अधर्म है धर्म के नाम पर समाज को बांटना