कविता – दर्पण

0
257

मोतीलाल

जो हो

बहुत कोशिशोँ के बाद

आज देख पाया

अपना चेहरा

और पाया

बादल सा उड़ता

एक सुखद अनुभूति

 

अब खड़ा रह पाऊँगा मैँ

आईने के सामने

 

जिन दिनोँ

मैँ करता करता कोशिश

अपने चेहरे को देख पाऊँ

कटी-फटी लाशेँ

मुम्बई की

उतर आता आईने मेँ

उन मासूम बच्चोँ की चीख

नहीँ सह पाता हूँ मैँ

टूट जाता है सभी द्वार

और टूट जाता है आईना

 

उन दिनोँ

कोशिश करता

कोई अच्छी सी कविता लिखूँ

जब पढ़ता अपनी कविता

गर्म खून से सना

लोथड़ोँ के शक्ल मेँ

मुम्बई का इतिहास

उतर आता है कागज पर

 

ये कैसे हुआ

कविता की जगह

यह लहू कैसे टपका

आजतक नहीँ समझ पाया हूँ

 

गयी रात

मैँने सुना

कश्मीर मेँ चुनाव

बहुत शांति से गुजरा

मुझे लगा

आईना मुझसे बदल गया है

या फिर

चंद उन हाथोँ मेँ चला गया है

 

जो हो

देख तो पाता हूँ

अपना चेहरा

लहू से भीँगे

इस माटी के आईने मेँ ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here