree to chhod sakte the parantu imaandaaree naheen?

    Parantu phir yeh kyaa? Amreekee trust Ford kee sahasron laakhon dollaron kee anudaan raashiyaan lekar ek NGO sansthaa sanchaalan karnaa. Yeh kyon? Itnaa hee naheen unkee Begam Saahibaa usee income tax department men vaise hee banee raheen – aur banee hui hain. Yeh kyon aur kaise? Kyaa ve imaandaaree kaa mahatva naheen samajhteen athavaa use mahatva naheen deteen?

    Yeh dohare maap dand kyon?

    बदमाश ऑटो वाला नहीं किसी पार्टी का वेतनभोगी कर्मचारी honaa to Dr jee ko anumaan ho gayaa parantu auto vaalon ko diye apne vachan bhulaa kar dilli kee gaddi chhodd bhaagane vale Kejree Sahib kaa Amreekee Ford kaa vetan bhogee honaa unkee drishtee se ojhal ho gayaa; drishtee men aayaa hee naheen. Kyon, kaise? Hai naa aashcharya, mahad aashcharya!

    Dr Ranjeet Singh. U.K.

    Reply
  2. कुमार विमल

    Kumar vimal

    The slap on Kejriwal is not just a slap on him it is a slap on democracy of the country. Many leaders of this country used to speak lie, used to cheat people. They have even serious criminals charges like rape, murder, intensifying violence ,. But no one has courage to event touch him or challenge him publicly, They are always surrounded by large number of security forces.(I am not against their protection)
    Being an ex chief minister Arvind Kejriwal is entitled for security forces,However, he has denied the security cover.Due to which people can easily access him . So such event of slapping can never be appreciated. Instead one should praise Kejriwal courage and determination.

    Reply
  3. शिवेंद्र मोहन सिंह

    लाली मेरे लाल की जित देखूं तित लाल ।
    लाली जी के सामने फंस गया आज केजरीवाल ॥

    ​​लाली मेरे लाल की जित देखूं तित लाल ।
    लाली ने सुजा दिया केजरीवाल का गाल ॥

    ​​लाली मेरे लाल की जित देखूं तित लाल ।
    लाली ने आज फिर किया एक कमाल ॥ ​

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *