ऑनलाइन ट्रेनिंग आपके करियर के लिए कैसे हो सकता है फायदेमंद

Online training



ग्रेजुएशन की पढ़ाई के बाद, कृति अवसरों की तलाश में थी, लेकिन निरंतर प्रयासों के बाद भी उसे सफलता प्राप्त नहीं हुई। कृति को अहसास हुआ की यह असफलता का कारण पर्याप्त अनुभव न होना और कौशल की कमी है। दुर्भाग्य से, कृति जैसे अनेकों छात्र और छात्राएं हैं जो इस परेशानी से जूझ रहे है, लेकिन, जैसे हर समस्या का समाधान होता है, वैसे ही इस समस्या का भी समाधान है – ऑनलाइन ट्रेनिंग।

छोटी आयु में अगर मुझे कभी कुछ नया स्किल सीखना होता था तो मुझे पहले 2-3 कि.मी. की यात्रा करके निकट के लर्निंग/ट्यूशन सेंटर में पूछताछ करने जाना पड़ता था और सब चीज़े पसंद आने पर दाख़िला ले लेता था। जब मैं उच्च माध्यमिक विद्यालय  में पहुँचा तो इंटरनेट ने हम सबके जीवन में प्रवेश किया और उससे काम थोड़ा आसान हो गया। अब सिर्फ इंटरनेट ब्राउज़िंग से जानकारी प्राप्त हो सकती थी हालांकि, कभी-कभी जानकारी ढूंढने में कुछ घंटे भी लग जाते थे और यह प्रक्रिया थकाऊ बन जाती थी। लेकिन अब ऑनलाइन ट्रेनिंग ने एकदम से इंटरनेट को अपने वश में कर लिया है। ऑनलाइन ट्रेनिंग ऐसी लर्निंग है, जिसमें इलेक्ट्रॉनिक संसाधनों की सहायता से पढ़ाया जाता है। ऑनलाइन ट्रेनिंग ने सीखने की लंबी और पीड़ापूर्ण यात्रा को बिलकुल ही सरल बना दिया है; अब आप आराम से अपने घर या हॉस्टल से, बिना किसी कठिनाई के ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं।

परन्तु, ऑनलाइन ट्रेनिंग के साथ विभिन्न भ्रम जुड़े हुए है – ट्रेनिंग का मूल्य, ट्रेनिंग के दौरान आए प्रश्न के लिए सहायता न मिलना और सबसे महत्वपूर्ण – ट्रेनिंग प्लेटफॉर्म से धोखा मिल जाना। इन्हीं बातों के बारे में चिंतित हो कर बच्चे ट्रेनिंग के लिए दाख़िला नहीं लेते परन्तु ट्रेनिंग प्लेटफॉर्म के बारे में पूरी तरह से जांच करके धोखे से बचा जा सकता है। अगर सब सही है तो आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। आइये, अब ऑनलाइन ट्रेनिंग का महत्व समझने के लिए, उससे मिलने वाले फ़ायदों के बारे में बात करते हैं।

  1. प्रमाणीकरण: ट्रेनिंग में कोर्स पूरा होने पर उस कोर्स के लिए प्रमाण पत्र प्रदान किया जाता है। जब भी ग्रेजुएट्स इंटर्नशिप/नौकरी की तलाश कर रहे होते हैं, उस समय प्रमाण पत्र का बहुत मूल्य होता है क्योंकि एम्प्लॉयर्स भी अनुभवी छात्रों को हायर करना पसंद करते है।
  1. किफ़ायत: छात्रों का मुख्य उद्देश्य केवल लर्निंग से होता है तो जो कंपनियाँ ट्रेनिंग प्रदान करती हैं, उन्हें केवल ट्रेनिंग कंटेंट ही बनाना होता है न कि बच्चों के लिए कक्षा ढूंढ़ने या अन्य ऑफ़लाइन खर्चों पर पैसा लगाना पड़ता है, जिसके कारण ऑनलाइन ट्रेनिंग की कीमत ऑफ़लाइन ट्रेनिंग की तुलना में बहुत कम हो जाती है। इसके अतिरिक्त, ऑफलाइन ट्रेनिंग केंद्र तक आने-जाने में जो आपका मूल्यवान समय व्यर्थ चला जाता था, वह अब ऑनलाइन ट्रेनिंग के कारण बच सकता है।
  1. अगर कोई प्रश्न आएँ? सीखते समय संदेह होना सामान्य है लेकिन, बहुत से छात्र और छात्राएं अन्य लोगों के सामने सवाल पूछने में संकोच करते हैं। ऑनलाइन ट्रेनिंग ने इस समस्या को सफलतापूर्वक हल कर दिया है। ऑनलाइन ट्रेनिंग में आप किसी कक्षा में शिक्षक या अन्य छात्र और छात्राओं के सामने नहीं होते इसलिए आपके प्रश्न चाहे कितने भी साधारण क्यों न हों , आप बिना किसी हिचकिचाहट उन्हें पूछ सकते हैंं ।
  1. चुनने का विकल्प: जीवन के विभिन्न चरणों में अंतराल आते हैं और इन अंतरालों का सर्वश्रेष्ठ उपयोग ऑनलाइन ट्रेनिंग लेने से किया जा सकता है। ऑनलाइन ट्रेनिंग का सबसे मुख्य लाभ यह है की आप इसे अपने समय और सुविधा के अनुसार ले सकते है और यह आपकी दिनचर्या में बाधा नहीं बनती।

 
ऑनलाइन ट्रेनिंग नये कौशल सीखने का एक मुख्य माध्यम बन रहा है और 2018 तक इसका अनुमानित मूल्य 1.29 बिलियन डॉलर तक पहुँचने की संभावना है। आज की युवा पीढ़ी इस माध्यम को बिना किसी असुविधा के अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना सकते है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: