तीर्थ व दान का वैदिक सत्य स्वरूप