निराकार व इंद्रियों से अगोचर