लेखक परिचय

दिवस दिनेश गौड़

दिवस दिनेश गौड़

पेशे से अभियंता दिनेशजी देश व समाज की समस्‍याओं पर महत्‍वपूर्ण टिप्‍पणी करते रहते हैं।

Posted On by &filed under विविधा.


ई. दिवस दिनेश गौड़

मित्रों, राजीव दीक्षित एक महत्वपूर्ण नाम होने के बाद भी बहुत जाना पहचाना नहीं है। बहुत से लोग तो इन्हें जानते भी नहीं होंगे। कुछ लोगों ने केवल उनका नाम ही सुना है। यही होते हैं नींव के पत्थर जो पूरी इमारत को अपने ऊपर खड़ा रखते हैं किन्तु किसी को दिखाई भी नहीं देते।

बहुत कम लोग जानते होंगे कि स्वामी रामदेव जी को भारत स्वाभिमान का सुझाव देने वाले एवं उनके साथ कंधे से कन्धा मिला कर इस संगठन को सफल बनाने वाले राजीव दीक्षित ही थे। जो लोग इन्हें जानते हैं उन्हें राजीव भाई के निधन का दु:खद समाचार भी मिल गया होगा। राजीव भाई से मिलने के बाद यह जाना कि एक लौह पुरुष क्या होता है। जब मैं दसवीं या ग्यारहवीं कक्षा में पढता था तब उनसे मिलने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। उस समय राजीव भाई आज़ादी बचाओ आन्दोलन नामक एक संगठन के प्रवक्ता थे जिसे उन्होंने खुद खड़ा किया था और जन-जन तक पहुंचाने के लिये खुद गाँव-गाँव घूम कर एक आम आदमी में राष्ट्रीय चेतना भरने का काम करते थे।

मित्रों, जिस जगह से राजीव भाई निकल कर आए थे, शायद ही कोई ऐसा हो जो उनकी इस राह को अपना सके। यह बात समझाने के लिये मै राजीव भाई का परिचय आपको देना चाहता हूँ।

राजीव भाई का जन्म ३० नवम्बर १९६७ को उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद जिले के नाह गाँव में एक स्वतंत्रता सेनानी परिवार में हुआ था। उनके पिता किसान थे। उनकी प्रारम्भिक शिक्षा अपने गाँव में ही हुई फिर उच्च शक्षा के लिये वे इलाहाबाद गए। इंजीनियरिंग के बाद उन्होंने आईआईटी कानपुर से सेटेलाईटकम्युनिकशन में एमटेक किया। विदेशों से आने वाले बहुत सारे नौकरी के प्रस्तावों को उन्होंने ठुकरा दिया व अपना जीवन देश को समर्पित कर दिया। वे खुद एक वैज्ञानिक थे एवं डॉ. कलाम के साथ भी कार्य कर चुके हैं। वे सीएसआईआर इंडिया में टेलीकॉम क्षेत्र में भी कार्य कर चुके हैं। उन्होंने डाक्टरिट की उपाधि फ्रांस में ली थी किन्तु कभी भी अपने नाम के आगे ”डॉ.” नहीं लगाया। पिछले बीस सालों से राजीव भाई भारतीय स्वदेशी के सिद्धांत पर ही कार्य कर रहे थे।

राजीव भाई पिछले बीस वर्षों से बहुराष्ट्रीय कंपनियों और बहुराष्ट्रीय उपनिवेशवाद के खिलाफ तथा स्वदेशी की स्थापना के लिए संघर्ष कर रहे थे । वे भारत को पुनर्गुलामी से बचाना चाहते थे। अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने सभी वेदों, शास्त्रों, उपनिषदों व पुराणों का अध्ययन किया। पिछले ३००० वर्षों के विश्व इतिहास को भी उन्होंने बड़ी बारीकी से पढ़ा। न केवल हिन्दू धर्मग्रन्थ अपीतु कुर आन, बाइबिल व गुरु ग्रन्थ साहिब का भी अध्ययन किया। विश्व का शायद ही कोई दर्शनशास्त्री होगा जिसे राजीव भाई ने नहीं पढ़ा। अर्थशास्त्र के बहुत से भारतीय व विदेशी विद्वानों को भी राजीव भाई ने पढ़ा। एलोपैथी, होम्योपैथी, आयुर्वेद व प्राकृतिक चिकित्सा का अध्ययन व आयुर्वेद व होम्योपैथी का विशेष अध्ययन राजीव भाई ने किया। खुद इंजीनियर थे किन्तु होम्योपैथ का अद्भुत ज्ञान होने के कारण बड़ी बड़ी बिमारी का इलाज होम्योपैथ व आयुर्वेद से करते थे। मुझे याद है मैंने कई बार उनके पास मरीजों की भीड़ देखी है। इनके साथ साथ क़ानून व्यवस्था व खेती बाड़ी जैसे विषय भी उन्होंने पढ़ डाले।

राजीव भाई ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के बहुत से स्वतंत्रता सेनानियों की जीवनी व दर्शन पढ़ा। प्रारम्भ से ही राजीव भाई उधम सिंह, भगत सिंह, चंद्रशेखर, रामप्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खान, राजगुरु, सुखदेव, खुदीराम बोस व सुभाष चन्द्र बोस से प्रभावित रहे। बाद में जब उन्होंने गांधी जी के जीवन दर्शन का अध्ययन किया तो उनसे इतना प्रभावित हुए कि उन्हें इतिहास में पिछले ५०० वर्षों का सबसे महान व्यक्ति मानने लगे।

राजीव भाई ने आजीवन अविवाहित रह कर अपनी समस्त शक्ति राष्ट्र को समर्पित करने की शपथ ले ली थी। पिछले करीब पच्चीस सालों से राजीव भाई ने इतिहास से जो सबक लिया उससे गाँव गाँव घूम कर भारतवासियों को जागृत करते रहे। यूनानी, पुर्तगाली, तुर्की, मुग़ल, फ्रांसीसी व अंग्रज़ भारत क्यों आये, उन्होंने भारत को कैसे गुलाम बनाया, कैसे अंग्रजों ने हमारी संस्कृती व सभ्यता को नष्ट किया, कैसे उन्होंने हमारी शिक्षा नीति को बदला, इसके पीछे उनका क्या उद्देश्य था? आदि सब प्रश्नों के उत्तरों से वे भारत वासियों को जगाते रहे। इस समय अंतराल ने राजीव भाई ने करीब १५००० व्याख्यान दिए। अंग्रजों ने भारत को गुलाम बनाने के लिये जितने क़ानून बनाए थे उनका राजीव भाई आजीवन विरोध करते रहे। ५००० से अधिक विदेशी कम्पनियां जिस प्रकार से आज भारत को लूट रही हैं उसके विरोध में राजीव भाई ने आज़ादी बचाओ आन्दोलन जैसे मंच की स्थापना की। देश की पहली स्वदेशी व विदेशी कंपनियों के सामान की सूची राजीव भाई ने ही तैयार की थी। और इसी के आधार पर वे देशवासियों से स्वदेशी अपनाने का आग्रह करते रहे। १९९१ में डंकल प्रस्तावों के खिलाफ घूम घूम कर जन जाग्रति की और रेलियाँ निकाली। कोका कोला और पेप्सी जैसे पेयों के खिलाफ अभियान चलाया और कानूनी कार्यवाही की। १९९१ व १९९२ में राजस्थान के अलवर जिले में केडिया कंपनी के कारखाने बंद करवाए। १९९५-९६ में टिहरी बाँध के विरोध में ऐतिहासिक मोर्चा निकाला। इसमें वे इतने प्रबल रूप से संघर्ष कर रहे थे कि उन पर पुलिस का लाठी चार्ज भी हुआ जिसमे उन्हें गंभीर चोटें आई, किन्तु फिर भी वे संघर्ष करते रहे। टिहरी पुलिस ने तो राजीव भाई को मारने की पूरी योजना बना रखी थी। १९९७ में सेवाग्राम आश्रम, वर्धा में प्रख्यात गाँधीवादी इतिहासकार धर्मपाल जी के सानिध्य में‚ अंग्रेजों के समय के ऐतिहासिक दस्तावेजों का अध्ययन करके देश को जाग्रत करने का काम किया। उनके पास ऐसे ऐसे दस्तावेज़ थे जिसमे कांग्रेस पार्टी व नेहरु की करतूतों की पोल खुलती दिखाई दी।

मेरे पिता आज़ादी बचाओ आन्दोलन के बीकानेर जिला संयोजक रह चुके हैं। अत: उस समय राजीव भाई का बीकानेर आगमन हुआ और मेरा उनसे मिलने का प्रथम सौभाग्य। मै उस समय दसवीं या ग्यारहवीं कक्षा में पढता था। राजीव भाई के विचारों से मैं और मेरे दोनों भाई इतना प्रभावित हुए कि हमने उनके सिद्धांतों को अपना लिया। उसके बाद तो कई बार राजीव भाई से मिलना हुआ। कोई समस्या होती तो उनसे समाधान भी करवाया। उस समय एक बार मेरे बड़े भाई ने राजीव भाई को एक ख़त लिखा जिसमें उन्होंने राजीव भाई के सामने एक समस्या रखी कि किस प्रकार मैं अपने संगी साथियों को इस राष्ट्रवादी चेतना से जोड़ सकूं? क्योंकि सभी युवा ही हैं और वे इस प्रकार की विचारधारा से बोरियत महसूस करते हैं। साथ ही मुझे भी यह सलाह देते रहते हैं कि तू कहाँ इन फालतू चक्करों में पड़ गया? इस पर करीब तीन महीने बाद राजीव भाई का पत्र आया जिसमे पहले उन्‍होंने देरी के लिये क्षमा मांगी व देरी का कारण बताया कि किस प्रकार से वे पिछले कुछ महीनों से वर्धा से बाहर थे, अत: उन्हें आज ही कई पत्र मिले जिनमे आपका पत्र भी मिला। उन्होंने बड़े सहज़ अदाज़ में भैया को समझाया कि इस प्रकार की घटनाओं से न घबराएं व पूरे मन से पहले अपनी पढ़ाई करें फिर अपने ज्ञान से आप उन्हें समझाएं। आज नहीं तो कल वे आपको जरूर समझेंगे। राजीव भाई का इस प्रकार एक तरुण को इतना महत्व देना व इतने प्यार से समझाना हमें बहुत प्रभावित कर गया। हमें तो लगा कि इस प्रकार के व्यस्त लोग शायद ही जवाब दें।

एक बार राजस्थान के कोटा जिले में लोगों के आग्रह पर सुखमय पारिवारिक जीवन पर एक सुन्दर व्याख्यान दिया। जिसे सुन मैं हतप्रभ रह गया। इतिहास, राजनीति, व्यापार, अर्थशास्त्र, देश-विदेश, स्वदेशी, भ्रष्टाचार, भुखमरी, चिकित्सा, शिक्षा व आतंकवाद जैसे विषयों पर बोलने वाले राजीव भाई को जब पहली बार परिवार, जीवन मूल्यों, परम्पराओं व रिश्ते नातों पर बोलते सुना तो आश्चर्य स्वाभाविक ही था। उनके वे सुन्दर शब्द मुझे आज भी याद हैं।

प्रारम्भ में राजीव भाई ने प्रचार के आधुनिक संसाधनों को नज़र अंदाज़ किया। वे विभिन्न चैनलों पर दिखाए जाने वाले बेहूदा कार्यक्रमों व सिनेमाई पर्दे पर दिखाई जाने वाली फूहड़ फिल्मों के इतने प्रबल आलोचक रहे कि इन्होंने टेलिविज़न के माध्यम से प्रचार का तरीका ही नहीं अपनाया। शायद यही कारण था कि आज़ादी बचाओ आन्दोलन अधिक समय तक लोकप्रिय नहीं रह सका व राजीव भाई को भी अधिक लोग नहीं जान पाए। किन्तु वे फिर भी डटे रहे।

इधर परम पूजनीय स्वामी रामदेव जी ने आधुनिक संसाधनों का उपयोग कर पूरे देश में क्रान्ति ला दी थी। स्वामी जी ने एक लुप्त हो चुकी विद्या को पुनर्जीवित कर दिया था व इसे जन-जन तक पहुंचा दिया था। स्वामी जी ने कई बार अपने व्याख्यानों में राजीव भाई का ज़िक्र किया था। उन्होंने बताया था किस प्रकार वे स्वदेशी आन्दोलन को सफल बनाने का काम कर रहे हैं। इस प्रकार कई लोगों तक राजीव भाई का सन्देश मिला। फिर राजीव भाई स्वामी जी से मिले और पिछले १० वर्षों से उनके संपर्क के बाद उन्होंने ९ जनवरी २००९ को भारत स्वाभिमान की स्थापना की। स्वामी जी के नेतृत्व में राजीव भाई ने आन्दोलन का लिम्मा अपने सर ले लिया व अपने ही तेतालिसवें जन्मदिवस ३० नवम्बर २०१० को छत्तीसगढ़ के भिलाई में वे इसी रण में शहीद हो गए। उनके द्वारा किये कार्यों को भारत कभी नहीं भुला पाएगा।

