प्यार भरे कुछ मुक्तक


दिल लेकर पूछती हो कौन हो तुम।
जान कर भी अनजान बनती हो तुम।।
दिल के बदले दिल दिया था मैंने।
पूछता हूं इनका ज़बाब क्यों मौन हो तुम।।

भली भांति जानती हो कौन हूं मै तुम्हारा।
मेरे पास वह दिल है जो कभी था तुम्हारा।।
ये सच है मै परछाई हूं तेरी तू परछाई है मेरी।।
झांक कर देखो तुम देखो मिलेगा दिल तुम्हारा।।

पहन कर गुलाबी साडी,लग रहा गुलाब सा बदन।
गुलाब भी शरमा रहे,देखकर तुम्हारा ये बदन।।
माना कि गुलाब मे होते है बहुत ही कांटे।
कांटे भी मुस्करा रहे हैं,देखकर तुम्हारा ये बदन।।

भले ही बूढ़े हो गए हैं,दिल तो अभी जवां है।
इंजिन भले ही पुराना है,पिस्टन तो अभी रवा है।।
इल्तिज़ा है बस ऊपर वाले तुझी से।
रखना दोनों को सलामत यहीं मांगते दुआ है।।

बिखरे है रंग देखो होली के संग।
चेहरा गुलाबी देख दुनिया है दंग।।
मस्ती में आज लगे छोरा रंगीला।
छेड़े है सबको देखो पीकर भंग।।

न किसी की छेड़ा है न पी है मैंने भंग।
मै तो रहता हूं अपने साथियों के संग।।
इस होली पर ऐसी तौमत तो न लगाओ।
मै तो प्यार से खेलता हूं होली सभी के संग।।

आर के रस्तोगी

Leave a Reply

30 queries in 0.341
%d bloggers like this: