इरोम शर्मीला

अपने ही समाज से दो बार हारीं इरोम शर्मीला

ये तो स्पष्ट है कि इरोम ने चुनाव इन्हीं अपनों के भरोसे लड़ा था | 16 साल का उपवास भी इन्हीं अपनों के लिए रखा था | और चुनाव परिणाम से स्पष्ट हुआ वे अपने कुल 90 लोग हैं | तो फिर क्या कारण था कि उनका त्याग और उनके अपनों की ये सहानुभूति उन्हें राजनीतिक पारी में विजयी ना बना सकी | क्या 16 वर्षों का उपवास केवल इन नब्बे लोगों के लिए रखा था | वास्तव में आयरन लेडी ने अपने लिए सहानुभूति और समर्थन के कारण को ठीक से भापा नहीं |