More
    Homeराजनीतिकरिश्माई व्यक्तित्व के धनी प्रधानमंत्री 'नरेन्द्र मोदी'

    करिश्माई व्यक्तित्व के धनी प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’

    दीपक कुमार त्यागी

    भारत की राजनीति में चंद लोग ही ऐसी शख्सियतों में शुमार हैं, जो देश के आम जनमानस के बीच बहुत लंबे समय तक अपनी लोकप्रियता को कारगर रूप में बनाए रखने में सफल हो पाये हैं। ‘भारतीय जनता पार्टी’ जनता की अदालत में वर्ष 2014 से आम जनमानस के बीच लोकप्रियता के नित-नये कीर्तिमान बनाने के एक बेहद शानदार दौर से गुजर रही है, भाजपा अपने सबसे प्रभावशाली ब्रांड ‘नरेन्द्र मोदी’ के बलबूते देश के सभी विपक्षी दलों को चुनावी रणभूमि में आयेदिन जबरदस्त ढंग से शिकस्त दे रही है। आज देश में भाजपा प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ के बेहद करिश्माई व्यक्तित्व की बदौलत ही लगातार केन्द्र की सरकार में दूसरी बार भी भारी बहुमत के साथ काबिज है। वर्ष 2014 से देखें तो भाजपा ‘नरेन्द्र मोदी’ के नेतृत्व में जनता के बीच में अपनी बेहद मजबूत पैठ बनाने में कामयाब हो गयी है, प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ अपनी कार्यशैली के चलते जनता के द्वारा मिल रहे अपार प्रेम के दम पर भारतीय राजनीति में सफलता की गारंटी वाला सबसे बड़ा ब्रांड बन चुके हैं। आज देश के राजनीतिक गलियारों में सत्ता पक्ष व विपक्ष किसी के भी पास ‘नरेन्द्र मोदी’ के करिश्माई व्यक्तित्व का कोई भी तोड़ नहीं है, जनता की अदालत में ‘मोदी’ आज देश के सबसे बड़े विश्वसनीय राजनेता का चेहरा बन के सर्वोच्च पायदान पर पहुंच कर एक सफल बड़ा ब्रांड बन चुके हैं। गुजरात के वडनगर के एक बेहद साधारण एक आम परिवार में 17 सितंबर 1950 को जन्में ‘नरेन्द्र मोदी’ 17 सितंबर को 72 बरस के हो गए हैं, कभी स्टेशन पर एक चाय बेचने वाले बच्चे के रूप में अपने जीवन का सफ़र शुरू करने वाले ‘नरेन्द्र मोदी’ ने अपने मेहनत के बलबूते ही शून्य से शिखर तक की दूरी सफलतापूर्वक तय करते हुए, देश का प्रधानमंत्री बनने का तक का कार्य करके देश-दुनिया के इतिहास में दर्ज होने का कार्य किया है। हालांकि जीवन पथ पर चलते हुए आम आदमी की तरह ही ‘नरेन्द्र मोदी’ ने भी दुश्वारियों से परिपूर्ण अनेकानेक उतार-चढ़ाव देखें थे, लेकिन ‘नरेन्द्र मोदी’ ने हमेशा ही बिना घबराए धैर्य के साथ लक्ष्य को हासिल करने के लिए निरंतर संघर्ष करना जारी रखा, जिसके दम पर ही वह पहले तो गुजरात के मुख्यमंत्री बने और आज उस जुनून के दम पर ही ‘नरेन्द्र मोदी’ भारत के  सर्वोच्च पदों में से एक प्रधानमंत्री पद पर 26 मई 2014 से लगातार काबिज हैं, अब इस पद पर उनका दूसरा सफल कार्यकाल चल रहा है। हालांकि जिस वक्त 26 मई 2014 में गुजरात के मुख्यमंत्री से ‘नरेन्द्र मोदी’ ने पहली बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी, उस वक्त देश में एक अलग ही तरह की बेहद नकारात्मक राजनीतिक हालात वाला दौर चल रहा था, देश की जनता को लगता था कि पूर्ववर्ती सरकार में व्याप्त अव्यवस्थाओं के चलते भ्रष्टाचार, निर्णय लेने की क्षमता की भारी कमी, सिस्टम में बैठे लोगों में आत्मविश्वास की कमी, विभिन्न आर्थिक अपराधों से ‘नरेन्द्र मोदी’ उन लोगों को कैसे पार दिला पाएंगे। उस वक्त देश का एक आम देशवासी भी यह सोचता था कि प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ आम जनमानस के बीच में ‘देश में अब कुछ नहीं हो पाएगा’ कि नकारात्मक सोच को कैसे बदल पाएंगे। लेकिन प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ ने अपने करिश्माई व्यक्तित्व व बेहद दमदार कारगर कार्यशैली के दम पर देश में बहुत ही कम समय में नकारात्मक हालातों को बदलना शुरू कर दिया और आम जनमानस के बीच यह विश्वास जगाने का कार्य किया कि ‘मोदी है तो मुमकिन है’, उस वक्त बेहद कम समय में ही ‘नरेन्द्र मोदी’ प्रधानमंत्री के रूप में देश के आम लोगों की उम्मीदों पर खरे उतरे। वैसे तो उस वक्त बहुत सारे देशवासियों के मन में ‘नरेन्द्र मोदी’ को प्रधानमंत्री के रूप में लेकर के बहुत सारी शंकाएं व आकांक्षाएं दोनों ही बहुत ज्यादा थीं, लेकिन प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ ने भी लोगों की इन सभी शंकाओं व धारणाओं को बदलते हुए, उनकी उम्मीद व आकांक्षाओं पर खरा उतरते हुए, देश में अपने इर्दगिर्द घूमती हुई सत्ता के बेहद ताकतवर केंद्र बिंदु का निर्माण  करके इतिहास रचने का कार्य किया था। जिसके चलते ही आज प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ भाजपा के दिग्गज राजनेताओं के साथ, पार्टी के आम कार्यकर्ताओं से लेकर के, देश के आम जनमानस के एक बहुत बड़े वर्ग के बीच में भी बेहद लोकप्रिय हैं, उनका देश के आम जनमानस व भाजपा के बीच आज भी जबरदस्त ढंग से जलवा पूरी तरह से कायम है।

    *”देश की राष्ट्रीय राजनीति में प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ की लोकप्रियता का ग्राफ आज भी आम जनता के बीच जबरदस्त रूप से कायम है। देश की आम जनता का एक बहुत बड़ा वर्ग आज यह मानता है कि देश के किसी भी राजनीतिक दल के पास आज भी ‘नरेन्द्र मोदी’ का कोई भी कारगर विकल्प मौजूद नहीं है। देश के राजनीतिक गलियारों में आज ‘नरेन्द्र मोदी’ को कुशल राजन‌ीतिज्ञ, कारगर रणनीतिकार और एक बेहद ही मजबूत व कुशल संगठनकर्ता माना जाता है। लोग मानते हैं कि प्रधानमंत्री ‘नरेंद्र मोदी’ अपने व्यक्तित्व के दम पर एक छोटे से कार्यक्रम को भी बहुत बड़ा इवेंट बनाकर आम लोगों के दिलोदिमाग पर छा जाना बहुत ही अच्छे से जानते हैं, जिसकी बानगी देश की जनता  आयेदिन देखती रहती है। देश में नरेन्द्र मोदी’ के करिश्माई व्यक्तित्व का ही कमाल है कि आज भी देश के आम लोग उनके द्वारा कहीं बातों को बेहद ध्यान से सुनते हैं और उन बातों पर बड़े पैमाने पर उनके दिशा निर्देशानुसार अक्षरशः अमल करते हुए, उनकी बातों का अनुसरण करना चाहते हैं। वैसे भी आज देश के अधिकांश राजनीतिक विश्लेषकों का मत है कि देश में किसी राजनेता कि इतनी अधिक लोकप्रियता कई दशकों के बाद देखने को मिली है।”*

    यह प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ के करिश्माई व्यक्तित्व का ही कमाल था कि जो देश पिछले कई दशकों से केन्द्र में गठबंधन की सरकारों को बनाने में उल्टा सीधे समझौते करने में बुरी तरह से उलझा हो, उसको अचानक ‘नरेन्द्र मोदी’ के नेतृत्व में स्पष्ट बहुमत वाली केन्द्र सरकार वर्ष 2014 व 2019 में लगातार मिल जाती है। अब तो स्थिति यह हो गयी है कि ‘भारतीय जनता पार्टी’ के बारे में कुछ भी लिखते समय या बात करते समय जब तक प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ का जिक्र ना हो जाये तब तक वह बात अधूरी रहती है, आज ब्रांड ‘मोदी’ भाजपा का अभिन्न अंग बन गया है, भाजपा संगठन के दृष्टिकोण से इसका निहितार्थ यह है कि आम जनता के बीच ‘नरेन्द्र मोदी’ की यश, कीर्ति, लोकप्रियता बेहद व्यापक है, खुद ‘नरेन्द्र मोदी’  भी अपनी कार्यशैली के दम पर व्यक्तिगत रूप से एक कुशल राजनीतिज्ञ, कारगर रणनीतिकार व बेहतरीन संगठनकर्ता के तौर पर देश के राजनीतिक गलियारों में पूरी तरह से स्थापित हो गये हैं। भारत की राजनीति में चंद ही ऐसे राजनेता रहे हैं जिनके नाम पर इस तरह की उपलब्धि रही है, पिछले कई वर्षों से प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ उस क्लब में शुमार हैं और वह अपनी लोकप्रियता का नित-नया कीर्तिमान बनाते नज़र आते हैं। आज प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ की लोकप्रियता का आलम यह है कि ‘भारतीय जनता पार्टी’ उनके विचारों को ही अपनी  राजनीतिक नीतियों का आकार देकर के देश भर में अपने बेहद निष्ठावान कार्यकर्ताओं के माध्यम से आम जनमानस के बीच में प्रस्तुत करने का कार्य करती है। आज भाजपा अपने सबसे बड़े स्टार प्रचारक, सबसे विश्वसनीय संगठनकर्ता, कुशल व कारगर रणनीतिकार प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ के विचारों को ही धरातल पर मूर्त रूप देने के लिए कार्य करने की रणनीति पर काम करते हुए नज़र आती है, इसके चलते ही वह केन्द्र व राज्यों की सत्ता में बनी हुई है। वैसे भी देखा जाये तो देश की आम जनता ने वर्ष 2019 में जब ‘नरेन्द्र मोदी’ को पुनः केन्द्र में सरकार बनाने के लिए स्पष्ट बहुमत दिया था तब ही जनता की अदालत में यह तय हो गया था कि अब ‘नरेन्द्र मोदी’ ही भाजपा की नैया को पार लगाने वाले एक मात्र सफल राजनेता हैं, आज भाजपा को हर स्तर का चुनाव जीतने के लिए उनके चेहरे यानी कि ब्रांड ‘नरेन्द्र मोदी’ का उपयोग बेहद जरूरी हो गया है, आज देश में ‘नरेन्द्र मोदी’ के लोकप्रिय व करिश्माई व्यक्तित्व के दम पर ही ‘भारतीय जनता पार्टी’ को चुनावी रणभूमि में विजय प्राप्त होती है, तब ही तो लोग कहते हैं कि ‘मोदी है तो मुमकिन है’। 

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Must Read