क्या विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र में ऐसा भी होता है?