नामस्मरण का सच्चा स्वरूप