उनकी मृत्यु का समाचार मुझे मेरे एक परिचित से ३० नवम्बर को प्रात: ही मिल गया था। कई दिनों तक मन अति व्याकुल रहा। जयपुर में मैं अकेला ही रहता हूँ। अकेले में कई बार रोने की इच्छा भी हुई किन्तु शायद यह काम मेरे लिये संभव नहीं है। दुःख तो मन में ही रहा। कहते तो सब यही हैं कि शहीद की मौत पर दुःख करने से उसकी शहादत का अपमान होता है, किन्तु मुझे तो दुःख यह था कि इस धरा ने अपने एक और वीर पुत्र को खो दिया। हम तो शहीद की मौत पर गर्व से सीना फुला लेते हैं किन्तु उसकी माँ पर क्या बीत रही है यह हम क्या जाने। हम तो राजीव भाई को अंतिम विदाई दे चुके हैं किन्तु इस भारत माँ के आंसू कौन पौंछेगा जिसकी सेवा में राजीव भाई ने अपना जीवनहोम कर दिया व अपने प्राण भी दे दिए।

कुछ दिनों पहले ही भारत स्वाभिमान ने यह घोषणा की थी कि यह संगठन अगले लोकसभा चुनावों में चुनाव लडेगा। २९ नवंबर की शाम करीब ६:३० बजे राजीव भाई को हृदय में दर्द हुआ। इससे पहले वे किसी मीटिंग से वापस आये थे। और आधी रात को उन्होंने अंतिम सांस ली। उनका पूरा शरीर काला पड़ गया था। शव काला तभी पड़ता है जब या तो व्यक्ति को ज़हर देकर मारा जाए या फिर बिजली के झटके से। साथ ही राजीव भाई का पोस्टमार्टम भी नहीं होने दिया गया। आपको याद होगा लालबहादुर शास्त्री जी का मृत शरीर जब ताशकंज से आया था तो वह भी काला पड़ गया था और कांग्रेस ने उनका अंतिम संस्कार नहीं होने दिया था। शायद राजीव भाई भी इसी प्रकार शिकार बने हों। यह एक संभावना भी हो सकती है। क्योंकि ऐसा हमारे देश में होता आया है। सरदार पटेल, लालबहादुर शास्त्री, जय प्रकाश नारायण की सूची में अब राजीव भाई का नाम भी जुड़ गया है।

राजीव भाई को सच्ची श्रद्धांजलि देने के लिये हमें उनके सिद्धांतों को अपनाना होगा। राजीव भाई ने तो अपना पूरा जीवन राष्ट्र को समर्पित कर दिया था किन्तु यदि हम दिन का एक घंटा भी उनके सपनों को यथार्थ करने में लगा दें तो ही राजीव भाई की आत्मा को शान्ति मिलेगी।

मन से तो अब यही आवाज निकलती है…” राजीव भाई आप अमर हैं!”

राजीव भाई द्वारा लिखित लेख व उनके व्याख्यान तो बहुत हैं किन्तु कुछ यहाँ दे रहा हूँ…

* भारतीय आज़ादी का इतिहास

* विदेशी विज्ञापनों का झूठ

* मैकॉले शिक्षा पद्धति

* एलिजाबेथ की भारत यात्रा

* विज्ञापनों का बाल मन पर प्रभाव

* गौ रक्षा एवं उसका महत्व

* अर्थव्यवस्था में मंदी के कारण और निवारण

* पेटेंट क़ानून और दवाओं पर हमला

* CTBT और भारतीय अस्मिता

* सच्चे स्वराज्य की रूप रेखा

* स्वदेशी और स्वावलंबन

* स्वदेशी खेती

* महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि

* प्रतिभा पलायन

* भारत पर विदेशी आक्रमण

* आतंकवाद और उसके निवारण

* स्विस बैंकों में भारत की लूट

इत्यादि इत्यादि…

इन सबके अलावा राजीव भाई ने घर बैठे देश सेवा करने पर भी बहुत से व्याख्यान दिए हैं।

