व्यंग्य/ अथ नेता उवाच

डॉ. अरुण कुमार दवे

सावधान…..होशियार….. ख़बरदार…..! मैं हूँ रंगा सियार …भ्रष्टाचार का यार….. नेता दुमदार | वक्त पड़ने पर दमदार से दुमदार बन जाता हूँ इसीलिए कभी गुर्राता हूँ तो कभी घिघियाता हूँ | आज वक्त की मार का मारा हूँ ; पहली बार इस कदर हारा हूँ | जनलोकपाल आन्दोलन के दौरान अन्ना और देश की जनता ने मेरी दुम को कुछ ज्यादा ही मरोड़ा है ; मुझे मेरी औकात दिखाई है और मेरा गरूर तोड़ा है | जनता के दबाव में मुझे अनचाहे मुद्दों पर सोचना पड़ा है और खिसियानी बिल्ली बनकर खम्भा नोंचना पड़ा है | अन्ना के संग सुर में सुर मिलाकर जनता बजाती रही आन्दोलन की चंग और मैं बदलता रहा गिरगिट की तरह बार-बार रंग | मेरी सारी अदाएं बदरंग हो गई ; जनता की ताकत एक ७४ वर्षीय बुजुर्ग के संग हो गई | किसे सुनाऊ अपना दुखड़ा ; बेनकाब हो गया मेरा ढोंगी मुखड़ा |

कल तक मैं जनता को फुसलाता था , बहलाता था | नारों का मरहम लगाकर उसके जख्मों को सहलाता था | बेचारी भोलीभाली जनता मेरे झांसे में आती रही है ; मगरमच्छी आंसुओं पर पसीजकर मुझे जिताती रही है | मैं जब जब भी चुनाव की जंग में जीता हूँ तब तब सुख-वैभव के जाम पीता हूँ |

मुझे उपदेश देना खूब भाता है भले ही उन पर अमल करना बिलकुल भी नहीं आता है | मेरी नाकामियों और धूर्तता पर जब कोई सवाल उठाता है तब मेरा खून खौल-खौल जाता है | ऐसे मौके पर मैं बार बार गरिमा के प्रश्न उठाऊंगा , मेरे कारनामों को कोई नंगा करे तो मैं कैसे सह पाऊंगा ? हालांकि यह सच है कि मेरी करतूतों से देश और संसद की गरिमा बार बार लहुलुहान होती है ;| इसीलिए राजघाट पर चिरनिद्रा में सोई बापू की आत्मा फूट-फूटकर रोती है | हंगामों से मुझे बेतहाशा प्यार है | संसद में माइक और कुर्सियां उछालना , एक-दूसरे के गिरेबान और कमीज खींचकर फाड़ना , लात-घूंसे चलाना और चीखना-चिल्लाना मेरा अधिकार है | ऊधम और अव्यवस्था पर थपथपाता हूँ मेज ; बजाता हूँ ताली | शिष्टाचार व्यक्त करता हूँ देकर गाली |

वैसे तो मैं भी शिष्ट और शालीन हूँ ; हाईकमान के चरणों में बिछी हुई कालीन हूँ | आका को रिझाने के लिए चापलूसी के रिकार्ड कायम करता हूँ ; सुबहोशाम आका का हुक्का भरता हूँ | हाईकमान और उनकी पुश्तों के हाथों में है मेरी बाजी, इसीलिए उनकी फालतू बातों पर भी करता हूँ हां जी..हां जी.. हां जी | मेरा मानना है कि कभी न कभी तो मेरे अरमानों की कली खिलेगी ; चापलूसी की पराकाष्ठा पर प्रसन्न हाईकमान से छोटी-मोटी खैरात मिलेगी |मेरा तो बस एक ही आलाप है ; आका मेरे माई-बाप है |

झूठ और फरेब से सनी है मेरी एकएक रग , इसीलिए देशभक्तों को कहता हूँ मैं ठग | अन्ना सरीखे त्यागी और सदाचारी को भ्रष्टाचारी बताता हूँ फिर भी बेशर्मी की हद लांघते हुए लाज और शर्म से गड़ नहीं जाता हूँ | राष्ट्रभक्तों के लिए ओछे शब्दों का प्रयोग मुझे सुहाता है मगर लादेन के लिए इस नापाक जुबान पर ओसामाजी शब्द ही आता है |

वैसे मैं बहुत उदारमना हूँ ; जरूरत पर झुका हूँ ,जरूरत पर तना हूँ | मौका आने पर सांप-नेवले-सी दुश्मनी भी भुला देता हूँ ; गरज पड़े तो गधे को भी गले लगा लेता हूँ | चुनावों में दर-दर पर दंड पेलता हूँ , कुर्सी के खातिर सारे खेल खेलता हूँ | कल बजाता था जिसके लिए ताली , आज देता हूँ उसको गाली : कल जिसे जी भरकर कोसा , आज बनाना पड़ा उसे मौसा | मैं राजनीति में करता हूँ दिखावे की सेवा ; उड़ाता हूँ माल, खाता हूँ मेवा ही मेवा|

मेरा दिल आजकल घबराया हुआ है ; मुझ पर भारी संकट आया हुआ है| भारत की जनता जाग रही है, गफलत को त्याग रही है| देश में पैदा हो रहे है फिर से गाँधी ; उड़ा रही है मेरे सपनों को अन्ना की आंधी | डर लगता है कहीं जनता न उमेठे मेरे कान; ठप्प न पड़ जाय कहीं सियासत की दुकान| काश यह जागरण का शंख बंद हो जाय, देश की जनता फिर सो जाय | अन्ना की आंधी ने मेरे सब सुख-चैन चुरा लिए ; सपने में भी आवाज आती है तेरा क्या होगा कालिए ?

3 thoughts on “व्यंग्य/ अथ नेता उवाच

  1. बहुत खूब , मजा आ गया | आज के नेताओं की सही स्थिति बयान की है | धन्यवाद |

  2. यह व्यंग्य है या नेताओं के अंतर की आवाज.जब नेता कहता है की “डर लगता है कहीं जनता न उमेठे मेरे कान; ठप्प न पड़ जाय कहीं सियासत की दुकान” तो दिल में यही उभरता है की नेता की बात सच हो जाए.

Leave a Reply

%d bloggers like this: