अपवित्र जीवात्मा