10 Responses to “राजीव भाई दीक्षित आप अमर हैं…”

  1. विनोद

    भारत में स्वतंत्र क्रांति विज्ञान के शोधकर्ताओं को

    Reply
  2. Hemant Tiwari

    ॐ,भाइयो मई यहाँ इस पत्र के माध्यम से बताना चाहता हु की मई भी बहुत बड़ा फेन राजीवजी दिक्सित का रहा हु २९ नोव्म्बेर २०१० की बीती रात में राजीवजी दिक्सित हमारे बिच से स्वर्गलोक गमन कर गए ,निश्चित रूप से उनमे जो अद्य्म् साहस ,उत्साह,देस प्रेम,सादगीऔर जज्बा था वह इस्वर किसी-किसी को ही देता है,बाबा राम्देओजी के छास्तिस्गर प्रवास की तैयारियो को लेकर वे भी प्रवास छातिस्गर का ही कर रहे थे दुर्ग जिले की बेमेतरा तहसील में वे सभा ले रहे थे उनका स्वस्थ्य ठीक नहीं लग रहा था और ज्यादा बिगड़ने वे अंग्रेजी दवाई नहीं लेना चाहते थे इस बिच उनसे बाबा राम्देओजी ने भी बात करके कहा पर वे माने नहीं उनकी ये जिद थी मई स्वदेसी आन्दोलन का प्रवक्ता विदेसी व् अंग्रेजी दवाई का सेवन नहीं करुगा,आगे उन्हें भिलाई की सभा को कान्सेल करते हुए उन्हें सेक्टर ९ के अस्पताल में अदमित किया गया,वहां से उन्हें अप्लो अस्पताल ले जाया गया वहाँ वे हम सबको छोड़ परलोक गमन कर गए,राजीव भाई माहात्मा कुमारिल भट्ट के ही अवतार थे,हम इतना जानते है की इस्वर ने उन्हें एक कार्य दिया था और वे अपना कार्य निभा कर गए,और अब हमें अपने भारत को न लुटने देना है औए इसके लिए भारत स्वाभिमान न्यास के साथ kaam करके उनके अधूरे कामो को पूरा कर उनका सपना पूरा करना है ,वन्दे मातरम

    Reply
  3. Hemant Tiwari

    ॐ,भाइयो मई यहाँ इस पत्र के माध्यम से बताना चाहता हु की मई भी बहुत बड़ा फेन राजीवजी दिक्सित का रहा हु २९ नोव्म्बेर २०१० की बीती रात में राजीवजी दिक्सित हमारे बिच से स्वर्गलोक गमन कर गए ,निश्चित रूप से उनमे जो अद्य्म् साहस ,उत्साह,देस प्रेम,सादगीऔर जज्बा था वह इस्वर किसी-किसी को ही देता है,बाबा राम्देओजी के छास्तिस्गर प्रवास की तैयारियो को लेकर वे भी प्रवास छातिस्गर का ही कर रहे थे दुर्ग जिले की बेमेतरा तहसील में वे सभा ले रहे थे उनका स्वस्थ्य ठीक नहीं लग रहा था और ज्यादा बिगड़ने वे अंग्रेजी दवाई नहीं लेना चाहते थे इस बिच उनसे बाबा राम्देओजी ने भी बात करके कहा पर वे माने नहीं उनकी ये जिद थी मई स्वदेसी आन्दोलन का प्रवक्ता विदेसी व् अंग्रेजी दवाई का सेवन नहीं करुगा,आगे उन्हें भिलाई की सभा को कान्सेल करते हुए उन्हें सेक्टर ९ के अस्पताल में अदमित किया गया,वहां से उन्हें अप्लो अस्पताल ले जाया गया वहाँ वे हम सबको छोड़ परलोक गमन कर गए,राजीव भाई माहात्मा कुमारिल भट्ट के ही अवतार थे,हम इतना जानते है की इस्वर ने उन्हें एक कार्य दिया था और वे अपना कार्य निभा कर गए,और अब हमें अपने भारत को न लुटने देना है औए इसके लिए भारत स्वाभिमान न्यास के साथ कम करके उनके अधूरे कामो को पूरा कर उनका सपना पूरा करना है ,वन्दे मातरम

    Reply
  4. mukesh pathak

    मुझे उनकी मृत्यु के पहले दिन से ही कुछ काला नजर आरहा है लेकिन बहुत आश्चर्य होता है की कोई कुछ इस और बोलता ही नहीं . बाबा रामदेव भी इस मामले में बिलकुल अबूझ पहेली जैसा बर्ताव कर रहे हैं…

    Reply
  5. Awadhesh

    भाई राजीव दीक्षित असली भारत रत्न हैं, राष्ट्रवादी उनसे सदैव प्रेरणा लेते रहेंगे.

