कविता : जीवन दर्शन

flower मिलन  सिन्हा                                  

अपने मन को

जोड़ो हर जन से .

न तोड़ो किसी का दिल

अपने धन से .

मत बनो तंग दिल

सबके साथ

रहो घुल मिल .

हों ऐसे विचार

जो बन सके

कर्म का आधार .

न बने व्यवहार तुम्हारा

व्यापार का सामान

बढ़ेगा तभी

तुम्हारा मान सम्मान .

रहे चरित्र

हमेशा पवित्र पावन

डिगे नहीं कभी

कैसा भी हो प्रलोभन .

ऐसा हो

तुम्हारा जीवन

जो लोगों के लिए

बने एक उदाहरण . 


Leave a Reply

%d bloggers like this: