“गुरुकुल पौंधा जाकर वहां आचार्यादि मित्रों से शिष्टाचार भेंट”