‘ईश्वर का ध्यान करने से दुःखों की निवृत्ति होती है’