अपने काँटों से लगे, और पराये फूल !!

0
97

प्रियंका सौरभ

हाथ मिलाते गैर से, अपनों से बेजार।
सौरभ रिश्ते हो गए, गिरगिट से मक्कार।।

अपनों से जिनकी नहीं, बनती सौरभ बात !
ढूंढ रहे वो आजकल, गैरों में औकात !!

उनका क्या विश्वास अब, उनसे क्या हो बात !
सौरभ अपने खून से, कर बैठे जो घात !!

चूहा हल्दी गाँठ पर, फुदक रहा दिन-रात !
आहट है ये मौत की, या कोई सौगात !!

टूट रहे परिवार हैं, बदल रहे मनभाव !
प्रेम जताते ग़ैर से, अपनों से अलगाव !!

गलती है ये खून की, या संस्कारी भूल !
अपने काँटों से लगे, और पराये फूल !!

ये भी कैसा प्यार है, ये कैसी है रीत !
खाये उस थाली करे, छेद आज के मीत !!

सीखा मैंने देर से, सहकर लाखों चोट !
लोग कौन से हैं खरे,और कहाँ है खोट !!

राय गैर की ले रखे, जो अपनों से बैर !
अपने हाथों काटते, वो खुद अपने पैर !!

ये भी कैसा दौर है, सौरभ कैसे तौर !
अपनों से धोखा करें, गले लगाते और !!

अपनों की जड़ खोदते, होता नहीं मलाल !
हाथ मिलाकर गैर से, करते लोग कमाल !!

अपने अब अपने कहाँ, बन बैठे गद्दार।
मौका ढूंढें कर रहे, छुप-छुपकर वो वार।।

आज नहीं तो कल बनें, उनकी राह दुश्वार।
जो रिश्तों का खून कर, करें गैर से प्यार।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

* Copy This Password *

* Type Or Paste Password Here *

16,488 Spam Comments Blocked so far by Spam Free Wordpress