दो बैल जुते इस गाड़ी में,

    यह नगर सेठ की गाड़ी है |

    लोगों  का पीछा करती है,

    न उनसे कभी पिछड़ती है|

    कितना भी तेज चले जनता,

    यह साथ साथ में चलती है|

    है बिना रुके ही चढ़ जाती ,

    यह ऊंची बड़ी पहाड़ी है|

    यह नगर सेठ की गाड़ी है|

    गर्दन में घुंघरू बंधे हुए,

    खन खन का शोर मचाते हैं|

    सब नगर सेठ की गाड़ी को ,

    जग में बेजोड़ बताते हैं|

    है बैलों की पहचान अलग,

    लम्बी मूंछें हैं दाढ़ी है|

    यह नगर सेठ की गाड़ी है|

    यह नगर सेठ की गाड़ी जब ,

    चलती ,तो चलती जाती है|

    पड़ते हैं पाँव जहां इसके ,

    पग चिन्ह छोड़ यह आती है|

   यह सीधी नहीं चली अब तक,

   यह चलती तिरछी आड़ी है|

     यह नगर सेठ की गाड़ी है|

       यह सेठ बड़ा व्यापारी है,

       बच्चों से इसकी यारी है|

       बच्चों को आगे ले जाना,

       इस गाड़ी की तैयारी है|

       दम लेगी मंज़िल तक जाकर,

       यह गाडी अभी दहाड़ी है| 

       यह नगर सेठ की गाड़ी है|
  

      बच्चे होते प्रतिभा शाली ,

      बच्चे ही देश बनाते  हैं|

      बच्चों के ओंठों पर आकर,

      ही भाग्य देव मुस्काते हैं |

      मारा जिसने मैदान वही तो,

      होता बड़ा खिलाडी है|

      यह नगर सेठ की गाड़ी है|

Leave a Reply

%d bloggers like this: