एक गजल -मैंने हर रोज जमाने को रंग बदलते देखा है