चुनावी एजेंडो में बुजुर्ग और आम समस्याए गायब