लेखक परिचय

मोतीलाल

मोतीलाल

जन्म - 08.12.1962 शिक्षा - बीए. राँची विश्वविद्यालय । संप्रति - भारतीय रेल सेवा में कार्यरत । प्रकाशन - देश के विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं लगभग 200 कविताएँ प्रकाशित यथा - गगनांचल, भाषा, साक्ष्य, मधुमति, अक्षरपर्व, तेवर, संदर्श, संवेद, अभिनव कदम, अलाव, आशय, पाठ, प्रसंग, बया, देशज, अक्षरा, साक्षात्कार, प्रेरणा, लोकमत, राजस्थान पत्रिका, हिन्दुस्तान, प्रभातखबर, नवज्योति, जनसत्ता, भास्कर आदि । मराठी में कुछ कविताएँ अनुदित । इप्टा से जुड़ाव । संपर्क - विद्युत लोको शेड, बंडामुंडा राउरकेला - 770032 ओडिशा

Posted On by &filed under कविता.


मोतीलाल

बहुत देख चुका

शहरों का शोरगुल

जीवन के प्रतिरोध ।

 

जब द्रष्य की ऊंचाई पर शहर के नक्शे

गर्मी की मायूसी सा हमारे चेहरे पर

डोलते फिरते हैं और परछाईं वाला जंगल

कुछ रुहों को उसी ऊंचाई की चोटी से

फेंक चुका होता है

भुक-भुकी आकाश के परे

और हम छलनी में तब्दील हो जाते हैं ।

 

बहुत देख चुका

मूल्यहीनों के रेखाचित्र

विसंगतियों की पीड़ाएं ।

 

जब ताजगी भरे राह में

गर्म सांसें जागती हैं

कोई कीर्ति स्तम्भ के चिन्ह

बाहें साधे नहीं पुकारती है

चढ़ाई के पीछे

आसमान घिरा होता है

और सूखी आंखों में मृत्यु

यहीं कहीं डोलती फिरती है ।

 

बहुत देख चुका

आसमान से टूटते तारों को

पन्नों से चिखती कविताओं को ।

 

रंग बदलता दोपहर

कहीं घुंघट में सिमटा है

और खेतों की तरफ

हमारी खिड़की कभी नहीं खुलती

जहां से झुमते फसलों को देखा जा सके

हमारे दरवाजें कितनी तंग है

उनके दरवाजों से

और खुलती है उन गलियों में

जिसे शहर ने

कब से अनदेखा कर चुका है ।

 

बहुत देख चुका

रंग बदलते हुए आदमियों को

पर हमारी सुबह

सुबह की ही तरह है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *