पाषाण आदि मूर्तिपूजन