    Reply
  6. श्रीराम तिवारी

    shriram tiwari

    गौड़ जी को इस aalekh ke liye धन्यवाद , वास्तव में स्वर्गीय राजीव दीक्षित जी का लक्ष्य महान bharat ke nirmaan का sapna tha .unka स्वदेशी का चिंतन और उसके निहितार्थ निस्वार्थ थे .वे तमाम योग्यताओं से भरे हुए उर्जावान तपोनिष्ठ जैसे थे ,ऐसे महान व्यक्ति का सभी आदर करते थे .हम उन्हें भाव भीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं .

    Reply
  7. Santosh Kumar Singh

    गौड़ जी देश के महान सपूत स्व. राजीव भाई दीक्षित के बारे में हमें अवगत करने के लिए आपका कोटि-कोटि धन्यवाद् | उनके सिद्धांतो को अपनाना और उनके विचारों का प्रसार करना हम सभी देश भक्तों की सामूहिक जिम्मेदारी होनी चाहिए |

    Reply
  8. KS Thakur

    गौड़ जी देर से ही सही लेकिन उनके बारे में और जानकर गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ! दुःख की बात ये है की मीडिया में कहीं भी उनके देहावसान के बारे में स्पष्ट नहीं पढने को मिला! ऐसा लगता है किसी साजिश के तहत उनकी हत्या की गई!

    एक सपूत यूँ ही हमारी आँखों के सामने से चला गया और मीडिया ने उसको जरा भी स्थान देना उचित नहीं समझा! इस से यही साबित होता है की लोग भी आजकल स्वार्थी हो चले हैं और उनको बिग बॉस या आई पी एल की नीलामी में ज्यादा दिलचस्पी है एक वीर की गाथा सुनने-सुनाने और आचरण में लाने की नहीं!

    Reply
  9. Himwant

    भारत के कई सुपुत जो भारत के स्वाभिमान की बचाने के लिए काम कर रहे थे तथा वह अपनी मंजिल तक पहुँचने का माद्दा रखते थे, साथ ही किसी भी राष्ट्रविरोधी शक्ति के चंगुल से अपने को अलग रखते थे, उनकी मृत्यु अत्यन्त रहस्यमय परिस्थितियों में हुई है. महामना दिन दयाल उपाध्याय, डा विक्रम साराभाई, प्रमोद महाजन आदि एइसे कई नाम है….. लेकिन मुझे ताजुब्ब होता है की इन बातोको बड़े विरोध के साथ क्यों नहीं उठाया जाता है. मैंने राजीव भाई का प्रवचन सूना है, और सुनते वक्ता मुझे दर लगता थी की सी.आई.ए जैसा कोइ ताकतवर संगठन जो पश्चिमी चर्च के हितो का पोषण करता है वह कही उनका अहित न कर दे. दुःख की बात है की आज भारत को गुलामी से मुक्ति दिलाने वाला अवतारी पुरुष हमारे बीच से जा चुका है. लेकिन वह ज्योति भारत के अनेक सुपुतो के हृदय में प्रज्जवलित हो चुकी है. उनके द्वारा शुरू किया गया काम अपने मंजिल को अवश्य प्राप्त करेगा. जिस प्रकार महात्मा कुमारिल भट्ट काम आदि शंकराचार्य ने पूरा किया उसी प्रकार एक शंकराचार्य हमारे बीच आ चुका है……. राजीव भाई माहात्मा कुमारिल भट्ट के ही अवतार थे.

    Reply
  10. shishir chandra

    राजीव दीक्षित की मौत की खबर पर यकीं ही नहीं आ रही है. वो राष्ट्रवाद के जननायक हैं. उनके बिना राष्ट्रीय स्वाभिमान मंच की लड़ाई को आगे बढ़ाना दुष्कर कार्य होगा. देश के लिए अपुर्निया क्षति है.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *