धुएँ से धुआँ हुई है अब जिंदगी

धुएँ से धुआँ हुई है,अब जिंदगी ,
तम्बाकू से बर्बाद हुई है जिंदगी |
बचना चाहते हो अगर तुम इससे ,
तम्बाकू छोड़ो बचा लो ये जिंदगी ||

धुआँ राख़ कर रहा है ये जिंदगी ,
मिला रहा है ये ख़ाक में जिंदगी |
बंद करो उड़ाना तुम इस धुएँ को ,
वरना ख़त्म हो जायेगी ये जिंदगी ||

धुएँ से धुँधली हो रही है ये जिंदगी ,
अपने आग़ोश में ले रहा है जिंदगी |
मौत को बुला ले किसी को पता नहीं ,
धुएँ से बचा लो अपनी ये जिंदगी ||

जिसने दिया तम्बाकू को निमंत्रण ,
उसको आ गया मौत का निमत्रण |
कैसे बचोगे तुम इस निमंत्रण से।
बस कर लो तम्बाकू पर नियत्रण ||

धुएँ को इस धरा से अब हटाना है ,
धुएँ से विश्व को मुक्त अब कराना है |
जब तक धुआँ रहेगा इस भू पर ,
तब तक मृत्यु को निकट आना है ||

Leave a Reply

%d bloggers like this: