…और अंतिम क्षणों में गोडसे ने गांधी से कहा था- ‘नमस्ते