अ ई ता- अ ई ता बोलें

तुम भागो हम पीछे दौड़ें ,
पकड़ा -पकड़ी खेलें |

तुम किरणों की डोर पकड़कर ,
चंदा के घर पहुँचो |
काला उस पर दाग लगा जो ,
खुरच- खुरच कर पोंछो |
फिर साबुन पानी से अपने ,
हाथ रगड़ कर धोलें |

आँखों से, मेरी आँखों में ,
धूल झोंककर जाओ |
दौड़ लगाकर अम्माजी के ,
आंचल में छुप जाओ |
हम छुपकर अम्माके पीछे ,
अ ई ता- अ ई ता बोलें|

दौड़ लगाकर किसी आम की,
टहनी पर चढ़ जाना
कुहू -कुहू के स्वर में भैया ,
कोयल बनकर गाना |
बाँध आँख में पट्टी ढूंढें ,
तुमको सभी टटोलें |

प्रभुदयाल श्रीवास्तव 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

* Copy This Password *

* Type Or Paste Password Here *

12,344 Spam Comments Blocked so far by Spam Free Wordpress