कविता:सपने का सच-मोतीलाल

0
186

एक दिन

मैँने देखा एक सपना

सपने मेँ औरत को

मैँने छुआ

एक ठंडी सी लहर

काटती हुई निकल गयी

 

आँखेँ कुछ कहना चाहती थी

और देखना चाहती थी

सपने मेँ अच्छी औरत

कि कहीँ लिजलिजा सा काँटा

आँखोँ मेँ धस गयी

और छिन ली सारी रोशनी

 

वह तिलमिलायी थी

और हाथोँ की रेखाओँ को

काट डाला था

और घुटने के बल बैठी

आकाश को खा जाना चाहती थी

उसकी आँखेँ

टिक गयी थी आकाश के परे

 

सपने मेँ

औरत का होना

या नदी का

धरती का

हवा का

पेड़ोँ का

या चीखोँ का

सुकून की बात नहीँ होती

 

आज ये कटने को बेबस

जड़ोँ के तलाश मेँ

सपने बोते रहते हैँ हर पल ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here