नफ़रत की खाई पाटने में क़ानून कितना सक्षम?