ऋषि दयानन्द

ऋषि दयानन्द और आर्यसमाज ने वैदिक धर्म का पुनरुद्धार और देशोत्थान का कार्य किया

–मनमोहन कुमार आर्य                ऋषि दयानन्द (1825-1883) के समय में सृष्टि के आदिकाल से आविर्भूत…

ऋषि दयानन्द ने आर्यसमाज की स्थापना वैदिकधर्म और संस्कृति की रक्षा, प्रचार और उन्नति के लिये की थी

-आर्यसमाज के स्थापना दिवस 10 अप्रैल पर- -मनमोहन कुमार आर्य                संसार में अनेक मत–मतान्तर…

महान मन्त्रद्रष्टा ऋषि दयानन्द के प्रति विख्यात लोगों की सम्मतियां

-मनमोहन कुमार आर्य                ऋषि दयानन्द ने वेदों का पुनरुद्धार किया और वेदों के प्रचार…

हमनें ऋषि दयानन्द के उपकारों को न तो जाना है और न उनसे उऋण होने का प्रयत्न किया है

  –मनमोहन कुमार आर्य                महाभारत युद्ध के बाद देश का सर्वविध पतन व पराभव…

ऋषि दयानन्द की संसार को देन वेदों में वर्णित ईश्वर का प्रामाणिक सत्य स्वरूप

–मनमोहन कुमार आर्य                यह निर्विवाद है कि मूल वेद संहितायें ही संसार में सबसे…

ऋषि दयानन्द व उनके अनुयायी अनेक विद्वानों ने वेदभाष्य का अविस्मरणीय कार्य किया

–मनमोहन कुमार आर्य                ऋषि दयानन्द गृह त्याग कर देश भर के हिन्दू तीर्थ स्थानों…

“परमात्मा अवतार अर्थात् कभी जन्म नहीं लेताः पं. विद्यापति शास्त्री”

मनमोहन कुमार आर्य,  आर्यसमाज धामावाला देहरादून का दिनांक 2-12-2018 का रविवारीय साप्ताहिक सत्संग सोल्लास सम्पन्न…